मधु कपूर और उनका परिवार अब यस बैंक के प्रमोटर नहीं रहेंगे, उन्होंने अपने शेयरों को पब्लिक शेयर के रूप में वर्गीकृत किए जाने के लिए कहा

  • मधु कपूर के पास बैंक के 14 करोड़ शेयर या 1.12 फीसदी हिस्सेदारी है
  • मधु कपूर ग्रुप की कंपनी मैग्स फिनवेस्ट के पास बैंक 0.30 % हिस्सेदारी है

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 05:46 PM IST

नई दिल्ली. वित्तीय उथल-पुथल से गुजर रहे यस बैंक के सह-संस्थापक अशोक कपूर की पत्नी और उनका परिवार तथा मधु कपूर ग्रुप की कंपनी मैग्स फिनवेस्ट प्राइवेट लिमिटेड को अब यस बैंक के प्रमोटर्स के रूप में वर्गीकृत नहीं किया जाएगा। मधु कपूर के परिवार में शगुन कपूर गोगिया आौर गौरव अशोक कपूर शामिल हैं। शेयर बाजारों को दी गई सूचना में यस बैंक ने कहा कि मधु कपूर समूह ने बैंक में अपनी शेयरधारिता को नॉन प्रमोटर्स या पब्लिक शेयरहोल्डर्स के रूप में वर्गीकृत किए जाने का आग्रह किया है।

मधु कपूर के पास यस बैंक की 1.12 फीसदी हिस्सेदारी है

2008 में अशोक कपूर के निधन के बाद मधु कपूर और उनका परिवार यस बैंक के परिचालन में बड़ी भूमिका हासिल करने के लिए संघर्ष कर रहे थे। लंबे संघर्ष के बाद पिछले साल उन्हें बोर्ड नियंत्रण और निदेशकों का चुनाव जैसे कुछ अधिकार हासिल भी हो गए थे। 31 मार्च 2020 को मधु कपूर के पास बैंक के 14 करोड़ शेयर (1.12 फीसदी हिस्सेदारी) थे। उसी दिन मैग्स फिनवेस्ट के पास बैंक के 3.72 करोड़ शेयर (0.30 फीसदी हिस्सेदारी) थे।

मधु कपूर और राणा कपूर के बीच बोर्ड के नियंत्रण के लिए कई साल से चल रहा था विवाद

बैंक ने शनिवार को शेयर बाजारों को दी गई सूचना में कहा कि बैंक को मधु अशोक कपूर, शगुन कपूर गोगिया, गौरव अशोक कपूर और मैग्स फिनवेस्ट प्राइवेट लिमिटेड (सामूहिक तौर पर मधु कपूर ग्रुप) की ओर एक पत्र हासिल हुआ है। यह पत्र 28 मई 2020 को लिखा गया है। बैंक को यह पत्र 29 मई 2020 को मिला है। इस पत्र में मधु कपूर ग्रुप ने बैंक में अपनी हिस्सेदारी को नॉन-प्रमोटर शेयरहोल्डर्स (पब्लिक शेयरहोल्डर्स) के रूप में वर्गीकृत किए जाने के लिए कहा है। इसके साथ ही मधु कपूर और उनके परिवार तथा सह-संस्थापक राणा कपूर के बीच बैंक के बोर्ड के नियंत्रण के लिए कई साल से चला आ रहा विवाद खत्म हो गया।

तीन महीने पहले आरबीआई ने यस बैंक का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया था

करीब तीन महीने पहले भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंक का नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया था। इसके बाद भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व में एक इक्विटी कंसोर्टियम ने बैंक में 10,000 करोड़ रुपए का निवेश किया था। इसके बाद यस बैंक में एसबीआई की सर्वाधिक 49 फीसदी हिस्सेदारी हो गई है। एसबीआई के पूर्व मुख्य वित्तीय अधिकारी प्रशांत कुमाार फिलहाल यस बैंक के सीईओ हैं।

राणा कपूर के पास एक भी शेयर नहीं, फिर भी हैं प्रमोटर

पूर्व सीईओ राणा कपूर के पास अभी बैंक का एक भी शेयर नहीं है। इसके बावजूद वह बैंक के प्रमोटर के रूप में वर्गीकृत हैं। उनके खिलाफ अभी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) में जांच चल रही है।