दो माह में 7000 से अधिक कर्मचारियों की नियुक्ति करेगा ई-कॉम एक्सप्रेस, दिल्ली-मुंबई-कानपुर-भोपाल समेत देशभर में होगी हायरिंग

  • फेस्टिव सीजन की शुरुआत तक लगभग 35,000 कर्मचारियों को नियुक्त करने की योजना
  • ई-कॉम एक्सप्रेस देश के सभी 29 राज्यों में मौजूद है, 25000 से ज्यादा पिन-कोड में सेवाएं उपलब्ध कराता है

दैनिक भास्कर

Jun 17, 2020, 07:48 PM IST

नई दिल्ली. ई-कॉमर्स इंडस्ट्री को टेक्नोलॉजी की सहायता से लॉजिस्टिक्स से जुड़े सभी सोल्यूशंस उपलब्ध कराने वाली प्रमुख कंपनी ई-कॉम एक्सप्रेस ने 7000 से अधिक लोगों को नौकरी देने की घोषणा की है। कंपनी ने मौजूदा दौर में कोविड-19 की वजह से अर्थव्यवस्था एवं रोजगार के क्षेत्र में उत्पन्न संकट के बावजूद ये निर्णय लिया है। अगले दो महीनों के दौरान लास्ट-माइल डिलीवरी, वेयरहाउसिंग मैनेजमेंट, ऑपरेशंस, आईटी और डेटा साइंस जैसे सभी क्षेत्रों में स्थाई (परमानेंट) कर्मचारियों की हायरिंग की जाएगी।

इन शहरों में होगी हायरिंग

इन नए पदों पर नियुक्त होने वाले कर्मचारियों की संख्या, कंपनी के कुल कर्मचारियों की संख्या का 25% है। दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरु, हैदराबाद जैसे महानगरों के साथ-साथ अहमदाबाद, सूरत, चंडीगढ़, इंदौर, पटना, लखनऊ, कानपुर, भोपाल और जयपुर जैसे शहरों सहित पूरे देश में नियुक्ति की जाएगी। बता दें कि यह भारतीय ई-कॉमर्स इंडस्ट्री को टेक्नोलॉजी की सहायता से लॉजिस्टिक्स से जुड़े सभी सोल्यूशंस उपलब्ध कराने वाली प्रमुख कंपनी है। ई-कॉम एक्सप्रेस देश के सभी 29 राज्यों में मौजूद है तथा भारत के 2400 से अधिक शहरों एवं 25,000 से ज्यादा पिन-कोड में अपनी सेवाएं उपलब्ध कराती है।

बढ़ती मांग को देखते हुए भर्ती जरूरी

कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसीडेंट सौरभ दीप सिंगला ने कहा कि संकट के दौर में देश के विभिन्न शहरों में ऑनलाइन खरीदारी की मांग में बढ़ोतरी हुई है। सामानों को लोगों के घरों तक पहुंचाने के लिए हमें इसके दायरे को और ज्यादा विकसित करने की जरूरत है। ऐसे में नए कर्मचारियों की नियुक्ति बहुत जरूरी हो गई है।

फेस्टिव सीजन से पहले 35,000 कर्मचारियों की भर्ती 

फेस्टिवल सीजन के दौरान ऑनलाइन शॉपिंग में बड़े पैमाने पर बढ़ोतरी और डोरस्टेप डिलीवरी के प्रति लोगों की बढ़ती प्राथमिकता के लिए तैयार रहने के उद्देश्य से ई-कॉम एक्सप्रेस ने इस साल त्योहारों की शुरुआत तक लगभग 35,000 कर्मचारियों को नियुक्त करने की योजना तैयार कर ली है। इसके साथ-साथ कंपनी संकट के इस दौर में अपनी जरूरतों को बड़ी कठिनाई से पूरा कर रहे समुदायों की मदद करने तथा उन्हें आमदनी का अवसर उपलब्ध कराने की दिशा में योगदान देने के लिए बेहतर स्थिति में है।