रोहित ने कहा-  हम एक टीम के तौर पर आने वाले 3 में से 2 वर्ल्ड कप जीतने में कामयाब हों, यही मेरा लक्ष्य

  • रोहित शर्मा ने पिछले साल खेले गए वनडे वर्ल्ड कप में रिकॉर्ड 5 शतक लगाए थे
  • वर्ल्ड कप 2019 में भारतीय टीम को सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के हाथों हार मिली थी

दैनिक भास्कर

Apr 24, 2020, 09:38 AM IST

मुंबई. भारत के सीमित ओवर के कप्तान रोहित शर्मा ने अगले तीन में से दो वर्ल्ड कप जीतने के लक्ष्य को लेकर बात की। उन्होंने पूर्व भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह से इंस्टाग्राम पर लाइव चैट की। इस दौरान रोहित ने कहा, ‘‘मेरा व्यक्तिगत लक्ष्य है कि हम एक टीम के तौर पर आने वाले 3 में से 2 वर्ल्ड कप जीतने में कामयाब हों।’’ दरअसल, इस साल ऑस्ट्रेलिया और अगले साल भारत में टी-20 वर्ल्ड कप होना है। इसके बाद 2023 में वनडे वर्ल्ड कप होगा। भारतीय टीम 2013 चैम्पियंस ट्रॉफी के बाद से कोई आईसीसी इवेंट नहीं जीत सका।

इस बार टी-20 वर्ल्ड कप ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर तक खेला जाएगा। हालांकि, टूर्नामेंट पर कोरोनावायरस (कोविड-19) का संकट मंडरा रहा है। इस महामारी के कारण खेल जगत में जून तक के लगभग सभी टूर्नामेंट्स टाले या रद्द किए जा चुके हैं। 29 मार्च से होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को भी अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया है। रोहित शर्मा ने 32 टेस्ट में 2141, 224 वनडे में 9115 और 108 टी-20 में 2773 रन बनाए हैं। उन्होंने आईपीएल के 188 मैच में 4898 रन बनाए हैं।

‘जल्दी विकेट नहीं गंवाते तो सेमीफाइनल जीत जाते’
भारतीय टीम वनडे वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर बाहर हो गया था। इस पूरे टूर्नामेंट में रोहित शर्मा ने रिकॉर्ड 5 शतक लगाए थे। उन्होंने लगातार तीन मैच में शतक लगाए थे। 3 दोहरे शतक लगाने वाले रोहित ने इस वर्ल्ड कप में अपने खेल को थोड़ा बदला था। उन्होंने बड़े शतक लगाने की जगह टिककर बल्लेबाजी की थी। सेमीफाइनल को लेकर रोहित ने कहा, ‘‘यदि हम शुरुआती आधे घंटे तक कोई विकेट नहीं गंवाते तो भारतीय टीम यह मैच जीत सकती थी। शुरुआती 10 ओवर काफी अहम होते हैं।’’

‘कोच और कप्तान पर दबाव होता है’
उन्होंने कहा, ‘‘हम टीम में खिलाड़ियों की वापसी पर भी बात करते रहते हैं, ताकि वे अपनी जगह पक्की कर सकें। कप्तान और कोच पर किसी खिलाड़ी को मौका देने और वापसी कराने को लेकर काफी दबाव होता है। यह बहुत जरूरी है कि खिलाड़ियों को पर्याप्त मौके दिए जाएं। हमने सुना है कि किस तरह दादा (सौरव गांगुली) ने आपको (हरभजन) और यूवी (युवराज सिंह) को किस तरह समर्थन किया और टीम में वापसी कराई। इसी प्रक्रिया को मौजूदा समय में भी अपनाना चाहिए।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *