माइकल जॉर्डन सामाजिक न्याय के लिए 755 करोड़ रु. दान करेंगे, फेसबुक और अमेजन से 10 गुना ज्यादा

  • माइकल जॉर्डन ने कहा- जब तक हमारे देश में रंगभेद पूरी तरह खत्म नहीं हो जाता, हमारी लड़ाई जारी रहेगी
  • जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस कस्टडी में 25 मई को मौत हुई थी, उसका गला दबाने वाले दोषी अफसर पर हत्या का केस दर्ज हुआ है

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 01:49 PM IST

बास्केटबॉल स्टार माइकल जॉर्डन सामाजिक न्याय और नस्लभेद के लिए लड़ रहे संगठनों को 100 मिलियन डॉलर (करीब 755 करोड़ रुपए) दान करेंगे। जॉर्डन और उनका ब्रांड इस क्षेत्र में काम कर रहे संगठनों को अगले 10 सालों तक धनराशि मुहैया कराएगा। यह डोनेशन फेसबुक और अमेजन से 10 गुना ज्यादा है। इन दोनों कंपनियों ने सामाजिक न्याय के क्षेत्र में काम कर रहे संगठनों को 10 मिलियन डॉलर (करीब 75 करोड़ रुपए) दान देने की घोषणा की है। 

जॉर्डन ने यह ऐलान ऐसे वक्त किया है, जब अमेरिका में अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद देश में नस्लभेद के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। 

अश्वेत जिंदगी की भी कीमत है: जॉर्डन

जॉर्डन और उनके ब्रांड ने एक बयान जारी कर कहा- अश्वेत जिंदगी की भी कीमत है। यह भी मायने रखती है। यह विवादास्पद बयान नहीं है। जब तक हमारे देश में रंगभेद पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता। तब तक हम अश्वेतों की सुरक्षा और सामाजिक न्याय के लिए लड़ते रहेंगे।

अश्वेत समुदाय की जिंदगी में बदलाव लाना मकसद: ब्रांड जॉर्डन

ब्रांड जॉर्डन के प्रेसिडेंट क्रेग विलियम्स ने कहा- अश्वेत समुदाय की जिंदगी में परिवर्तन लाने के लिए अभी काफी काम करना बाकी है। हम इसकी जिम्मेदारी लेते हैं। 

फ्लॉयड की मौत पर गुस्सा जता चुके जॉर्डन

इससे पहले, जॉर्डन ने फ्लॉयड की हत्या पर दुख जताते हुए कहा था- मैं इस घटना से दुखी और गुस्से में हूं। मेरी संवेदनाएं फ्लॉयड के परिवार के अलावा उन अनगिनत लोगों के साथ हैं, जिन्होंने नस्लीय बर्बरता और अन्याय की वजह से जान गंवाई। अब बहुत हो चुका, हमें इकठ्ठा होकर नस्लवाद के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। ताकि हमारे नेताओं पर कानून बदलने का दबाव बने। 

जॉर्डन एनबीए के हॉल ऑफ फेम में शामिल

जॉर्डन 6 बार के नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन यानी एनबीए चैम्पियन हैं। उन्होंने 90 के दशक में शिकागो बुल्स टीम की अगुआई की थी। उन्हें हॉल ऑफ फेम में भी शामिल किया गया है। फिलहाल, वे शर्लोट हॉरनेट्स टीम के मालिक हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *