वित्त मंत्री ने शहरी गरीबों और प्रवासी मजदूरों को सस्ते मकान और कम किराए वाली आवासीय सुविधा की सौगात दी

  • मध्य आय वालों के लिए क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी योजना की अवधि 31 मार्च 2021 तक बढ़ी
  • स्कीम की अवधि बढ़ाए जाने से ढाई लाख नए परिवार कम कीमत में मकान हासिल कर सकेंगे

दैनिक भास्कर

May 14, 2020, 09:32 PM IST

नई दिल्ली. बीस लाख करोड़ के राहत पैकेज के ब्रेकअप की दूसरी किस्त में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को कम कीमत वाले आवास और शहरी गरीबों के लिए कम किराए वाले आवास की दो योजनाओं को भी शामिल किया। उन्होंने अप्रवासी मजदूरों और शहरी गरीबों को सस्ते किराए पर मकान दिलवाने की योजना और ऐसे मकान बनाने पर रियायत देने का ऐलान किया। यहां हम बता रहें हैं कि इन दोनों योजना में क्या, किसे, कितना और कब मिलेगा।

हाउसिंग सेक्टर को 70,000 करोड़ रुपए का बूस्टर डोज
वित्त मंत्री ने हाउसिंग सेक्टर और मध्य आय समूह को 70,000 करोड़ रुपए की सौगात दी। यह सौगात क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम (सीएलएसएस) की अवधि बढ़ाकर दी गई। मध्य आय समूह के लिए यह योजना मई 2017 में लागू की गई थी। सीएलएसएस की विस्तारित अवधि 31 मार्च 2020 को समाप्त हो गई थी।

क्या है योजना : क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम को मार्च 2021 तक बढ़ा दिया गया। योजना की अवधि बढ़ाने से हाउसिंग सेक्टर में 70,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा।

किसे मिलेगा फायदा : मध्य आय समूह को इस योजना का फायदा मिलेगा। इसके तहत वे लोग आएंगे, जिनकी सालाना आय 6-18 लाख रुपए है।

कितने लोगों को मिलेगा फायदा : इस योजना के तहत अब तक 3.3 लाख परिवारों को फायदा मिल चुका है। स्कीम की अवधि एक साल और बढ़ा देने से अब 2.5 लाख नए परिवार इसका फायदा उठा पाएंगे। साथ ही हाउसिंग सेक्टर में तेजी आने से गरीबों को बड़े पैमाने पर रोजगार भी मिलेगा।

कब तक है मौका : 31 मार्च 2021 तक योजना की अवधि बढ़ा दी गई है।

अर्थव्यवस्था में कैसे आएगी तेजी : हाउसिंग सेक्टर में 70,000 करोड़ रुपए का निवेश होगा। मकानों का निर्माण होने से स्टील और सीमेंट जैसे उत्पादों की मांग बढ़ेगी। कंस्ट्रक्शन कार्य में तेजी आएगी। ट्रांसपोर्टेशन सेक्टर को लाभ मिलेगा। इनसे जुड़े हर सेक्टर में कारोबारी गतिविधियां बढ़ेंगी। इससे रोजगार भी बढ़ेगा।

शहरी गरीबों के लिए अफोर्डेबल रेंट योजना

सरकार ने प्रवासी मजदूरों और शहरी गरीबों के लिए अफोर्डेबल रेंटल अकोमोडेशन योजना की भी घोषणा की। इस योजना को पीएम आवास योजना के तहत कार्यान्वित किया जाएगा। इसे लागू करने में सरकारी-निजी भागीदारी का मॉडल अपनाया जाएगा।

क्या है योजना : सरकार पीएम आवास योजना के तहत अफोर्डेबल रेंटल अकोमोडेशनयोजना लॉन्च करेगी

किसे मिलेगा लाभ : शहरी गरीबों और प्रवासी मजदूरों को कम किराए पर रहने की सुविधा मिलेगी।

योजना में क्या है विशेष सुविधा :
⦁ इस योजना के तहत निजी कैम्पस में निर्माण पर मैन्युफैक्चरिंग इकाईयों को छूट या अन्य सुविधा जैसे प्रोत्साहन दिए जाएंगे।
⦁ अतिरिक्त घर बनाने के लिए खाली सरकारी जमीनों को उपलब्ध कराया जाएगा।
⦁ योजना को लागू करने में पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मॉडल को अपनाया जाएगा।

यह भी पढ़ें
1# अगस्त तक 67 करोड़ गरीबों के लिए एक देश-एक राशन कार्ड, 8 करोड़ प्रवासी मजदूरों को 2 महीने मुफ्त अनाज, 2.5 करोड़ किसानों को 2 लाख करोड़ का कर्ज
2# सरकार 50 लाख वेंडर्स को 10 हजार रुपए तक का लोन देगी, एक महीने के अंदर शुरू होगी यह सेवा
3# 8 करोड़ मजदूरों के लिए 3,500 करोड़ रुपए, राशन कार्ड की पोर्टबिलिटी और शहरों में सस्ते किराए पर मिलेगा आवास