फ्रैंकलिन टेम्पल्टन ने पैसा वापस देने के लिए 3 लाख निवेशकों से शुरू किया संपर्क, सेबी की चेतावनी के बाद उठाया कदम

  • निवेशकों का पैसा कंपनी की बंद 6 डेट स्कीम्स में फंसा  है
  • फंड कंपनी ने सेबी के नियम को बताया था बंद होने का कारण

दैनिक भास्कर

May 12, 2020, 03:55 PM IST

मुंबई. फ्रैंकलिन टेंपलटन इंडिया ने अपने 3 लाख निवेशकों को पैसा देने के लिए संपर्क साधना शुरू कर दिया है। इन निवेशकों का पैसा 6 बंद डेट स्कीम्स में अटका हुआ है। पिछले हफ्ते भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) की चेतावनी के बाद यह जानकारी आई है। सेबी ने कंपनी से निवेशकों की धन वापसी पर ध्यान केंद्रित करने को कहा था।

सेबी ने तुरंत पैसा लौटाने को कहा था

दरअसल फ्रैंकलिन टेम्पल्टन के ग्लोबल प्रेसिडेंट जेनिफर एम जॉनसन ने कहा था कि डेट स्कीम्स बंद होने के पीछे सेबी का एक नियम था। इसी के बाद 7 मई को सेबी ने कहा कि कंपनी निवेशकों का पैसा तुरंत वापस लौटाए। इसके बाद फ्रैंकलिन टेंम्पल्टन ने शुक्रवार को सेबी को सार्वजनिक माफी जारी की और हफ्ते के अंत तक निवेशकों के पास पहुंच गई।

निवेशकों से पैन, फोलियो, ईमेल की मांगी जा रही है जानकारी

कुछ निवेशकों ने कहा कि फंड हाउस ने निवेशकों को पत्र लिखकर पैन, फोलियो नंबर, ई-मेल आईडी जैसे ब्योरे की मांग की है। इस मामले से परिचित एक व्यक्ति ने कहा कि एएमसी निवेशकों की सहमति के लिए इस सप्ताह के अंत में ई-वोटिंग प्रक्रिया शुरू करेगी ताकि वाइंडिंग की प्रक्रिया शुरू की जा सके। ई-मेल आईडी उन मामलों में मांगी जा रही है जहां केवल फोन विवरण उपलब्ध हैं।

पैसा वापस करने के लिए प्रक्रिया शुरू हुई 

म्यूचुअल फंड नॉर्म्स के रेगुलेशन 41 के तहत ये योजनाएं वाइंडिंग प्रक्रिया से गुजर रही हैं। अभी तक एसेट मैनेजमेंट कंपनी (एएमसी) ने शटडाउन प्रक्रिया का सिर्फ एक पहलू पूरा किया है, जिसमें ट्रस्टियों की मंजूरी है। ई-वोटिंग प्रक्रिया के लिए निवेशकों को मतदान करने के लिए ट्रस्टियों को अधिकृत करने की आवश्यकता होगी। उसके बाद एएमसी निवेशकों को पैसा वापस करना शुरू कर सकती है।

एक स्कीम्स में पांच साल तक करना पड़ सकता है इंतजार

फ्रैंकलिन इंडिया इनकम ओप्पोर्टयूनिटी फंड में निवेशकों के लिए यह इंतजार पांच साल का हो सकता है। हालांकि एएमसी ने समापन की प्रक्रिया शुरू कर दी है, लेकिन कुछ निवेशकों ने पहले ही इस फैसले पर आपत्ति जताते हुए एएमसी को पत्र लिखा है। फ्रैंकलिन टेम्पल्टन के 29 अप्रैल के बयान के अनुसार, सबसे तेज रिफंड अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड्स में होगा जहां 9 प्रतिशत को ऑथोरिजेशन के तीन महीने के भीतर, अगले छह महीनों में 39 प्रतिशत, एक साल में लगभग 50 प्रतिशत और दो साल के भीतर 81 प्रतिशत लोगों को पैसा वापस कर दिया जाएगा।