टीसीएस को मिला 25X25 का विजन, सिर्फ 25 फीसदी कर्मचारी ही ऑफिस से करेंगे काम, 2025 तक लागू हो जाएगी यह कार्यशैली

  • टीसीएस के कर्मचारी ऑफिस में 25 फीसदी से ज्यादा समय बिताए बिना पूरी क्षमता से कर सकेंगे काम
  • दुनियाभर में लॉकडाउन के बाद कुछ ही दिनों में कंपनी के 90% कर्मचारी घर से काम करने में हुए सक्षम

दैनिक भास्कर

May 20, 2020, 08:27 PM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस ने देश की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा प्रदाता कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) को एक नया 25X25 विजन दिया है। इस विजन का मतलब यह है कि आने वाले वर्षों में कंपनी एक नई कार्यसंस्कृति अपनाने जा रही है। इसके तहत किसी भी समय में कंपनी के कार्यालय परिसर में सिर्फ 25 फीसदी कर्मचारी ही काम करेंगे। बाकी कर्मचारी घर से काम करेंगे। यह कार्यसंस्कृति 2025 तक लागू हो जाएगी। साथ ही कंपनी के किसी भी कर्मचारी को अपनी पूरी क्षमता से काम करने के लिए 25 फीसदी से ज्यादा वक्त कार्यालय परिसर में बिताने की जरूरत नहीं होगी।

कंपनी के 90 फीसदी कर्मचारी घर से काम करने में हुए सक्षम
कंपनी की सालाना रिपोर्ट में शेयरधारकों के नाम लिखे एक पत्र में टीसीएस के सीईओ और एमडी राजेश गोपीनाथन ने नए विजन की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरोनावायरस को खत्म करने के लिए दुनियाभर में लॉकडाउन लागू होने के बाद कुछ ही दिनों में कंपनी ने अपने 4.48 लाख कर्मचारियों में से 90 फीसदी को घर से काम करने में सक्षम बना दिया। कंपनी के सिक्योर बॉर्डरलेसस वर्कस्पेस (एसबीडब्ल्यूएस) मॉडल से ग्राहकों को कोई दिक्कत नहीं है। बल्कि जो काम दूसरी कंपनियां नहीं कर पा रही हैं, वे काम भी ग्राहक टीसीएस को देना चाहते हैं। इससे हमें 25X25 का विजन मिला है। हमें विश्वास है कि 2025 तक किसी भी वक्त कंपनी के सिर्फ 25 फीसदी कर्मचारियों को ही ऑफिस आकर काम करने की जरूरत रह जाएगी। और अपनी पूरी क्षमता से काम करने के लिए किसी भी कर्मचारी को 25 फीसदी से ज्यादा समय कार्यालय में बिताने की जरूरत नहीं रहेगी।

विपरीत स्थिति का मुकाबला करने में कंपनी पूरी तरह सक्षम : चेयरमैन चंद्रशेखरन
रिपोर्ट में कंपनी के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा कि अगला कुछ महीना पूरी दुनिया की कंपनियों के लिए कठिन होने वाला है, लेकिन टीसीएस विपरीत स्थिति से निपटने और इस दौरान मिलने वाले अवसरों का लाभ उठाने में पूरी तरह से सक्षम है। चंद्रशेखरन टाटा संस के भी चेयरमैन हैं। उन्होंने कहा कि जब हम कोरोनावायरस की समस्या से बाहर निकलेंगे, तब यह दुनिया बिल्कुल अलग-सी होगी। ये बदलाव अभी से दिखने लगे हैं। लोग अब घर से ही वे सारे काम कर रहे हैं, जो वे पहले व्यक्तियों के साथ आमने-सामने की मुलाकात करके करते थे। कोविड-19 के बाद दुनिया में टेक्नोलॉजी और भी बड़ी भूमिका निभाने वाली है।