विदेशी निवेशक भारत से हुए रुसवा, 20 लाख करोड़ रुपए के आत्मनिर्भर भारत पैकेज की घोषणा के बाद से लगातार शेयर बाजार में की बिक्री

  • 1-15 मई तक एफपीआई ने कैश व डेरीवेटिव में जितने की बिक्री की, उसकी 40 % बिक्री सिर्फ 6 सत्रों में कर दी
  • FPI ने 4 दिनों में कैश में 6,486 करोड़, इंडेक्स फ्यूचर में 2,869 करोड़ और स्टॉक फ्यूचर में 737 करोड़ की बिक्री की

दैनिक भास्कर

May 18, 2020, 07:27 PM IST

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 12 मई को 20 लाख करोड़ रुपए के आत्मनिर्भर भारत पैकेज की घोषणा किए जाने के बाद विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों(एफपीआई) ने भारतीय शेयर बाजारों में बिक्री शुरू कर दी। मई में पिछले सप्ताह शुक्रवार तक एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजार के कैश और डेरीवेटिव सेगमेंट में जितने की बिक्री की है, उसकी करीब 40 फीसदी बिक्री मंगलवार से शुक्रवार तक सिर्फ चार कारोबारी सत्रों में कर दी। यह बात शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़ों को देखने से पता चलता है। सप्ताहांत के बाद सोमवार को भी बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई है।

4 दिनों में कैश में 6,486 करोड़, इंडेक्स में 2,869 करोड़ और स्टॉक फ्यूचर में 737 करोड़ की बिक्री
एफपीआई ने चार दिनों में शेयर बाजार के कैश सेगमेंट में 6,486 करोड़ रुपए की, इंडेक्स फ्यूचर में 2,869 करोड़ रुपए की और स्टॉक फ्यूचर सेगमेंट में 737 करोड़ रुपए की बिक्री की। मंगलवार को दोपहर में यह खबर आई थी कि प्रधानमंत्री शाम आठ बजे देश को संबोधित करेंगे। उसी समय से विदेशी निवेशकों ने बिक्री शुरू कर दी। मंगलवार से शुक्रवार तक किसी भी दिन एफपीआई बाजार में शुद्ध खरीदार नहीं रहे। यानी जितने की खरीदारी की, उससे ज्यादा की बिक्री कर दी।

निफ्टी और बैंक निफ्टी में लगातार गिरावट
निफ्टी और बैंक निफ्टी 12 मई से लगातार एफपीआई की ओर से की जा रही बिकवाली का सामना कर रहे हैं। ये दोनों देश के सर्वाधिक ट्रेडिंग वाले डेरीवेटिव उत्पाद हैं। मंगलवार से शुक्रवार तक के चार दिनों में निफ्टी में 5.6 फीसदी और बैंक निफ्टी मं 7.15 फीसदी गिरावट आई। 13 मई को निफ्टी ने 9,584 का ऊपरी स्तर छुआ था। 15 मई को 534 अंकों की गिरावट के साथ इसने 9,050 का निचला स्तर छू लिया। इसी तरह से, इसी दौरान बैंक निफ्टी ने भी 20,122 के ऊपरी स्तर से 1,440 अंक गिरकर 18,663 का निचला स्तर छू लिया। जबकि इन चार दिनों में वैश्विक बाजारों में स्थिरता देखी गई।