पीएमआई के नए आंकड़े जारी हुए, कोविड-19 के चलते मई में सेवा गतिविधियों में हुई तेज गिरावट

  • मई में मार्किट भारत सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक मई में 12.6 पर था
  • यह स्तर देश में सेवा गतिविधि में अत्यधिक गिरावट की ओर संकेत करता है

दैनिक भास्कर

Jun 03, 2020, 12:55 PM IST

नई दिल्ली. आईएचएस मार्किट सर्विसेज पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) ने बुधवार को ताजा नंबर्स जारी किए हैं। इन नंबर्स के मुताबिक मार्किट भारत सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक मई में 12.6 पर था। कोरोनावायरस की वजह से देशभर में सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में मई के दौरान तेजी से गिरावट हुई और उपभोक्ताओं की आवाजाही पर रोक के चलते मांग एकदम खत्म हो गई।
 
सर्वेक्षण के मुताबिक सूचकांक हालांकि अप्रैल के अप्रत्याशित 5.4 से अधिक है, लेकिन अभी भी कोरोना वायरस महामारी से पहले के स्तर के मुकाबले कम है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि सूचकांक का यह स्तर पूरे भारत में सेवा गतिविधि में अत्यधिक गिरावट की ओर संकेत करता है। नेशनल लॉकडाउन की वजह से देशभर की सेवाएं प्रभावित रही हैं।

50 से अधिक अंक का अर्थ गतिविधियों में विस्तार
आईएचएस मार्किट इंडिया सर्विसेज परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) के अनुसार 50 से अधिक अंक का अर्थ है गतिविधियों में विस्तार, जबकि इससे कम अंक कमी को दर्शाता है। भारत में 25 मार्च को लॉकडाउन की शुरुआत हुई थी। जिसे 4 चरणों के बाद खोला गया है। हालांकि, अभी की कई क्षेत्रों में लॉकडाउन का पांचवां चरण जारी है।

तिविधियों में अभी भी ठहराव
आईएचएस मार्किट के अर्थशास्त्री जो हेयस ने कहा कि भारत में सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अभी भी ठहराव है और नवीनतम पीएमआई आंकड़ों से पता चलता है कि मई में एक बार फिर उत्पादन में भारी गिरावट हुई है। इस बीच कमजोर मांग के चलते रोजगार में तेज गिरावट का सिलसिला भी जारी रहा।

उन्होंने कहा कि मई में घरेलू और विदेशी दोनों तरह की सेवाओं की मांग में लगातार वृद्धि हो रही है, क्योंकि ग्राहकों का कारोबार बंद है और फुटफॉल सामान्य स्तर से काफी नीचे है।