OYO छंटनी से प्रभावित कर्मचारियों की मदद के लिए 130 करोड़ रुपए की ईएसओपी की घोषणा की, पिछले माह से ही कंपनी के हजारों कर्मचारी हैं ‘लीव विदाउट पे’ पर

  • रितेश ने कहा कि कंपनी के सभी प्रभावित कर्मचारी ईएसओपी के लिए पात्र होंगे
  • कर्मचारियों को वेतन में 25 फीसदी कटौती का फैसला स्वीकारने के लिए कहा गया था

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 05:55 PM IST

नई दिल्ली. हॉस्पिटैलिटी फर्म ओयो कोविड-19 से प्रभावित अपने कर्मचारियों के लिए करीब 130 करोड़ रुपए खर्च करेगी। सोमवार को ओयो के संस्थापक रितेश अग्रवाल द्वारा कर्मचारियों को भेजे गए इंटरनल मेल में कर्मचारियों के लिए कर्मचारी स्टॉक स्वामित्व योजना (ESOP) की घोषणा की बात कही गई है। 

मुश्किल घड़ी में कर्मचारियों दिखा कंपनी के प्रति लगाव और जुनून

कंपनी ने अपने ईमेल में कहा है, ‘मुश्किल हालात के समय मैंने अपने कर्मचारियों में धैर्य, कंपनी के प्रति लगाव और जुनून को देखा है। रितेश ने कहा कि मैं आप सभी को यह बताना चाहता हूं कि कंपनी ईएसओपी योजना शुरू कर रही हैं। कर्मचारियों की मदद के लिए कंपनी 130 करोड़ रुपए खर्च करेगी। रितेश ने कहा कि कंपनी के सभी प्रभावित ओयो कर्मचारी ईएसओपी के लिए पात्र होंगे। 

‘लीव विदाउट पे’ पर है कंपनी के कुछ कर्मचारी 

हाल ही में कंपनी के संस्थापक और समूह के सीईओ रितेश अग्रवाल ने अपने कर्मचारियों को एक लेटर और वीडियो मैसेज में कहा था कि कंपनी वैश्विक स्तर पर कुछ संख्या में कर्मचारियों को बिना वेतन के छुट्टी पर भेज रही है। साथ ही कर्मचारियों को वेतन में 25 फीसदी कटौती का फैसला स्वीकारने के लिए कहा गया था। कंपनी ने प्रभावित कर्मचारियों की संख्या के बारे में कोई विवरण साझा नहीं किया था।

लेकिन कंपनी का फैसला हजारों कर्मचारियों को प्रभावित किया है। बता दें कि 25 मार्च से देशव्पायी लाॅकडाउन के चलते होटल और ट्रैवेल इंडस्ट्री पूरी तरह से ठप है, जिसका सीधा असर ओला और उबर सहित ओयो, जोमैटो, स्विगी जैसी कंपनियों पर पड़ा है।