6 फुटबॉल लीग पूरी नहीं हो सकीं, टॉप टीमें चैम्पियन बनीं; जीत मिलने पर भी खिलाड़ियों ने जश्न नहीं मनाया

  • यूरोप की टॉप-5 लीग में शामिल फ्रेंच लीग-1 को भी कोराेना के कारण रद्द कर दिया गया था
  • पिछली बार खूब मनाया था जश्न, इस बार क्लब के मौका देने पर भी खिलाड़ियों ने जश्न नहीं मनाया

रॉरी स्मिथ

Jun 24, 2020, 07:10 AM IST

न्यूयॉर्क. पिछली बार सिमोन मिग्नोलेट मैड्रिड में पोडियम पर चैंपियंस लीग चैंपियन बनने का जश्न मना रहे थे, मेडल उनके गले में था, लिवरपूल के साथियों के साथ वे मैदान पर चारों ओर घूमकर फैंस का शुक्रिया कर रहे थे, फैंस लाल जर्सी में विजेता टीम को चीयर कर रहे थे, पार्टी अगले दिन तक चली थी।

लेकिन इस बार, चीजें बदली हुई हैं। मिग्नोलेट घर पर थे, तभी उनके मोबाइल स्क्रीन पर मैसेज आया। यह वॉट्सऐप मैसेज उनके नए क्लब ब्रजेस के लाइजनिंग ऑफिसर का था। बेल्जियम के मिग्नोलेट ने पिछले ट्रांसफर सीजन में लिवरपूल छोड़कर घरेलू क्लब ब्रजेस ज्वाइन कर लिया था। यह मैसेज क्लब के सभी साथियों के पास गया। मैसेज था- सीजन कैंसिल हो गया है और हम विजेता घोषित कर दिए गए हैं। यह पहला मौका था, जब मिग्नोलेट ने नेशनल चैंपियनशिप जीती थी।

मिग्नोलेट कहते हैं, ‘यह कुछ जीतने की, कुछ हासिल करने की भावना जैसा था। इस टाइटल को जीतने के पहले लगता था कि कुछ कमी है। लेकिन इसे जीतने के बाद महसूस हुआ कि मैंने कोई परीक्षा पास कर ली हो या फिर मुझे ड्राइविंग लाइसेंस मिल गया हो।’  

खिलाड़ियों को मैसेज से बताया गया कि वह चैंपियन बन गए
पिछले कुछ हफ्तों में यूरोप के दर्जनों खिलाड़ी इसी दौर से गुजर चुके हें, जिससे मिग्नोलेट और उनके साथी गुजरे। कई खिलाड़ियों को मैसेज के जरिए ही उनके चैंपियन बनने की खबर मिली। क्लब ब्रजेस पहली टीम थी, जिसे मैसेज के जरिए यह खबर मिली। उसके बाद कई अन्य क्लब इससे जुड़ गए।

फ्रांस की सरकार ने घरेलू फुटबॉल लीग लीग-1 को कैंसिल कर दिया और पेरिस सेंट जर्मेन (पीएसजी) टॉप पर रहने के कारण चैंपियन घोषित कर दिया गया। सभी टीमों के खिलाड़ियों ने भी वही अनुभव किया, जो मिग्नोलेट ने किया था। उन्हें अपने खेल पर गर्व हुआ, उपलब्धि पर संतुष्टि मिली, चैंपियन बनने पर खुशी हुई- लेकिन उनकी ये सभी भावनाएं आपस में मिली-जुली थीं। क्योंकि उन्होंने ऐसे तो जीतने की उम्मीद नहीं की थी।

अधिकतर क्लब ने जश्न मनाने का मौका दिया

अधिकतर क्लबों ने अपने खिलाड़ियों को जीत का जश्न मनाने का भी मौका दिया। मिग्नोलेट और उनके क्लब ब्रजेस के साथियों को कुछ हफ्ते बाद ट्रेनिंग सेंटर पर ट्रॉफी भी दी गई। सभी ने ट्रॉफी के साथ फोटो भी ली और स्पीच भी दी। वहीं, स्कॉटलैंड में सेल्टिक के कप्तान स्कॉट ब्राउन को न सिर्फ ट्रॉफी दी गई, बल्कि ट्रॉफी हर खिलाड़ी के घर भी ले जाई गई, ताकि पूरा परिवार यह खुशनुमा पल महसूस कर सके।

यह स्कॉट ब्राउन की सेल्टिक के साथ 10वीं चैंपियनशिप थी जबकि बतौर कप्तान लगातार नौवीं। ब्राउन, मिग्नोलेट, लूसी ब्रॉन्ज सभी चैंपियन बनना चाहते थे। यह एक ऐसी चीज थे, जो ये लोग चाहते थे। लेकिन शायद ऐसे नहीं। मिग्नोलेट कहते हैं, ‘अब मुझे अगले सीजन का इंतजार है। अब मेरी इच्छा है कि नया सीजन जल्द शुरू हो, हम जीतें और साथियों और फैंस के साथ वैसा जश्न मनाएं, जो पहले मनाते थे।’

स्कॉटलैंड के क्लब सेल्टिक ने 9वीं बार खिताब पर कब्जा किया
स्कॉटलैंड के क्लबों ने भी आगे न खेलने का फैसला किया था। सेल्टिक को विजेता घोषित कर दिया गया था। सेल्टिक नौवीं बार चैंपियन बना था। फ्रेंच क्लब लियोन, इंग्लिश क्लब चेल्सी और स्पेनिश क्लब बार्सिलोना की महिला टीमों के भी सीजन पूरे नहीं हुए और उन्हें विजेता घोषित कर दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *