दो साल से जिन शेयरों में कोई कारोबार नहीं था, अचानक 3 महीने में 3 गुना बढ़ गए, नए निवेशक आजमा रहे हैं दांव

  • कभी-कभी इस तरह के पेन्नी शेयर निवेशकों की पूरी पूंजी खत्म कर देते हैं
  • कुछ शेयरों में एक्सचेंज ने ड्यू डिलिजेंस बढ़ाने का भी निर्देश दिया है

दैनिक भास्कर

Jun 24, 2020, 09:43 AM IST

मुंबई. पिछले दो सालों से जिन पेन्नी स्टॉक में कोई कारोबार नहीं हो रहा था, वे शेयर अचानक सबसे ज्यादा रिटर्न देनेवाले साबित हो रहे हैं। पिछले तीन महीनों में इस तरह के कई शेयरों ने तीन गुना रिटर्न दिया है। यही नहीं, बाजार के ट्रेडर्स भी इसमें भाग लेने लगे हैं।

इन शेयरों में दिखी है अच्छी खासी तेजी

जिन शेयरों में अच्छी खासी बढ़त देखी गई है उसमें प्रमुख रूप से रुचि इंफ्रा का शेयर 5 गुना बढ़कर 11.19 रुपए पर कारोबार कर रहा है। जेएमटी ऑटो का शेयर 4.10 गुना बढ़कर 4.70 रुपए पर कारोबार कर रहा है। वोडाफोन आइडिया का शेयर तीन गुना बढ़कर 10 रुपए पर कारोबार कर रहा है। आयुष फूड्स का शेयर 3.3 गुना बढ़कर 63.70 रुपए पर कारोबार कर रहा है। सिंटेक्स प्लास्टिक्स का शेयर 3.28 गुना बढ़कर 2.83 रुपए पर कारोबार कर रहा है। मानकसिया एल्यूमिनियम का शेयर इसी दौरान 3.17 गुना बढ़ा है। यह 10.44 रुपए पर कारोबार कर रहा है।

ये शेयर भी 3 गुना से ज्यादा बढ़त के साथ कारोबार कर रहे हैं

इसी तरह विकास इंफोटेक का शेयर 3 गुना बढ़कर 4.58 रुपए पर कारोबार कर रहा है। सिंटेक्स इंडस्ट्रीज का शेयर 2.95 गुना बढ़कर 2.45 रुपए पर करोबार कर रहा है। विकास मल्टीकॉर्प का शेयर 2.92 गुना बढ़कर 4.43 रुपए पर कारोबार कर रहा है। जबकि बारट्रॉनिक्स इंडिया का शेयर 2.89 गुना बढ़कर 2.49 रुपए पर कारोबार कर रहा है। एज्युकॉम्प सोल्यूशंस का शेयर 2.81 गुना बढ़कर 4 रुपए पर कारोबार कर रहा है। डिग्जाम का शेयर 3.43 रुपए पर कारोबार कर रहा है। इसमें 3.08 गुना की वृद्धि हुई है।

लॉकडाउन की वजह से लोग बाजार में कर रहे हैं निवेश

दरअसल पेन्नी स्टॉक वे होते हैं जो बिलकुल सस्ते होते हैं। इनकी कीमत 2 रुपए, पांच रुपए या 12-15 रुपए भी होती है। हालांकि इन शेयरों में अचानक उछाल दिखने का कोई कारण नहीं दिख रहा है, पर यह रोजाना अच्छा खासा बढ़ रहे हैं। दरअसल लॉकडाउन की वजह से लोग बाहर नहीं जा रहे हैं और कुछ नए लोग भी शेयरों में दांव लगा रहे हैं। माना जा रहा है कि ऐसे लोग इन सस्ते शेयरों को देखकर खरीदारी कर रहे हैं। यही कारण है कि इन शेयरों में अचानक उछाल दिखने लगा है।

इन कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन भी 500 करोड़ रुपए से कम है। ये ऐसे शेयर हैं, जिसमें अनुभवी निवेशक कभी भी निवेश नहीं करना चाहते हैं।

वोल्यूम में भी अच्छी खासी हो रही है वृद्धि

आंकड़े बताते हैं कि पहली अप्रैल से लेकर अब तक के तीन महीने की अवधि में  लगभग 300 माइक्रो कैप शेयरों में तेजी आई है। उदाहरण के तौर पर ऑप्टो सर्किट के शेयर का रोजाना का वोल्यूम 2.3 करोड़ पर पहुंच गया है। पहले रोजान 46 लाख शेयरों का वोल्यूम होता था। इस शेयर का भाव अप्रैल में 1.77 रुपए था। इस समय यह 12.25 रुपए पर कारोबार कर रहा है। यानी करीबन 6 गुना रिटर्न इसने तीन महीनों में दिया है।

20 लाख नए खाते खुले हैं, जिनमें रिटेल निवेशक भी हैं

इसी तरह से 225 करोड़ के मार्केट कैपिटलाइजेशन वाली आंध्र सीमेंट का शेयर अप्रैल में 7.57 रुपए पर कारोबार कर रहा था। इस समय यह 3.67 गुना बढ़कर 21 रुपए के ऊपर कारोबार कर रहा है। मार्च की तुलना में इसके रोजाना के एवरेज वोल्यूम में 470 प्रतिशत का उछाल देखा गया है। एक मार्च से 31 मई के बीच ब्रोकर्स के यहां रिटेल निवेशकों ने 20 लाख नए खाते खोले हैं। इसमें छोटे निवेशक इस तरह के शेयरों में दांव लगा रहे हैं।

कभी-कभी निवेशकों को अच्छा लाभ हो जाता है

बाजार के जानकार ने बताया कि ये कुछ ऐसे शेयर हैं, जिनमें कभी-कभी निवेशकों को अच्छा खासा मुनाफा हो सकता है, लेकिन ये बहुत ही जोखिम वाले शेयर होते हैं। इस तरह के पेन्नी स्टॉक में अचानक मूवमेंट देखने को मिल सकता है। ये शेयर थोड़े समय के लिए निवेशकों को खुश कर सकते हैं, लेकिन बाद में ये निवेशकों को घाटा ही नहीं बल्कि उनकी पूरी जमा पूंजी डुबा देते हैं।

बीएसई ने 703 स्टॉक्स की पहचान की है

दरअसल हाल में कई अग्रणी ऑनलाइन ब्रोकरेज ने पेन्नी और इलिक्विड स्टॉक्स में कारोबार करने से बचने की सलाह दिए थे। हाल में बीएसई ने इस तरह के 703 स्टॉक्स की पहचान की थी जो इस कटेगरी में आते हैं। इन स्टॉक्स में निवेश न करने की सलाह दी गई है। 29 जून से इस तरह के शेयरों जैसे एस्काटर्स फाइनेंस, जेट एयरवेज, पुंज लॉयड, सुप्रीम इंफ्रा, टीसीआई फाइनेंस, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज के बारे में एक्सचेंज ने ड्यू डिलिजेंस बढ़ाने को कहा है।