फेसबुक के कर्मचारियों के विरोध के बाद मार्क जुकरबर्ग ने कहा- फेसबुक की नीतियों की समीक्षा करेंगे और जरूरत पड़ने पर बदलाव भी करेंगे

  • मार्क जुकरबर्ग ने ‘Black lives matter’आंदोलन का समर्थन किया और कहा- ‘मैं अपने अश्वेत समुदाय के सदस्यों के साथ खड़ा हूं
  • ट्रंप के एक विवादित पोस्ट पर कार्रवाई नहीं करने पर कुछ फेसबुक कर्मचारियों ने कंपनी के रुख के खिलाफ इस्तीफा दे दिया है

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 01:58 PM IST

नई दिल्ली. फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने शुक्रवार को अपने पेज पर एक लंबा पोस्ट लिखा। इसमें उन्होंने ‘Black lives matter’आंदोलन का समर्थन किया है। उन्होंने अपनी पोस्ट में कहा है कि वे फेसबुक की नीतियों की समीक्षा करेंगे। जरूरत पड़ने पर उसमें बदलाव भी करेंगे। हम पुलिस बल प्रयोग और किसी देश में नागरिक हिंसा को लेकर होने वाले आंदोलन की नीतियों की समीक्षा पर जोर देंगे। मार्क जुकरबर्ग ने अपनी पोस्ट में यह भी लिखा, ‘मैं अपने अश्वेत समुदाय के सदस्यों के साथ खड़ा हूं। आपका जीवन मायने रखता है। ब्लैक लिव्स मैटर।’

फेसबुक कर्मचारियों ने कंपनी के रुख के खिलाफ इस्तीफा दे दिया

जुकरबर्ग ने कहा कि वह मॉडरेशन प्रक्रियाओं की समीक्षा करना शुरू करेंगे और कंपनी को इस तरह की हानिकारक सामग्री से निपटने का तरीका बदलेंगे। बता दें कि मिनेसोटा विरोध प्रदर्शनों को लेकर ट्रंप के एक विवादित पोस्ट पर कार्रवाई नहीं करने पर कुछ फेसबुक कर्मचारियों ने कंपनी के रुख के खिलाफ इस्तीफा दे दिया है। कर्मचारियों का सुझाव था कि फेसबुक अपनी नीतियों में बदलाव करे।

ट्रंप के ट्वीट को ट्विटर ने फैक्ट चेक करके चेतावनी जारी कर दी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा की गई विवादित पोस्ट पर कार्रवाई करने के लिए कंपनी के भीतर नाराजगी बढ़ने के बाद फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने यह पोस्ट किया है। बता दें कि ट्रम्प के ट्वीट को ट्विटर ने फैक्ट चेक करके चेतावनी जारी कर दी, जबकि फेसबुक ने ट्रंप के पोस्ट का कोई फैक्ट चेक नहीं किया। ट्रंप ने जो ट्वीट किया था, उसी पोस्ट को फेसबुक पर भी शेयर किया था। ट्विटर के फैक्ट चेक के बाद फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने एक इंटरव्यू में ट्विटर की आलोचना की और कहा कि निजी कंपनियों को ऐसा नहीं करना चाहिए।

क्या कहा था अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने

जुकरबर्ग के इस बयान के बाद फेसबुक के कर्मचारियों में असंतोष देखने को मिला और कईयों ने काम करने से इनकार कर दिया है। फेसबुक में प्रोडक्ट डिजाइन के निदेशक डेविड गिलिस ने एक ट्वीट में कहा, “मुझे विश्वास है कि ट्रंप की ‘जब लूट शुरू होती है, तो शूटिंग शुरू होती है’ ट्वीट (एफबी पर क्रॉस पोस्टेड), अतिरिक्त-न्यायिक हिंसा को प्रोत्साहित करता है और नस्लवाद को बढ़ाता है। एन्फोर्समेंट कॉल के लिए ट्विटर की टीम का सम्मान करता हूं।” बता दें कि ट्रंप ने अफ्रीकी-अमेरिकन जॉर्ज फ्लायड की मौत के बाद फूटे विरोध को लेकर यह विवादित पोस्ट किया था। उसमें उन्होंने कहा था- ‘जब लूट शुरू होती है, तो शूटिंग शुरू होती है।’

जुकरबर्ग के पोस्ट के तुरंत बाद अमेजन के सीईओ जेफ बेजोस ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर आंदोलन के लिए समर्थन देने और विस्तृत विवरण के साथ एक ईमेल भी शेयर किया। इसमें उन्होंने उस ग्राहक के बारे में बताया जिसने किसी वक्त अमेजन वेबसाइट के ब्लैक लिव्स मैटर के बैनर के बारे में शिकायत की थी