पटियाला में 18 की जगह 11 गेम्स में ही मिलेंगे एडमिशन, जिन खेलों में दाखिले कम हो रहे, उन्हें बंद या दूसरी जगह शिफ्ट करेंगे

  • क्रिकेट, टेनिस और सॉफ्ट बॉल में दाखिले कम हो रहे थे, इसलिए इन गेम्स को एनआईएस में बंद कर दिया गया
  • चार गेम्स को बेंगलुरू सेंटर में शिफ्ट किया, जिसमें कबड्‌डी, टेबल टेनिस, ताइक्वांडो, बास्केटबॉल शामिल

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 08:22 AM IST

पटियाला. शशांक सिंह. एशिया के सबसे बड़े स्पोर्ट्स इंस्टीट्यूट एनआईएस पटियाला में ऑनलाइन एडमिशन प्रक्रिया 10 जून से शुरू हो रही है। यहां एडमिशन लेने की आखिरी तारीख 9 जुलाई है। लेकिन इस सेशन के लिए 18 की जगह सिर्फ 11 खेलों में एडमिशन होंगे।

बाकी गेम्स या तो बंद कर दिए गए हैं या फिर दूसरी जगह शिफ्ट कर दिए गए हैं। इसकी वजह है दाखिला कम होना। क्रिकेट, टेनिस और सॉफ्ट बॉल में दाखिले कम हो रहे थे, इसलिए इन गेम्स को एनआईएस पटियाला में बंद कर दिया गया है।

कबड्डी, टेबल टेनिस और बेंगलुरू शिफ्ट किया

चार गेम्स को बेंगलुरू सेंटर में शिफ्ट किया, जिसमें कबड्‌डी, टेबल टेनिस, ताइक्वांडो, बास्केटबॉल शामिल है। इसके साथ ही फुटबॉल और जिम्नास्टिक भी पटियाला से कोलकाता शिफ्ट होंगे। गेम्स बंद करने के लिए एनआईएस अथॉरिटी ने 29 जनवरी को खेल मंत्रालय को प्रपोजल भेजा था। इसे मंजूरी मिल गई है। इसके साथ ही एडमिशन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

एनआईएस पटियाला में इन डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन ले सकेंगे खिलाड़ी
एथलेटिक्स (25), बॉक्सिंग (50), साइक्लिंग (30), फेसिंग (30), हैंडबॉल (20), हॉकी (25), जूडो(30), वेटलिफ्टिंग (30), रेसलिंग (50), वूशु (25), योग (20) समेत 11 गेम्स में कुल 335 सीट्स हैं। 

साई सब सेंटर बेंगलुरू में 10 गेम्स में होंगे दाखिले: एथलेटिक्स (25), बैडमिंटन (20), बास्केटबॉल (30), हॉकी (25), कबड्‌डी (30), खो-खो (20), स्वीमिंग (20), टेबल टेनिस (20), ताइक्वांडो(20), वॉलीबॉल (30) समेत 10 गेम्स में 240 सीट्स है।

साई सब सेंटर कोलकाता में 6 गेम्स में एडमिशन: एथलेटिक्स (25), तीरंदाजी (30), जिम्नास्टिक (20), फुटबॉल (50) समेत कुल 6 गेम्स में 125 सीट्स है। साई के तिरुअनंतपुरम सेंटर में रोइंग, कयाकिंग-केनोइंग की 25 सीटें निर्धारित हैं।

जहां इंफ्रास्ट्रक्चर और हाईपरफॉरमेंस डायरेक्टर, वहां गेम्स शिफ्ट किए गए
एनआईएस पटियाला के ईडी कर्नल राज विश्नोई ने बताया कि हम क्वालिटी कोचिंग देने की कोशिश कर रहे हैं। जहां पर नेशनल कैंप के इंफ्रास्ट्रक्चर हैं, हाईपरफॉरमेंस डायरेक्टर हैं, वहां हमने गेम्स शिफ्ट किए हैं। वहीं, एनआईएस के एक अधिकारी के मुताबिक क्रिकेट, लॉन टेनिस और सॉफ्ट बॉल में एडमिशन लगातार कम हो रहे थे जबकि इनमें फैकल्टी ज्यादा थी। इसके कारण मंत्रालय ने कुछ गेम्स बंद करने का फैसला किया।

इस सेशन के लिए एडमिशन की पॉलिसी में भी कुछ बदलाव किया गया है। ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों को बिना किसी लिखित परीक्षा या इंटरव्यू के डायरेक्ट एडमिशन दिया जाएगा। 23 खेल विषयों में ओलिंपियन (पुरुष-महिला) के लिए 46 सीटें आरक्षित हैं। शैक्षिक योग्यता, आभासी साक्षात्कार और खेल उपलब्धियों के तीन मापदंड निर्धारित किए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *