यूटीआई म्यूचुअल फंड के आईपीओ का मूल्य दायरा 850 से 900 रुपए के बीच हो सकता है, 3,500 करोड़ रुपए जुटाने का है लक्ष्य

  • शेयर बाजार में लिस्ट होनेवाली यूटीआई तीसरी म्यूचुअल फंड कंपनी होगी
  • एचडीएफसी और निप्पॉन लाइफ असेट मैनेजमेंट फिलहाल हैं लिस्टेड कंपनी
  • एसबीआई और आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल भी आईपीओ लाने की तैयारी में

दैनिक भास्कर

Jun 25, 2020, 10:00 AM IST

मुंबई. देश में सातवें नंबर की म्यूचुअल फंड कंपनी यूटीआई अपने आईपीओ का मूल्य प्रति शेयर 850 से 900 रुपए तय कर सकती है। कंपनी आईपीओ से 3,000-3,500 करोड़ रुपए जुटाने की योजना बना रही है। इसी हफ्ते सेबी ने इसके आईपीओ को मंजूरी दी है। पिछले हफ्ते कंपनी में स्थाई रूप से एमडी की भी नियुक्ति हो गई थी। एमडी का पद पिछले करीबन दो सालों से खाली था।

यूटीआई में चार सरकारी कंपनियां घटाएंगी हिस्सेदारी

भारतीय बाजार में अभी तक दो ही म्यूचुअल फंड कंपनियां लिस्टेड हैं। इसमें एचडीएफसी और निप्पान म्यूचुअल फंड का समावेश है। यूटीआई तीसरी कंपनी होगी जो लिस्ट होनेवाली है। यूटीआई में सरकारी कंपनियों एलआईसी, एसबीआई, पीएनबी और बैंक ऑफ बड़ौदा को अपनी हिस्सेदारी घटानी है। सेबी के मुताबिक जिन कंपनियों का खुद का म्यूचुअल फंड बिजनेस है वह किसी और कंपनी में 10 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सा नहीं रख सकती हैं।

इन चारों कंपनियों का यूटीआई में 18.5-18.5 प्रतिशत हिस्सेदारी है। बाकी की 26 प्रतिशत हिस्सेदारी विदेशी कंपनी टी रोवे प्राइस के पास है।

एलआईसी, एसबीआई और बीओबी बेचेंगे 1.05 करोड़ शेयर

जानकारी के मुताबिक एलआईसी, एसबीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) 1.05 करोड़ इक्विटी शेयर बेचेंगे। जबकि पीएनबी और टी रोवे प्राइस ऑफर फार सेल के जरिए 38.04 लाख शेयर बेचेंगे। कोटक महिंद्रा कैपिटल, एक्सिस कैपिटल, सिटीग्रुप, डीएसपी मेरिल लिंच, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, जे एम फाइनेंशियल और एसबीआई कैपिटल इस ऑफर के मर्चेंट बैंकर्स हैं।

एचडीएफसी और निप्पॉन के शेयरों में अच्छी तेजी

उधर यूटीआई के आईपीओ की खबर के बाद लिस्टेड असेट मैनेजमेंट कंपनियों के शेयरों में उछाल देखा गया। मंगलवार को निप्पान लाइफ असेट मैनेजमेंट का शेयर 9 प्रतिशत बढ़कर 309 रुपए पर बंद हुआ जबकि एचडीएफसी एएमसी का शेयर दो प्रतिशत बढ़कर 2,508 रुपए पर बंद हुआ। उधर यूटीआई के बाद देश की सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड कंपनी एसबीआई भी आईपीओ लाने की तैयारी कर रही है। इसी हफ्ते इस कंपनी का एयूएम बढ़कर 4 लाख करोड़ रुपए हो गया है। चूंकि बाजार का माहौल सही नहीं था, इसलिए इस कंपनी के आईपीओ को रोक दिया गया।

इसी हफ्ते एसबीआई म्यूचुअल फंड ने 4 लाख करोड़ के एयूएम के आंकड़े को पार किया

माना जा रहा है कि अब दिसंबर तिमाही तक इसका आईपीओ आ सकता है या फिर इस वित्त वर्ष के अंतिम तिमाही में आएगा। इसी के साथ आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल भी आईपीओ लाने की योजना बना रहा है। कंपनी हालांकि अभी तक सेबी के पास डाक्यूमेंट नहीं फाइल की है, पर माना जा रहा है कि जल्द ही लिस्टिंग की तैयारी कर सकती है। इस तरह से इस वित्त वर्ष के अंत तक भारतीय इक्विटी बाजार में कुल पांच म्यूचुअल फंड कंपनियां लिस्ट हो सकती हैं।