2020 में वैश्विक स्तर पर मोबाइल फोन शिपमेंट में 14.6% की गिरावट रहेगी, स्मार्टफोन की शिपमेंट पर भी पड़ेगा असर

  • इस साल मोबाइल फोन की करीब 1.3 बिलियन यूनिट के शिपमेंट का अनुमान
  • वर्ष 2020 में पर्सनल कम्प्यूटर शिपमेंट में भी 10.5 फीसदी की गिरावट रहेगी

दैनिक भास्कर

May 26, 2020, 03:35 PM IST

नई दिल्ली. कोविड-19 के नकारात्मक प्रभाव के कारण 2020 में कुल मोबाइल फोन शिपमेंट में 14.6 फीसदी तक की गिरावट हो सकती है। वहीं स्मार्टफोन शिपमेंट में वार्षिक आधार पर 13.7 फीसदी की गिरावट हो सकती है। ग्लोबल रिसर्च फर्म गार्टनर की ओर से मंगलवार को जारी किए गए अनुमान में यह बात कही गई है। गार्टनर के अनुमान के अनुसार, इस साल करीब 1.3 बिलियन यूनिट का शिपमेंट होगा।

इस साल फोन अपग्रेडेशन रहेगा धीमा: रणजीत अटवाल

गार्टनर के सीनियर रिसर्च डायरेक्टर रणजी अटवाल ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सहकर्मियों, साथियों, दोस्तों और परिवारों से संपर्क करने के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल ज्यादा हो गया है। लेकिन आय में कमी के कारण इस साल ग्राहकों की ओर से फोन अपग्रेडेशन का कार्य धीमा रहेगा। इसका परिणाम यह होगा कि 2018 के 2.5 वर्ष के मुकाबले 2020 में फोन की जीवनअवधि बढ़कर 2020 में 2.7 वर्ष हो जाएगी।

2020 में कुल शिपमेंट में 5जी फोन की भागीदारी 11 फीसदी रहेगी

गार्टनर के रिसर्च वाइस प्रेसीडेंट एनेट जिम्मरमन ने कहा कि पहले अनुमान जताया जा रहा था कि 2020 में फोन रिप्लेसमेंट में सस्ते 5जी फोन की भागीदारी बढ़ेगी, लेकिन मौजूदा हालात में ऐसे संभव नहीं दिख रहा है। 2020 में कुल मोबाइल फोन शिपमेंट में 5जी फोन की भागीदारी 11 फीसदी रहने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि कुछ फ्लैगशिप 5जी फोन्स की डिलीवरी भी एक प्रमुख मुद्दा है। 5जी फोन के महंगे होने के साथ 5जी जियोग्राफिकल कवरेज की कमी भी 5जी फोन को चुनने में नकारात्मक असर डालेगी।

पीसी, टैबलेट और मोबाइल फोन शिपमेंट में 13.6 फीसदी की गिरावट की संभावना

गार्टनर के अनुमान के मुताबिक, 2020 में पर्सनल कम्प्यूटर (पीसी), टैबलेट और मोबाइल फोन्स की ग्लोबल शिपमेंट में 13.6 फीसदी की गिरावट रह सकती है। इस साल पीसी शिपमेंट में 10.5 फीसदी की गिरावट रहेगी। 2020 में पीसी मार्केट के मुकाबले नोटबुक, टैबलेट और क्रोमबुक्स के शिपमेंट में ज्यादा गिरावट का अनुमान जताया गया है। हालांकि, कोविड-19 के कारण वर्क फ्रॉम होम और ई-लर्निंग बढ़ने के कारण इस साल नोटबुक्स, क्रोमबुक्स और टैबलेट्स पर लोग ज्यादा खर्च करेंगे।