मध्यप्रदेश में खेल पटरी पर लौट रहा; ग्रीन जोन में गाइडलाइन के साथ खिलाड़ी मैदान पर उतरेंगे, रेड में पाबंदी

  • 10-12 खिलाड़ी ही एक साथ मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ट्रेनिंग कर सकेंगे
  • जिम और स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे, ट्रेनिंग के दौरान थूकने, छींकने और छूने पर प्रतिबंध

दैनिक भास्कर

May 21, 2020, 07:14 AM IST

मध्य प्रदेश के ग्रीन जोन एरिया में गुरुवार से खेल गतिविधियां शुरू होने जा रही हैं। जबकि रेड जोन में प्रतिबंध जारी रहेगा। ग्रीन जोन में खेलों को शुरू करने के लिए खेल विभाग ने बुधवार को गाइडलाइन जारी कर दी है। गाइडलाइन के अनुसार, जिम और स्वीमिंग पूल पर रोक जारी रहेगी।

खिलाड़ी मास्क औरर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ट्रेनिंग कर सकेंगे। ट्रेनिंग के दौरान परिसर में 10 से 12 खिलाड़ी ही रहेंगे।

ट्रेनिंग के दौरान संक्रमित होने पर खिलाड़ी की जिम्मेदारी होगी

सबसे अहम खेल परिसर में अभ्यास करने के लिए खिलाड़ियों को सहमति पत्र प्रदान करना होगा कि यदि वह अभ्यास के दौरान संक्रमित हो जाते हैं तो उसकी संपूर्ण जिम्मेदारी स्वयं होगी। साथ ही ट्रेनिंग के दौरान थूकने, छींकने और छूने पर प्रतिबंध रहेगा।

इन शर्तों का पालन सभी समूह के खिलाड़ियों को करना होगा

  • खेल परिसर में हॉट स्पॉट जोन के खिलाड़ी का प्रवेश वर्जित होगा।
  • परिसर में केवल खिलाड़ियों को ही प्रवेश मिलेगा। दर्शक और परिजनों को अनुमति नहीं होगी।
  • वॉकिंग, जॉगिंग, योगा करने वालों का प्रवेश वर्जित रहेगा।
  • ट्रेनिंग में सोशल डिस्टेंसिंग (2 मी. की दूरी) जरूरी।
  • खिलाड़ी आपस में खेल उपकरणों की अदला-बदली नहीं करेंगे।
  • परिसर में आने से पहले खिलाड़ी को अपने हाथ-पैर सैनिटाइज करने होंगे। खिलाड़ी खेल संबंधि शूज अलग से लाएगा। ट्रेनिंग प्रारंभ करने के पूर्व ही इस्तेमाल करेगा।
  • खिलाड़ी को व्यक्तिगत किट (खेलने का सामान, पानी की वॉटल, टी-शर्ट, टॉबिल, सेनिटाइजर आदि) लाना होगा।
  • ट्रेनिंग से पहले और बाद में मैदान और उपकरण को सेनिटाइज किया जाएगा।
  • ट्रेनिंग समाप्त होते ही खिलाड़ी को जाना होगा।
  • परिसर में मास्क के बिना प्रवेश नहीं, ट्रेनिंग में भी मास्क पहनना अनिवार्य।
  • खेल परिसर में प्रवेश से पहले थर्मल स्क्रीनिंग होगी।
  • कोरोना के लक्षण दिखने पर खिलाड़ियों को सूचना स्टेडियम प्रशासन को देनी होगी।

खेलों को चार समूहों में बांटा, हर खेल में 10 से 12 खिलाड़ी
पहला :
तीरंदाजी, एथलेटिक्स, शूटिंग, बैडमिंटन, टेनिस, साइक्लिंग, फेंसिंग, गोल्फ, बिलियर्ड स्नूकर, वेट लिफ्टिंग और टेबल टेनिस। इन खेलों में प्रशिक्षण स्थल पर ज्यादा से ज्यादा दस खिलाड़ी ही रह सकेंगे।
दूसरा: फुटबॉल, हॉकी, वॉलीबॉल, बास्केटबॉल, बीच वालीबॉल, हैंडबॉल और क्रिकेट। इन खेलों के दौरान मैदान को 4 भागों में बांटकर अलग-अलग समूहों में ट्रेनिंग, समूह के खिलाड़ियों की अदला-बदली नहीं होगी, अधिकतम 12 खिलाड़ी।
तीसरा: बॉक्सिंग, जूडो, कुश्ती, ताइक्वांडो, कराते, वूशु और मलखंब। गाइडलाइन के मुताबिक, इन खेलों में आपस में अभ्यास की अनुमति नहीं, खिलाड़ी डमी, पंचिंग बैग, किकिंग बैग की सहायता से अभ्यास करेंगे और ज्यादातर 12 खिलाड़ी रहेंगे।
चौथा: सभी वाटर स्पोर्ट्स जैसे- कयाकिंग-केनोइंग, सेलिंग और रोइंग। इन खेलों में एक बोट में एक ही खिलाड़ी, उन्ही बोट का इस्तेमाल जिनमें एक खिलाड़ी ही खेलता हो। स्वीमिंग पूरी तरह वर्जित रहेगी, अधिकतम दस खिलाड़ी रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *