पृथ्वी शॉ ने सचिन को बताया अपना मेंटर, कहा- 8 साल की उम्र में पहली बार मिला, तब से उनसे सीख रहा हूं

  • पृथ्वी शॉ के मुताबिक, सचिन सर, मुझसे बल्लेबाजी के तकनीकी की बजाए मानसिक पहलूओं के बारे में ज्यादा बात करते हैं
  • सचिन तेंदुलकर ने भी हाल में ही एक इंटरव्यू में कहा था- शॉ टैलेंटेड क्रिकेटर हैं, उसकी मदद करने से मुझे खुशी मिलती है

दैनिक भास्कर

May 25, 2020, 08:18 AM IST

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने पूर्व भारतीय कप्तान सचिन तेंदुलकर को अपना मेंटर बताया है। शॉ के मुताबिक जब मैं 8 साल का था, तब पहली बार सचिन सर से मिला था। वे तब से ही मेरे मेंटर हैं। उन्होंने अपने नियोक्ता इंडियन ऑयल के साथ इंस्टाग्राम चैट पर यह बातें कहीं।

शॉ के मुताबिक, सचिन सर ने मुझे सिखाया कि मैदान पर क्या करना है और बाहर कैसे अनुशासन में जीना है।  सचिन मुझसे बल्लेबाजी के तकनीकी की बजाए मानसिक पहलूओं के बारे में ज्यादा बातें करते हैं।

सचिन सर मेरी प्रैक्टिस देखने आते हैं: शॉ

उन्होंने कहा कि मुझे तब खास महसूस होता है। जब बिजी शेड्यूल के बावजूद सचिन मेरी प्रैक्टिस देखने आते हैं। आज भी जब मैं प्रैक्टिस के लिए जाता हूं और अगर सचिन सर शहर में रहते हैं तो वह जरूर मुझे देखने के लिए आते हैं।

इस सलामी बल्लेबाज ने कहा कि सचिन सर के मार्गदर्शन में मेरे लिए अब तक का सफर शानदार रहा है। हाल ही में सचिन ने भी एक इंटरव्यू में कहा था कि वे शॉ से उनके खेल को लेकर बात करते हैं। 

शॉ की मदद करके मुझे खुशी मिलती है: सचिन

सचिन के मुताबिक, यह सही है कि पिछले कई सालों में मैंने कई मौकों पर शॉ से बात की है। वो बहुत टैलेंटेड बल्लेबाज है और उसकी मदद करके मुझे खुशी मिलती है। मैं उनसे क्रिकेट और इससे इतर जिंदगी के बारे में भी बातें करता हूं। 

शॉ ने डेब्यू टेस्ट में शतक जमाया था

शॉ ने 2018 में टेस्ट करियर की शुरुआत धमाकेदार अंदाज में की थी। उन्होंने राजकोट में हुए वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने डेब्यू टेस्ट में शतक लगाया था। हालांकि, उनकी यह चमक जल्द ही फीकी पड़ गई। पहले चोट की वजह से उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे से बाहर होना पड़ा और फिर डोपिंग की वजह से 9 महीने क्रिकेट से दूर रहना पड़ा था।

शॉ ने न्यूजीलैंड दौरे पर टेस्ट में सिर्फ एक अर्धशतक लगाया

उन्होंने इस साल की शुरुआत में न्यूजीलैंड दौरे से वापसी की। लेकिन इस दौरे के दो टेस्ट की चार पारियों में वे सिर्फ एक ही अर्धशतक लगा सके, जबकि तीन वनडे में उन्होंने कुल 84 रन बनाए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *