मैक लाइनअप के लिए खुद का प्रोसेसर बनाएगी एपल, साल के अंत तक बाजार में आएगा एपल सिलिकॉन पर बेस्ड पहला डिवाइस

  • एपल ने कहा है कि सभी मैक डेस्कटॉप-लैपटॉप को नए आर्किटेक्चर में पूरी तरह से बदलने में दो साल लगेंगे
  • नए मॉडल फिलहाल डेवलपमेंट फेज़ में है और कुछ समय के लिए A-सीरीज़ मैक के साथ इनकी शिपिंग की जाएगी

दैनिक भास्कर

Jun 23, 2020, 10:00 AM IST

कैलिफोर्निया. इवेंट में एपल ने औपचारिक रूप से पूरे मैक लाइनअप को अपने इन-हाउस प्रोसेसर में बदलने की घोषणा भी की। कंपनी ने बताया कि एपल सिलिकॉन पर बेस्ड पहला मैक 2020 के अंत तक बाजार में आएगा। हालांकि इसके बारे में कंपनी ने कोई विशेष जानकारी नहीं दी है। लेकिन महज अफवाह है कि नए आर्किटेक्चर पर बेस्ड एपल का पहला मैक पूरी तरह से रीडिजाइन आईमैक और मैकबुक प्रो होगा। एपल ने कहा है कि सभी मैक डेस्कटॉप और लैपटॉप को नए आर्किटेक्चर में पूरी तरह से बदलने में दो साल लगेंगे लेकिन कंपनी ने यह भी संकेत दिया कि एपल को नए प्रकार के कंप्यूटर डेवलप करने के लिए यह कदम जरूरी था।
इस साल ऑनलाइन हुई एपल की वार्षिक वर्ल्डवाइड डेवलपर्स कॉन्फ्रेंस की ओपनिंग कीनोट के साथ हुई जिसमें एपल के सीईओ टिम कुक और हार्डवेयर टेक्नॉलॉजीज के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट जॉनी सोरजी के बताया कि यह प्रयासों पर लंबे समय के काम किया जा रहा था।

MacOS बिग सुर के प्रीव्यूज जारी होने के साथ इनके बदलाव की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। Mac बिना किसी संशोधन के iOS और iPadOS ऐप्स चला पाएंगे। डेवलपर्स अपने मौजूदा सॉफ़्टवेयर को Xcode 12 बीटा का उपयोग करके इन्हें कम्पैटिबल बनाना आरंभ कर सकते हैं, जिसमें कंपाइलर और डीबगिंग टूल शामिल होंगे। वर्चुअलाइजेशन तकनीक के साथ रोसेट्टा 2 नामक एक नया फ्रेमवर्क कम्पैटिबिलिटी मुद्दों के साथ मदद करेगा।

एपल डेवलपर्स एक यूनिवर्सल ऐप क्विक स्टार्ट प्रोग्राम के लिए भी आवेदन कर सकते हैं, जिसमें एपल A12Z बायोनिक प्रोसेसर पर बेस्ड मॉडिफाइड मैक मिनी के रूप में डॉक्यूमेंटेशन, फ़ोरम, बीटा सॉफ़्टवेयर और एक हार्डवेयर डेवलपर ट्रांज़िशन किट शामिल होगी, जो लेटेस्ट आईपैड प्रो को शक्ति प्रदान करता है।

बैटरी और परफॉर्मेंस से नहीं करना पड़ेगा समझौता

  • मैक के लिए बदलाव को “एक बड़ी छलांग” कहते हुए सोरजी ने A4 की शुरूआत के बाद से पिछले दस वर्षों में आईफोन, आईपैड और एपल वॉच के लिए अपने A-सीरीज प्रोसेसर की सफलताओं को दोहराया। सोरजी ने कहा कि पावर एफिशियंसी और परफॉर्मेंस पर जोर देने के साथ भविष्य में आने वाले मैक के साथ यूजर को नोटबुक की बैटरी और थर्मल बाधाओं से समझौता नहीं करना होगा।

कुछ समय तक इंटेल पर बेस्ड मॉडल के साथ बेचे जाएंगे

  • इस कदम का मतलब यह नहीं है कि इंटेल पर बेस्ड मैक पुराने हो चुके हैं। एपल का कहना है कि नए मॉडल वर्तमान में डेवलपमेंट फेज़ में हैं और कुछ समय के लिए A-सीरीज़ मैक के साथ इनकी शिपिंग की जाएगी। मौजूदा मैक को आने वाले कई वर्षों के लिए नए macOS रिलीज़ के साथ भी सपोर्ट किया जाएगा।

आईफोन CPU का प्रदर्शन दस वर्षों में 100 गुना बढ़ा

  • हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को एकीकृत करना एपल के लिए महत्वपूर्ण रहा है, जो अपना खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम और अब खुद का प्रोसेसर बनाने वाला एकमात्र कंज्यूमर कंप्यूटर निर्माता है। एपल ने अब तक अपने उत्पादों में 2 बिलियन SoCs और इन हाउस डेवलप कई स्पोर्टिंग चिप्स डिलिवर किए हैं। सोरजी ने कहा कि आईफोन CPU का प्रदर्शन दस वर्षों में 100 गुना बढ़ गया है और आईपैड प्रो वर्तमान में मौजूद अन्य पीसी लैपटॉप से तेज है।
  • एपल का इरादा ए-सीरीज़ प्रोसेसर के कस्टम पॉवर मैनेजमेंट, सिक्योर एन्क्लेव, हाई-परफॉरमेंस इंटीग्रेटेड GPU, मशीन लर्निंग, न्यूरल इंजन, कस्टम विडियो डिस्प्ले और इमेज प्रोसेसिंग इंजन, और Macs को एक नए स्तर के परफॉर्मेंस देने का है।

मोटोरोला प्रोसेसर से की थी शुरुआत
यह कदम एपल को सभी एपल हार्डवेयर प्रोडक्ट्स में कॉमन आर्टिकेक्चर देता है। यह Macs के लिए चौथा आर्किटेक्चर बदलाव होगा, जिसने मोटोरोला प्रोसेसर का उपयोग शुरुआत की और 2006 में इंटेल X86 CPUs को अपनाने से पहले IBM के पावर पर शिफ्ट हो गया।