डोप टेस्ट में फेल होने पर संदीप कुमारी पर 4 साल का प्रतिबंध; वाडा की जांच में शरीर में स्टेरॉयड मिला, 2 साल पहले नाडा की लैब ने क्लीन चिट दी थी

  • संदीप कुमारी पर लगा 4 साल का प्रतिबंध 26 जून 2018 से लागू होगा, क्योंकि उनका सैम्पल इसी दिन लिया गया था
  • एनडीटीएल लैब ने संदीप के अलावा 4 और खिलाड़ियों की रिपोर्ट में प्रतिबंधित पदार्थ नहीं पाया था, लेकिन वाडा की लैब में जांच के बाद सभी पॉजिटिव पाए गए

दैनिक भास्कर

May 02, 2020, 08:50 PM IST

डिस्कस थ्रो की महिला खिलाड़ी संदीप कुमारी को वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी(वाडा) की एथलेटिक्स इंटिग्रिटी यूनिट ने डोप टेस्ट में फेल होने पर 4 साल के लिए बैन कर दिया है। दो साल पहले नेशनल डोप टेस्टिंग लेबोरेटरी (एनडीटीएल) ने उनके नमूने को सही पाया था। लेकिन जांच के दौरान एनडीटीएल खून में प्रतिबंधित स्टेरॉयड का पता नहीं लगा पाई।  
नाडा ने इस महिला एथलीट का सैम्पल जून 2018 में गुवाहाटी में हुई इंटर स्टेट नेशनल चैम्पियनशिप के दौरान लिया था। इसमें कुमारी ने 58.41 मीटर की दूरी तक चक्का फेंकते हुए गोल्ड जीता था। इसके बाद वाडा ने नवंबर 2018 में कनाडा के मॉन्ट्रियल स्थित लेबोरेटरी में संदीप का सैम्पल दोबारा जांचने का फैसला किया। इस जांच में उनके शरीर में प्रतिबंधित स्टेरॉय़ड मेटेनोलोन मिला। कुमारी ने 26 जून से 21 नवंबर 2018 के बीच जिस भी प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था, उसके नतीजों को रद्द कर दिया जाएगा। 

संदीप कुमारी पर लगा बैन 2018 से लागू होगा

वाडा ने शुक्रवार रात को बताया कि कुमारी पर लगा 4 साल का बैन 26 जून, 2018 से ही लागू होगा। क्योंकि इसी दिन जांच के लिए उनका सैम्पल लिया गया था। केवल इस महिला एथलीट का ही नहीं, बल्कि एनटीडीएल लैब में भेजी गई 4 अन्य एथलीट्स के सैम्पल की रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। लेकिन जब मॉन्ट्रियल के लैब में इनके नमूनों का परीक्षण किया गया था तो सबकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसमें झूमा खातून नाम की एक एथलीट भी शामिल हैं, जिसे पिछले महीने ही 4 साल के लिए बैन किया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *