मुद्रा लोन लेकर शुरू कर सकते हैं खुद का काम, बिना किसी गारंटी के बिजनेस प्लान पर मिलेगा लोन

  • मुद्रा योजना के तहत सरकार से 10 लाख रुपए तक का लोन ले सकते हैं
  • इसके तहत कोई भी व्यक्ति अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए लोन ले सकता है

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 09:48 AM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस के कारण देश में आर्थिक मंदी के हालात हैं, इस मंदी ने कई लोगों से उनका रोजगार भी छीन लिया है। इस तरह के लोगों के लिए सरकार की  मुद्रा योजना बहुत काम की है। इस योजना के तहत आप अपना खुद का बिजनेस शुरू सरकार से 10 लाख रुपए तक का लोन ले सकते हैं। हम आपको इस योजना रहे हैं।

नहीं देनी होती कोई गारंटी
2015 में शुरू हुई इस योजना का उद्देश्य रेहड़ी-पटरी वाले से लेकर छोटे कारोबार को बिना किसी गारंटी (जमानत) के लोन मुहैया कराना है। कोई भी व्यक्ति जो अपना स्वयं का व्यवसाय शुरु
करना चाहता है, वह इस योजना के तहत लोन ले सकता है। इसके साथ ही अगर कोई अपने मौजूदा व्यवसाय को आगे बढ़ाना चाहता है, तो भी उसे इस योजना के माध्यम से लोन मिल सकता
है।

कितना मिलेगा लोन?
मुद्रा लोन को 3 श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है- शिशु ऋण, जिसमें अधिकतम सीमा 50 हजार रुपए है, किशोर ऋण, जिसमें 50 हजार से 5 लाख रुपए तक की सीमा है और तरुण ऋण,
जिसमें अधिकतम 10 लाख रुपए तक की सीमा रखी गई है। यानी आप के काम के हिसाब से आपको लोन दिया जाएगा। 

लोन लेने लिए बताना होगा बिजनेस प्लान
सबसे पहले आवेदक को एक बिजनेस प्लान तैयार करना होता है। साथ ही लोन के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज भी तैयार करने होते हैं। सामान्य दस्तावेजों के साथ बैंक आपसे आपका
बिज़नेस प्लान, प्रोजेक्ट रिपोर्ट, भविष्य की आय के अनुमान संबंधी दस्तावेज भी मांगेगा, ताकि उसे आपकी आवश्यकता की जानकारी हो, साथ ही यह भी अंदाजा लग सके कि आपको लाभ
कैसे होगा या लाभ कैसे बढ़ेगा।

कैसे कर सकते हैं मुद्रा लोन के लिए अप्लाई

  • सबसे पहले आप किस बैंक/वित्तीय संस्थान से लोन लेना चाहते हैं यह निश्चित कर लें। आवेदक एक से अधिक बैंकों का चयन कर सकता है। बैंक को दस्तावेजों के साथ लोन एप्लिकेशन फॉर्म
  • भरकर जमा करना होगा।
  • मुद्रा लोन के लिए आपको आवेदन फॉर्म के साथ निम्न दस्तावेज़ जमा करने होते हैं। लोन की राशि, व्यापार की प्रकृति, बैंक नियमों आदि के आधार पर दस्तावेज़ों की संख्या कम या ज्यादा हो
  • सकती है।
  • मुद्रा लोन आवेदन, बिज़नेस प्लान या प्रोजेक्ट रिपोर्ट, पहचान संबंधी दस्तावेज़ जैसे पैन कार्ड , आधार कार्ड , मतदाता पहचान पत्र आदि । एक से ज्यादा आवेदकों की स्थिति में पार्टनरशिप
  • संबंधी दस्तावेज़ (डीड), टैक्स रजिस्ट्रेशन, बिज़नेस लाइसेंस आदि ।
  • निवास के प्रमाण संबंधी दस्तावेज़, जैसे टेलीफोन बिल/बिजली बिल आदि आवेदक की 6 महीने से कम पुरानी तस्वीरें, मशीन या अन्य सामग्री का कोटेशन जिसे खरीदना चाहते हैं, साथ ही जहां
  • से खरीदेंगे उस सप्लायर/दुकानदार के बारे में जानकारी, श्रेणियां(एससी/एसटी/ओबीसी/अल्पसंख्यक), अगर लागू हो तो पिछले दो वर्षों की बैलेंस शीट और प्रोजेक्टेड बैलेंस शीट (दो लाख से
  • ऊपर के लोन पर)।
  • मुद्रा लोन के लिए उस सरकारी या किसी अन्य बैंक या वित्तीय संस्थान में आवेदन देना होगा, जो मुद्रा लोन देता हो। आवेदन के लिए आपके कारोबार की पूरी जानकारी/प्लान सहित अन्य
  • आवश्यक दस्तावेज जमा करने होंगे।
  • आवेदन सही पाए जाने पर बैंक या वित्तीय संस्थान मुद्रा लोन पास करेगा और आवेदक को मुद्रा कार्ड प्रदान किया जाएगा।

कितना देना होगा ब्याज?
मुद्रा लोन की खास बात यह है कि इसमें कोई निश्चित ब्याज दर नहीं है। अलग-अलग बैंक लोन पर अलग-अलग दर से ब्याज वसूल सकते हैं। दर का निर्धारण कारोबार की प्रकृति और उससे
जुड़े जोखिम के आधार पर तय होता है। वैसे आमतौर पर 10 से 12 प्रतिशत सालाना ब्याज दर रहती है।

2 फीसदी ब्याज की छूट का मिलेगा लाभ
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज के तहत मुद्रा स्कीम को लेकर बड़ी घोषणा की थी। इसके तहत वित्त मंत्री ने शिशु मुद्रा लोन पर दो फीसदी की ब्याज
छूट देने का ऐलान किया। सरकार द्वारा यह छूट 12 महीने के लिए दी जाएगी।

योजना से जुड़ी खास बातें

  • इस योजना के तहत बिना गारंटी के लोन लिया जा सकता है।
  • इसके लिए किसी भी तरह की प्रोसेसिंग फीस नहीं चुकानी पड़ती।
  • लोन भुगतान अवधि को 5 वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है।
  • लोन लेने वाले को मुद्रा कार्ड दिया जाता है, जिस का उपयोग कारोबारी जरूरत पर आने वाले खर्च के लिए कर सकता है।
  • योजना से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें http://mudra.org.in/