स्टॉक ट्रेडर्स होना निवेशक होने से पूरा अलग है, अनुभव के साथ समर्पण और शिक्षा के साथ अनुशासन बहुत जरूरी है

  • सफल व्यापारी अपने व्यापार को सीखने और बेहतर बनाने के अवसर के रूप में लेता है
  • किसी भी व्यापार में एक सफल व्यापारी हमेशा व्यापार घाटे को चालाकी से संभालता है।

दैनिक भास्कर

Jun 13, 2020, 08:04 PM IST

मुंबई. स्टॉक ट्रेडर्स बाजार में नियमित निवेशकों से काफी अलग होते हैं। वे शेयरों में तुरंत लाभ कमाने की रणनीतियों को समझते हैं और बाजार के साथ सक्रिय रूप से जुड़े होते हैं। उन्हें व्यक्तिगत अनुशासन और ध्यान के साथ बाजार और behavioural finance की पूरी तरह से समझ होती है जो व्यापार में सफलता के लिए आवश्यक है। अनुशासन, समर्पण, शिक्षा और अनुभव स्टॉक ट्रेडिंग में सफल होने के लिए अनुशासन, समर्पण, शिक्षा और अनुभव जैसी बातों पर ध्यान देना चाहिए।

तो ट्रेडर होने में क्या लगता है? और कुछ आवश्यक नियम क्या हैं जिन्हें एक अच्छा ट्रेडर बनने के लिए उसे अपनाना चाहिए?

ट्रेडिंग एक जरूरत है, जुआ नहीं 

सबसे पहले यह जान लेना बहुत ही आवश्यक है कि ट्रेडिंग एक जरूरत है, जुआ नहीं। एक ट्रेडर अपने व्यवहार को गंभीर बिजनेस के रूप में देखता है। मार्केट और ट्रेडिंग पर दांव लगाने के बीच बहुत मामूली फर्क होता है। ट्रेडिंग के लिए बाजार के रुझानों की भविष्यवाणी करने के लिए गणित की गिनती के एप्लीकेशन और टेक्निकल एनालिसिस की आवश्यकता होती है।

आवश्यक ज्ञान इस क्षेत्र में सफलता के लिए बहुत जरूरी है। जीवन के किसी भी सीख की तरह जितना ज्यादा ज्ञान और अनुभव आपके पास होगा आपकी सफलता का अवसर उतना ज्यादा होगा।

आप प्लान बनाने में फेल हैं तो आप फेल होने का प्लान बनाते हैं

बिजनेस में एक पुरानी कहावत है: यदि आप प्लान बनाने में फेल रहते हैं, तो आप फेल होने का प्लान बनाते हैं। यह अजीब लग सकता है, लेकिन ट्रेडर्स को इन शब्दों का पालन करना चाहिए। एक ट्रेडिंग प्लान अनिवार्य रूप से एक स्ट्रक्चर है जो बाजार में पूरी प्रक्रिया से एक ट्रेडर को मार्गदर्शन करता है। प्लान उन शर्तों को निर्धारित करती है जिनके तहत कोई ट्रेड में प्रवेश करेगा। बाजार की पहचान करेगा। ट्रेड से बाहर निकलेगा और रास्ते में जोखिमों से बचाव करेगा।

यह जानना कि किसी व्यापार से बाहर कब निकलना है, यह जानना उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि कब प्रवेश करना है।

इमोशनल से दूरी और तनाव मुक्त होना जरूरी

ट्रेडिंग एक इमोशनल रोलर-कोस्टर हो सकता है। इसलिए तनाव मुक्त रहना जरूरी है। कई नौसिखिए ट्रेडर उस इमोशनल रोलर-कोस्टर की सवारी करते हैं, जो जीत के बाद दुनिया के टॉप पर महसूस करते हैं और नुकसान के बाद धड़ाम से नीचे आ जाते हैं। इसलिए, तनाव का स्तर जितना कम होगा, ट्रेड करते समय आप इमोशनल से बचे रहेंगे।

अवसरों का इंतजार करना ज्यादा जरूरी है

कई बार एक बहुत ही उबाऊ गतिविधि हो सकती है। आपको धैर्य रखने की जरूरत है, क्योंकि सही अवसरों की प्रतीक्षा करना ज्यादा महत्वपूर्ण होता है। हमेशा ध्यान में रखने वाला नियम यह है कि उस पैसे के साथ व्यापार मत करिए जिसे आप खोना बर्दाश्त नहीं कर सकते। मुश्किल वक्त के लिए रखे गए धन से बिजनेस करेंगे तो इस बात की संभावना बढ़ जाएगी कि आप इमोशनल रूप से जुड़े रहेंगे। यह आपको जोखिम की स्थिति में डाल सकता है। यह आपको तर्कहीन निर्णय लेने के लिए बाध्य कर सकता है।

नुकसान बिजनेस का हिस्सा है, उससे सीखें, आगे बढ़ें

यह भी महत्वपूर्ण बात है कि हम कैसे नुकसान को झेलते हैं और कैसा जवाब देते हैं। यह नुकसान से अधिक महत्वपूर्ण है । जब आप अपने नुकसान को स्वीकार करते हैं और उससे सीखते हैं। आप पाएंगे कि आप अपने नुकसान में कटौती करने में सक्षम होते हैं। बेहतर व्यापार के लिए अपनी योग्यता को सीखने और विकसित करने के लिए प्रेरणा के रूप में अपने नुकसान का उपयोग करें। बेशक, नुकसान व्यापार का हिस्सा है, उन्हें स्वीकार करें, उनसे सीखें और आगे बढ़ें।

बाजार न तो आपके लिए है, ना आपके खिलाफ है। बाजार जो है वही है

किसी ने ठीक ही कहा है कि व्यापार हर किसी की चाय का प्याला नहीं है। एक सफल व्यापारी हमेशा व्यापार घाटे को चालाकी से संभालता है। सफल व्यापारी अपने व्यापार को सीखने और बेहतर बनाने के अवसर के रूप में लेता है। एक सफल व्यापारी बनने के लिए, आपको अपने जोखिम प्रोफ़ाइल के साथ बिजनेस की स्ट्रेटेजी में तालमेल बिठाने पर ध्यान लगाने  की कोशिश करनी चाहिए। बाजार न तो आपके लिए है, न आपके खिलाफ है। बाजार जो है, वही है।