रैना का चयनकर्ताओं पर नाइंसाफी का आरोप, एमएसके प्रसाद बोले- घरेलू टूर्नामेंट में प्रदर्शन बेहद खराब, कैसे वापसी होती

  • 226 वनडे, 78 टी-20 और 18 टेस्ट खेल चुके सुरेश रैना ने पिछला मैच जुलाई 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था
  • पूर्व मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने कहा- हमारी चयन समिति टीम ने 4 साल में 200 से ज्यादा रणजी मैच देखे

दैनिक भास्कर

May 05, 2020, 05:55 PM IST

भारतीय टीम से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने हाल ही में चयनकर्ताओं पर नाइंसाफी और बगैर कारण के टीम से बाहर करने का आरोप लगाया था। वहीं, पूर्व मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ऐसा नहीं मानते। प्रसाद ने कहा कि 2018-19 में रैना का घरेलू सीजन में प्रदर्शन बेहद खराब था। उनकी खराब फार्म के कारण टीम में वापसी नहीं हो सकती थी। इससे पहले प्रसाद ने धोनी के प्रदर्शन पर भी सवाल उठाते हुए कहा था कि वर्ल्ड कप में वापसी के लिए माही को आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करना होगा।

हाल ही में रैना ने एक यूट्यूब चैनल पर कहा था, ‘‘मेरा मानना है कि चयनकर्ताओं को सीनियर के प्रति ज्यादा जिम्मेदार होना चाहिए। मेरे अंदर कोई कमी है तो मुझे इसके बारे में बताना चाहिए, ताकि मैं उसमें सुधार कर सकूं। जब तक कारण ही पता नहीं चलेगा, तब तक कोई कैसे सुधार कर सकता है।’’ भारत के लिए 226 वनडे और 78 टी-20 के अलावा 18 टेस्ट खेल चुके रैना ने पिछला मैच जुलाई 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था।

‘रैना से वापसी को लेकर निजी तौर पर चर्चा भी की थी’
पूर्व चयनकर्ता प्रसाद ने इन आरोपों को सिरे से नकार दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने उनसे (रैना) निजी तौर पर भी बात की थी। उनके साथ भविष्य में वापसी को लेकर भी चर्चा की थी। तब उन्होंने मेरी कोशिशों की तारीफ भी की थी, लेकिन अब उनकी इन बातों से हैरान हूं। मैंने खुद पिछले 4 साल लखनऊ और कानपुर में उत्तरप्रदेश के 4 रणजी मैच देखे थे। हमारी चयन समिति टीम ने 4 साल में 200 से ज्यादा रणजी मैच देखे।’’

‘रणजी और आईपीएल 2019 में रैना का प्रदर्शन खराब था’
प्रसाद ने कहा, ‘‘वीवीएस लक्ष्मण को भी 1999 में टीम से बाहर किया गया था। तब उन्होंने घरेलू क्रिकेट में 1400 रन बनाए थे। सीनियर प्लेयर से यही उम्मीद भी की जाती है। जबकि रैना ने 2018-19 में 5 रणजी मैच में सिर्फ 243 रन बनाए थे। आईपीएल 2019 के 17 मैच में भी 383 रन ही बनाए थे। यह घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन नहीं था। वहीं, युवा खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए दावेदारी मजबूत की थी।’’

एमएसके ने धोनी की जगह पंत को टी-20 वर्ल्ड कप के लिए परफेक्ट बताया था
चयन समिति ने नवंबर-दिसंबर में बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई 3 टी-20 की सीरीज के लिए धोनी को नहीं चुना था। तब मुख्य चयनकर्ता प्रसाद ने कहा था कि अब हम काफी आगे आ चुके हैं। अगले वर्ल्ड कप के लिए हमारा ध्यान सिर्फ युवाओं पर है। उन्होंने कहा था कि धोनी के उत्तराधिकारी के लिए पंत सबसे अच्छा विकल्प हैं। अगले टी-20 वर्ल्ड कप के लिए हमारा पूरा ध्यान सिर्फ पंत पर ही है। इस पर हाल ही में प्रसाद ने सफाई देते हुए कहा था कि धोनी ने खुद टीम से बाहर होकर आराम करने का फैसला किया था, इसलिए हमने पंत को मौका दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *