सरकारी कंपनी एनटीपीसी के शुद्ध लाभ में 71.21 प्रतिशत की गिरावट, चौथी तिमाही में मुनाफा घटकर 1,254.44 करोड़ रुपए हुआ

  • 27 सालों से लगातार डिविडेंड दे रही है एनटीपीसी, इस बार 50 पैसे प्रति शेयर की घोषणा
  • साल भर में कंपनी का शुद्ध लाभ 13.93 प्रतिशत गिरकर 10,112.81 करोड़ रुपए रहा

दैनिक भास्कर

Jun 27, 2020, 07:21 PM IST

मुंबई. सरकारी क्षेत्र की कंपनी एनटीपीसी के शुद्ध लाभ में 71.21 प्रतिशत की गिरावट आई है। चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में मुनाफा 1,254.44 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले इसी अवधि में यह 4,350.32 करोड़ रुपए था। कंपनी ने शनिवार को वित्तीय परिणाम जारी किया।

बिक्री 25 प्रतिशत बढ़कर 28,278 करोड़ रुपए हुई

कंपनी ने बताया कि इसी अवधि में बिक्री 25.43 प्रतिशत बढ़कर 28 हजार 278 करोड़ रुपए रही है। एक साल पहले समान अवधि में यह 22 हजार 545 करोड़ रुपए थी। पूरे साल की बात करें तो शुद्ध लाभ 13.93 प्रतिशत गिरकर 10 हजार 112.81 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले समान अवधि में यह 11 हजार 749.89 करोड़ रुपए रहा है। इसी अवधि में कुल आय 9 प्रतिशत बढ़कर एक लाख 4 हजार 78 करोड़ रुपए रही है। एक साल पहले यह 92 हजार 179 करोड़ रुपए थी।

कुल जनरेशन क्षमता 62 हजार 119 मेगावाट

कंपनी के बोर्ड ने 2.65 रुपए प्रति इक्विटी शेयर का डिविडेंड घोषित किया है। जबकि 0.50 रुपए प्रति इक्विटी शेयर का इंटरिम डिविडेंड घोषित किया है। यह लगातार 27 वां साल है, जब कंपनी डिविडेंड की घोषणा की है। एनटीपीसी देश की सबसे बड़ी पावर जनरेटर कंपनी है। इसकी कुल क्षमता 62 हजार 110 मेगावाट की है। वित्त वर्ष में कंपनी ने 8,260 मेगावाट कमर्शियल कैपासिटी को जोड़ा है। इसमें 2,970 मेगावाट इसने टीएचडीसी और एनईईपीसीओ से अधिग्रहण किया है।

वित्त वर्ष 2020 में कंपनी का ग्रॉस जनरेशन 290.19 अरब यूनिट रहा है। एक साल पहले यह 305.90 अरब यूनिट था। इसके कोल यूनिट का लोड फैक्टर 68.20 प्रतिशत था जो राष्ट्रीय औसत 55.89 प्रतिशत से ज्यादा है।