लाहौर में श्रीलंका टीम पर हमला और भ्रष्टाचार ने पाकिस्तान क्रिकेट को बर्बाद कर दिया: जहीर अब्बास

  • पूर्व पाकिस्तानी कप्तान जहीर अब्बास ने कहा- पाकिस्तान के भ्रष्टाचारियों ने विदेशी खिलाड़ियों को भी भ्रष्ट बनाने की कोशिश की
  • हाल ही में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने स्पॉट और मैच फिक्सिंग को लेकर सरकार से आपराधिक कानून बनाने की मांग की थी

दैनिक भास्कर

Apr 21, 2020, 11:44 AM IST

कराची. पूर्व पाकिस्तानी कप्तान जहीर अब्बास ने पाकिस्तान में बर्बाद हुए क्रिकेट को लेकर बयान दिया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) का हमेशा से ही भ्रष्टाचारियों के खिलाफ नरम व्यवहार रहा है। इसने यहां क्रिकेट को खोखला किया। वहीं, 2009 में श्रीलंका क्रिकेट टीम पर लाहौर में हुए आतंकी हमले ने तो पाकिस्तान क्रिकेट को बर्बाद ही कर दिया। हाल ही में पीसीबी ने स्पॉट और मैच फिक्सिंग को लेकर आपराधिक कानून बनाने की मांग की थी। अब्बास ने इसी मांग को लेकर यह बयान दिया है। पूर्व कप्तान ने पाकिस्तान के लिए 78 टेस्ट में 44.8 की औसत से 5062 और 62 वनडे में 47.6 की औसत से 2572 रन बनाए हैं।

जहीर ने कहा, ‘‘पाकिस्तान बोर्ड की यह बहुत अच्छी सोच है, क्योंकि हम काफी लंबे समय से भ्रष्टाचार के साथ नरम व्यवहार करते आ रहे हैं। भ्रष्टाचारियों ने पाकिस्तान में कई बड़े घोटालों को अंजाम दिया, जिसने क्रिकेट के विकास और हमारे देश की छवि को लेकर बुरी तरह नुकसान पहुंचाया है।’’ पाकिस्तान क्रिकेट में मैच फिक्सिंग के कई मामले सामने आए हैं। इनमें कुछ पूर्व टेस्ट कप्तान सलीम मलिक, दानिश कनेरिया, सलमान बट्ट, मो. आसिफ, मो. आमिर और शर्जील खान जैसे उदाहरण हैं।

‘पाकिस्तान ने कई अच्छे खिलाड़ियों को खोया’
एशिया के ब्रेडमैन नाम से मशहूर जहीर ने कहा, ‘‘यदि श्रीलंका टीम की बस पर उग्रवादी हमले ने पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा। हमारी टीम घर में नहीं खेल सकी। उसे विदेश में जाकर खेलना पड़ा। तो वहीं, कई सालों से चले आ रहे भ्रष्टाचार ने भी पाकिस्तान क्रिकेट को कम नुकसान नहीं पहुंचाया है। इतने सालों में हमने कई अच्छे खिलाड़ियों को खोया है। सबसे ज्यादा जरूरी है कि हमने दुनियाभर के क्रिकेटर को गलत संदेश भी दिया। साथ ही उन्हें भी लालच दिया और भ्रष्ट बनाने की कोशिश ही की।’’

फिक्सिंग के खिलाफ आपराधिक कानून बने: एहसान मनी
हाल ही में पीसीबी के अध्यक्ष एहसान मनी ने सरकार से फिक्सिंग के खिलाफ सख्त कानून बनाने की मांग की थी। उन्होंने कहा था, ‘‘आज के समय में हमारे पास ऐसी कोई अथॉरिटी या कानून नहीं है, जिसकी मदद से हम गवाहों को बुलाकर, बैंक खाते जांच कर या अन्य तरीकों से जांच कर सकें। मैं पहले ही सरकार को इसके (कानून बनाने) बारे में कह चुका हूं, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और श्रीलंका जैसे देशों में इसके लिए अलग से कानून बना हुआ है। इन देशों के कानून के मुताबिक, स्पॉट या मैच फिक्सिंग को अपराध माना गया है।’’

रमीज और मियांदाद ने टिप्पणी की
पूर्व पाकिस्तानी कप्तान रमीज राजा और जावेद मियांदाद ने भी पाकिस्तान क्रिकेट में मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग को लेकर तीखी टिप्पणी की थी। रमीज ने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘‘मेरा उस वक्त खून खोल गया था, जब मैंने देखा कि तेज गेंदबाद मोहम्मद आमिर को प्रतिबंध के बाद टीम में वापस ले लिया गया।’’ वहीं, मियांदाद ने मैच फिक्सर की तुलना हत्यारे से की थी। उन्होंने कहा था कि मैच फिक्सर को फांसी की सजा देनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *