दस साल पहले एक किलो चांदी की कीमत 10 ग्राम सोने से थी दोगुनी, अब बराबर भी नहीं रही

  • सोना लाइफ टाइम हाई पर बिक रहा, चांदी आज भी साल 2012 के भाव में मिल रही
  • सराफा बाजार में सोना 48500 रु. प्रति दस ग्राम बिक रहा है, चांदी 47700 रु. प्रति किलो है

जितेंद्र श्रीवास्तव

Jun 23, 2020, 07:36 AM IST

रतलाम/मुंबई. देश के सराफा बाजार में सोना और चांदी दो धातुएं ऐसी रही हैं, जिनकी बात हमेशा साथ में की जाती है। लंबे समय तक एक किलो चांदी की कीमत 10 ग्राम सोने की कीमत से करीब दोगुनी रही थी। हालांकि, हाल में सोने की कीमतों में आई रैली ने यह ट्रेंड बदल दिया है। अब 10 ग्राम सोने के भाव एक किलो चांदी से अधिक हो गए हैं।

सराफा बाजार में सोना 48500 रुपए प्रति दस ग्राम बिक रहा है। चांदी 47700 रुपए प्रति किलो है। 10 साल पहले यानी 2010 में सोना 16,350 रुपए प्रति दस ग्राम और चांदी 32,800 रुपए किलो बिक रही थी। 2012 में सोना 28 हजार रुपए प्रति दस ग्राम और चांदी 46 हजार रुपए प्रति किलो पहुंच गई।

अब बीते दो महीनों में आई सोने में रैली ने ट्रेंड ही बदल दिया है। अब 10 ग्राम सोना एक किलो चांदी से अधिक महंगा है। जेम एंड ज्वैलरी एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के चेयरमैन कॉलिन शाह ने कहा, निवेश के लिए सेफ हैवन होने से सोने की मांग अधिक है। विभिन्न देशों के सेंट्रल बैंक गोल्ड खरीद रहे हैं। इसलिए सोने के दाम बढ़े हैं।

इन तीन कारणों से आया बदलाव

  • रिसर्च, एंजल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता बताते हैं कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अनिश्चितता का माहौल होने से निवेशकों का रुझान सोने की तरफ ज्यादा है और लोग सोने में निवेश कर रहे हैं।
  • चांदी का 90 फीसदी उपयोग उद्योगों में होता है। 10 फीसदी उपयोग ही जेवर में होता है। चांदी की औद्योगिक मांग कम आ रही है।
  • अमेरिकी डॉलर और सोने के बीच विपरीत संबंध है। वैश्विक स्तर पर डॉलर की कीमत गिर रही है, इसलिए भी सोना महंगा हो रहा है।