हरभजन सिंह ने कहा- बीसीसीआई सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट से बाहर चल रहे खिलाड़ियों को विदेशी क्रिकेट लीग में खेलने की मंजूरी दे

  • हरभजन सिंह बोले- बोर्ड को ऐसे खिलाड़ियों को विदेशी क्रिकेट लीग में खेलने की इजाजत देनी चाहिए जो 50 टेस्ट खेल चुके हैं
  • हरभजन सिंह से पहले सुरेश रैना और इरफान पठान भी इस तरह की मांग कर चुके हैं

दैनिक भास्कर

Jun 14, 2020, 05:53 PM IST

भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह ने कहा कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट लिस्ट में शामिल नहीं होने वाले खिलाड़ियों को विदेशी क्रिकेट लीग में खेलने की मंजूरी दे। यह बात उन्होंने पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा के यूट्यूब चैनल पर कही।
उन्होंने कहा कि बोर्ड को ऐसे खिलाड़ियों को विदेशी क्रिकेट लीग में खेलने की इजाजत देनी चाहिए, जो 50 टेस्ट खेल चुके या जिनकी उम्र 35 साल से ज्यादा हो चुकी है। इसके लिए बोर्ड को नियम बनाने चाहिए।

सुरेश रैना और इरफान पठान भी कर चुके हैं ऐसी मांग
हरभजन सिंह से पहले ऑलराउंडर सुरेश रैना और पूर्व तेज गेंदबाज इरफान पठान भी इस तरह की मांग कर चुके हैं। उन्होंने भी कहा था कि बीसीसीआई को उन खिलाड़ियों को विदेशी लीग में खेलने की इजाजत देनी चाहिए, जिनके अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने की संभावना नहीं है और जो 30 साल से ज्यादा उम्र के हो चुके हैं।
 
टीम से बाहर करने से पहले बात करना चाहिए था: हरभजन
हरभजन ने कहा कि बोर्ड और सिलेक्टर्स को उन्हें टीम से बाहर करने से पहले बताना चाहिए था। मै बहुत भाग्यशाली हूं कि मैंने 100 से ज्यादा टेस्ट खेले। जब आप लंबे समय से देश के लिए खेल रहे हैं, तो आप बेहतर विदाई के साथ टीम से बाहर होने के हकदार हैं। 

‘मैं वेस्टइंडीज से लौटा और मुझे टीम से ड्रॉप कर दिया’
इस स्पिनर ने कहा कि मैं मानता हूं कि मेरा प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं था, लेकिन इसे बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था। कोई भी मुझसे बात करने नहीं आया। मैं वेस्टइंडीज से 400 विकेट के साथ लौटा और टीम से ड्रॉप कर दिया और फिर कभी भी टेस्ट क्रिकेट में वापसी नहीं हुई।

2016 से टीम से बाहर हैं हरभजन
हरभजन सिंह ने 103 टेस्ट, 236 वनडे और 28 टी-20 मैच खेले हैं। उन्होंने टेस्ट में 417 और वनडे में 298 विकेट लिए हैं। वे साल 2016 से टीम से बाहर चल रहे हैं। उन्होंने पिछला टेस्ट श्रीलंका के खिलाफ 2015 में खेला था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *