बुमराह के बाद भुवनेश्वर ने कहा- बॉल चमकाने के लिए आईसीसी दूसरा विकल्प लाए, नहीं तो गेंदबाजों को दिक्कत होगी

  • आईसीसी ने कोरोना के खतरे को देखते हुए बॉल चमकाने के लिए थूक के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक लगाई है
  • जसप्रीत बुमराह ने कहा था- थूक का इस्तेमाल गेंद पर नहीं होने से खेल पूरी तरह से बल्लेबाजों के फेवर में होगा

दैनिक भास्कर

Jun 29, 2020, 10:02 AM IST

भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार गेंद को चमकाने के लिए थूक के इस्तेमाल पर लगे प्रतिबंध से खुश नहीं हैं। उन्होंने कहा कि इंटरनेशल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) को इसका विकल्प जल्द लाना चाहिए। गेंद को स्विंग कराने के लिए गेंदबाज को बॉल चमकाने की जरूरत होती है। इससे पहले जसप्रीत बुमराह भी यही बात कह चुके हैं।

हाल ही में इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने कोरोनावायरस के कारण मैच के दौरान बॉल को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। हर टीम को एक पारी में दो बार चेतावनी दी जाएगी। तीसरी बार में पेनाल्टी के तौर पर बल्लेबाजी करने वाली टीम के खाते में 5 रन जोड़ दिए जाएंगे।

स्पिनर्स को भी जरूरत होगी: भुवनेश्वर
भुवनेश्वर ने एक वेबिनार में कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि बॉल को चमकाने के लिए आईसीसी कोई आर्टिफिशियल चीज लेकर आएगी। आपको इसकी सबसे ज्यादा जरूरत तब होगी, जब इंग्लैंड जैसी स्विंग कंडिशन में बॉलिंग करेंगे। स्पिनर्स को भी इसकी बहुत जरूरत होगी।’’

बल्लेबाजों को पूरा फायदा मिलेगा: बुमराह
बुमराह ने कहा था, ‘‘थूक का इस्तेमाल गेंद पर नहीं होने से खेल पूरी तरह बदल जाएगा। इसका पूरा फायदा बल्लेबाजों को ही मिलेगा। पहले ही मैदान छोटे और विकेट सपाट होते जा रहे हैं। ऐसे में गेंदबाजों को थूक की जगह बॉल को चमकाने के लिए कोई और विकल्प मिलना चाहिए ताकि स्विंग या रिवर्स स्विंग मिल सके। ’’

भुवनेश्वर ने कहा- आईपीएल जरूर होना चाहिए
तेज गेंदबाज ने कहा, ‘‘इस साल आईपीएल को जरूर होना चाहिए। क्रिकेट और आर्थिक तौर पर दोनों के लिए यह लीग बहुत ज्यादा जरूरी है।’’ इस साल कोरोना के कारण आईपीएल को अनिश्चितकाल के लिए टाल दिया गया है। यह टूर्नामेंट 29 मार्च से होना था। बीसीसीआई टी-20 वर्ल्ड कप टलेगा या नहीं, इस पर आईसीसी के फैसला का इंतजार कर रहा है। यदि वर्ल्ड कप नहीं होता है, तो उसकी जगह अक्टूबर-नवंबर में आईपीएल कराया जा सकता है।

मुकाबला बराबर का होना चाहिए: ईशांत
भारत के सीनियर तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा और स्पिनर युजवेंद्र चहल ने भी बॉल को चमकाने के लिए थूक के इस्तेमाल पर प्रतिबंध को गलत बताया था। ईशांत ने कहा था, ‘‘यदि हम रेड बॉल (टेस्ट मैच में) को चमकाएंगे नहीं, तो वह स्विंग नहीं होगी। यदि स्विंग नहीं मिलेगी, तो बल्लेबाजों के लिए बॉल खेलना काफी आसान हो जाएगा। मेरा मानना है कि मुकाबला बराबर का होना चाहिए, न कि पूरा मैच बल्लेबाजों के पक्ष में करना चाहिए।’’

बॉल ड्रिफ्ट नहीं होने से बल्लेबाजी करना आसान होगा: चहल
वहीं, स्पिनर युजवेंद्र चहल ने कहा था, ‘‘जब आप बॉल को चमकाने लिए थूक जैसी नेचुलर चीज का इस्तेमाल करते हैं, तो इससे तेज गेंदबाज को स्विंग और स्पिनर्स को ड्रिफ्ट कराने में मदद मिलती है। यदि एक स्पिनर के तौर पर मैं मैच के दौरान बॉल को ड्रिफ्ट नहीं कराउंगा, तो प्लेयर्स के लिए बल्लेबाजी करना काफी आसान हो जाएगा।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *