पंजाब नेशनल बैंक का लोन हुआ सस्ता, बैंक ने रेपो रेट लिंक्ड लोन में 40 आधार अंकों की कटौती का किया ऐलान  

  • बचत खाते पर ब्याज दरों में 0.50 फीसदी की कटौती की गई है, यह 1 जुलाई प्रभावी होगी
  • बैंक ने अपने टर्म डिपॉजिट के लिए भी ब्याज दरों में एक बार फिर कटौती कर दी है

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 10:21 PM IST

नई दिल्ली. देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक पंजाब नेशनल बैंक (PNB) ने सोमवार को ब्याज दरों में कटौती का ऐलान किया है। पीएनबी ने रेपो-लिंक्ड लेंडिंग रेट (RLLR) में 40 बेसिक प्वांइट (BPS) की कमी करने का फैसला किया है। अब बैंक में रेपो-लिंक्ड लेंडिंग रेट 7.05 फीसदी से घटकर 6.65 फीसदी आ गई है। इसके अतिरिक्त बैंक ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड्स (MCLR) आधारित लेंडिंग रेट को सभी अवधि के लिए पांच से 15 आधार अंक कम किया है। बता दें कि इससे होम लोन, कार लोन या फिर पर्सनल लोन लेने वाले ग्राहकों पर लोन के ब्याज का बोझ कम होगा। 

सभी वर्ग के लोगों को होगा फायदा- बैंक

बैंक द्वारा जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, बचत खाते पर ब्याज दरों में 0.50 फीसदी की कटौती की गई है। यह 1 जुलाई प्रभावी होगी। यानी 1 जुलाई से बैंक के बचत खाते पर अधिकतम 3.25 फीसदी का सालाना ब्याज मिलेगा। अब पीएनबी के बचत खाते में 50 लाख रुपए तक के बैलेंस पर 3 फीसदी सालाना और 50 लाख से ज्यादा के बैलेंस पर 3.25 फीसदी सालाना की ब्याज दर मिलेगी। बैंक ने अपने टर्म डिपॉजिट के लिए भी ब्याज दरों में एक बार फिर कटौती कर दी है। यह कटौती सोमवार यानी आज से प्रभावी हो गई है। बैंक द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि बैंक ने केंद्रीय बैंक के निर्देशों का पालन करते हुए ब्याज दरों में कटौती की है। बैंक के इस कदम से लोन लेने वाले सभी वर्ग के लोगों को फायदा होगा।

वरिष्ठ नागरिकों के लिए यह 2 करोड़ रुपए तक की घरेलू जमा पर सभी परिपक्वताओं के लिए लागू कार्ड दर पर 75 बीपीएस की उच्च ब्याज दर की पेशकश कर रहा है।

अन्य बैंकों ने भी किया है ब्याज दर में कटौती का ऐलान

बता दें कि पीएनबी से पहले भारतीय स्टेट बैंक समेत कई बैंक अपनी ब्याज दरों में कटौती का ऐलान कर चुके हैं। वहीं, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने भी शनिवार को एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट (ईबीएलआर) में 40 आधार अंकों की कटौती की घोषणा की थी। इसके बाद ईबीएलआर 6.80 प्रतिशत हो गया। बैंक ने यह कटौती आरबीआई द्वारा हाल ही में रेपो रेट में किए गए बदलाव के मद्देनजर की है। 

सार्वजनिक क्षेत्र के यूको बैंक (UCO Bank) ने रिजर्व बैंक की रेपो दर से जुड़े अपने ऋणों की ब्याज दर शुक्रवार को 0.40 फीसदी घटा दी. बैंक ने एक बयान में कहा कि उन्होंने रेपो दर आधारित ऋण ब्याज दर ‘यूको फ्लोट’ (UCO Float) को 0.40 फीसदी घटा दिया है. यह 27 मई से 7.30 फीसदी की जगह 6.90 फीसदी हो गई है. बैंक ने कहा कि इससे उसके लघु एवं मध्यम उद्योग ऋण और दूसरे खुदरा ऋण सस्ते हो जाएंगे.

बैंक ऑफ इंडिया ने की 0.25 फीसदी कटौती

पब्लिक सेक्टर में कार्यरत एक और बैंक ने भी ब्याज दरों में कटौती की है। बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) ने अपने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लैंडिंग रेट में 0.25 फीसदी कटौती का ऐलान किया है। इससे होम लोन और कार लोन की ब्याज दरों में कमी हो जाएगी। अब बैंक ग्राहकों को 7.70 फीसदी के हिसाब से ब्याज देना होगा। पहले यह दर 7.95 फीसदी थी। इसके साथ ही बैंक ने रेपो रेट से जुड़े लोन में भी कमी कर दी है। बैंक ने अपने एक्सटर्नल बेंचमार्क लैंडिंग रेट में 40 बेसिस प्वाइंट की कमी करने का फैसला किया है. अब नया ईबीएलआर 6.85 फीसदी हो गया है, जो 1 जून से प्रभावी है।

RBI ने रेपो रेट में की थी कटौती

बता दें कि कोरोना वायरस के चलते अर्थव्यवस्था पर बढ़ रहे दबाव और मध्यवर्ग की आय प्रभावित होने के बीच रिजर्व बैंक आफ इंडिया (RBI) ने आम लोगों को राहत दी थी। रिजर्व बैंक ने 22 मई को रेपो रेट में 40 बेसिस प्वॉइंट की कटौती की थी। रेपो रेट 4.4 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी कर दिया गया था।