विदेश में फंसे भारतीयों को अब प्राइवेट एयरलाइंस से भी स्वदेश वापस लाया जाएगा, जल्द हो सकती है घोषणा

  • वंदे भारत मिशन में शामिल होने से वित्तीय संकट से जूझ रहीं विमानन कंपनियों को राहत मिलेगी
  • एयरलाइंस को किसी भी प्रकार की उड़ान भरने से पहले DGCA से परमिशन लेनी होगी

दैनिक भास्कर

May 20, 2020, 07:14 PM IST

नई दिल्ली. केन्द्र सरकार की वंदे भारत मिशन में अब प्राइवेट एयरलाइंस को भी शामिल किया जा सकता है। फिलहाल वंदे भारत मिशन में सरकारी एयरलाइन कंपनी एअर इंडिया और एअर इंडिया एक्सप्रेस महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। बता दें कि वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे हुए भारतीयों को वापस देश में लाया जा रहा है। ये वो लोग हैं कोरोनावायरस के कारण मार्च में घोषित हुए लॉकडाउन के कारण विदेश में फंस गए हैं।

कम दूरी के उड़ानों पर फोकस करेंगी प्राइवेट एयरलाइंस
ईटी की खबर के मुताबिक, नई योजना के तहत सरकारी एयरलाइन कंपनी लंबी दूरी वाली उड़ान पर फोकस करेंगी जबकि प्राइवेट एयरलाइंस कम दूरी वाले उड़ानों पर फोकस करेंगी। एयरलाइंस को किसी भी प्रकार की उड़ान भरने से पहले डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविए एविएशन (DGCA)से परमिशन लेनी होगी। मंत्रालय की एक बैठक के दौरान इस मुद्दे पर चर्चा की गई है। इस संबंध में सरकार जल्द ही घोषणा कर सकती हैं।

वित्तीय संकट से उबरने में मिलेगी मदद
सरकार के इस प्लान में प्राइवेट एयरलाइंस को शामिल करने से वित्तीय संकट से जूझ रहीं कंपनियों को राहत मिलेगी। कमाई के साधन उपलब्ध होंगे और वे नागरिकों को कम किराए पर टिकट उपलब्ध करा सकती हैं। एक एयरलाइंस अधिकारी के अनुसार ये वित्तीय रूप से कठिनाई का सामना कर रही कंपनियों के लिए अच्छा कदम है। यह माना जा रहा है कि ये कदम इसलिए उठाया गया है क्योंकि 20 लाख करोड़ रुपए का राहत पैकेज वित्तीय रूप से डूब रहे विमानन उद्योग को राहत प्रदान करने में असफल रहा है।

फ्लाइट का किराया यात्रियों को खुद देना है
बता दें कि वंदे भारत मिशन के तहत भारत लौट रहे लोगों को फ्लाइट का किराया और क्वारैंटाइन का खर्च खुद उठा रहे हैं। इस मिशन में बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं, छात्रों, बीमारों या फिर उन लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है जिनके घर में किसी की मौत हो गई है या फिर कोई गंभीर रूप से बीमार है।

25 मई से घरेलू उड़ानों की शुरुआत होगी
देश में 62 दिनों के बाद 25 मई से घरेलू उड़ानों की शुरुआत होगी। नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने इस बारे में बताया। उन्होंने कहा- सभी एयरपोर्ट्स और एयरलाइन कंपनियों को 25 मई से ऑपरेशंस शुरू करने के बारे में बताया जा रहा है। मंत्रालय पैसेंजर मूवमेंट के लिए अलग से स्टैंडिंग ऑपरेटिंग प्रोसिजर्स जारी करेगा। देश में अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 23 मार्च और घरेलू उड़ानें 25 मार्च से बंद हैं। उड्डयन मंत्रालय ने पिछले दिनों कंपनियों को टिकटों की बुकिंग नहीं करने के लिए कहा था। लॉकडाउन फेज-4 में उड़ानों पर प्रतिबंध जारी रहेगा।