पीसीबी साल में 4 बार खिलाड़ियों के खून और आंखों की जांच कराएगा, जुलाई में इंग्लैंड दौरे के लिए 30 खिलाड़ियों को ट्रेनिंग की मंजूरी

  • पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने कहा- अभी खिलाड़ियों की साल में 2 बार जांच होती है, लेकिन कोरोना के बाद परिस्थितियां बदल जाएंगी
  • इंग्लैंड दौरे पर पाकिस्तान के 25 खिलाड़ियों की टीम को चार्टर्ड प्लेन से ले जाया जाएगा, दोनों टीमें 3 टेस्ट और टी-20 सीरीज खेलेंगी

दैनिक भास्कर

Jun 03, 2020, 11:40 AM IST

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) की मेडिकल टीम ने कोरोनावायरस के बाद खेल शुरू करने के लिए कड़े नियम बनाए हैं। उन्होंने खिलाड़ियों के लिए साल में 4 बार खिलाड़ियों के खून और आंखों की जांच को अनिवार्य कर दिया है। वहीं, पीसीबी ने जुलाई में होने वाले इंग्लैंड दौरे की तैयारी शुरू कर दी है।

पीसीबी ने बुधवार को लाहौर में बने क्वारैंटाइन ट्रेनिंग कैम्प में करीब 30 खिलाड़ियों को प्रैक्टिस की अनुमति दी है। नेशनल हाई परफॉर्मेंस सेंटर में बने इस कैम्प में जल्द ही खिलाड़ियों को बुलाया जाएगा।

खेल के लिए आंखों की जांच जरुरी
मेडिकल टीम के सीनियर अधिकारी के मुताबिक, मौजूदा समय में सेंट्रल कॉन्ट्रेक्ट में शामिल खिलाड़ियों साल में दो बार जांच करानी होती है, लेकिन कोरोना के बाद परिस्थिति बदल जाएगी। इस कारण यह फैसला लिया गया है। अधिकारी ने कहा कि खिलाड़ियों के स्वास्थ्य के लिए खून की जांच बहुत जरूरी होती है। वहीं, खेल के लिए आंखों की रोशनी का अच्छा होना बेहद जरूरी है।

25 खिलाड़ी को इंग्लैंड दौरे पर जाएंगे
पाकिस्तान के मुख्य कोच और चयनकर्ता मिस्बाह उल हक के मुताबिक, इन 30 में से ही 25 खिलाड़ियों को इंग्लैंड दौरे पर ले जाया जाएगा। पाकिस्तान को इंग्लैंड में 3 टेस्ट और 3 ही टी-20 खेलने हैं। इंग्लैंड दौरे के लिए खिलाड़ियों को चार्टर्ड प्लेन से ले जाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *