जोकोविच ने स्वास्थ्य प्रतिबंधों को जरूरत से ज्यादा सख्त बताया, कहा- हफ्ते में तीन बार टेस्ट कराना और सिर्फ एक स्टाफ को साथ रखना असंभव

  • नोवाक जोकोविच ने कहा- यूएस ओपन के आयोजकों ने जो नियम बनाए हैं, उसकी वजह से तो हमें एयरपोर्ट के पास होटल में रहना पड़ेगा
  • राफेल नडाल ने दो दिन पहले ही कहा था कि अगर मौजूदा हालात में टूर्नामेंट होता है तो मैं इसमें हिस्सा नहीं लूंगा

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 09:56 AM IST

वर्ल्ड नंबर-1 टेनिस खिलाड़ी सर्बिया को नोवाक जोकोविच ने यूएस ओपन से जुड़े स्वास्थ्य प्रतिबंधों को जरूरत से ज्यादा सख्त बताया है। उन्होंने कहा कि आयोजकों ने टूर्नामेंट को लेकर जो हेल्थ प्रोटोकॉल तय किए हैं। उसका पालन करना लगभग असंभव है। उन्होंने सर्बिया के टीवी चैनल से बातचीत में यह कहा। 

जोकोविच ने कहा- एक दिन पहले मेरी वर्ल्ड टेनिस के लीडर्स से फोन पर बात हुई। इसमें टेनिस सीजन को दोबारा शुरू करने के कई विकल्पों पर चर्चा हुई। खासतौर पर अगस्त के आखिर में यूएस ओपन के आयोजन को लेकर। हालांकि, अब तक इसकी कोई तारीख तय नहीं हुई है। लेकिन यूएस ओपन के आयोजकों ने खिलाड़ियों के टूर्नामेंट में शामिल होने को लेकर जो नियम तय किए हैं, उसे पूरा करना असंभव है। 

कड़े प्रतिबंधों का पालन करना खिलाड़ी के लिए मुश्किल: जोकोविच

2011, 2015 और 2018 में यूएस ओपन चैम्पियन रह चुके जोकोविच ने कहा कि आयोजकों ने खिलाड़ियों की आवाजाही को नियंत्रित करने की बात कही है। अगर इसका पालन करते हैं तो हम मैनहटन भी नहीं जा सकते। हमें न्यूयॉर्क एयरपोर्ट के पास के होटलों में ही सोना पड़ेगा। इतना ही नहीं हफ्ते में दो से तीन बार कोरोना टेस्ट कराना पड़ेगा। हमें क्लब के भीतर सिर्फ एक सपोर्ट स्टाफ लाने की इजाजत होगी, यह किसी भी खिलाड़ी के लिए बहुत मुश्किल होगा। 

‘बिना कोच और फिटनेस ट्रेनर के ट्रेनिंग कैसे करेंगे’

हम कोच, फिटनेस ट्रेनर और फिजियोथेरेपिस्ट के बिना कैसे ट्रेनिंग कर सकते हैं। आयोजकों के सभी सुझाव बहुत ही कड़े और पेचीदा हैं। हालांकि, मैं समझ सकता हूं कि आर्थिक वजहों, मौजूदा कॉन्ट्रैक्ट की वजह से आयोजकों पर टूर्नामेंट को कराने का दबाव है। इसलिए इस तरह की शर्तें लगाई गई हैं। 

नडाल मौजूदा हालात में यूएस ओपन खेलने से मना कर चुके

इससे पहले, राफेल नडाल और वर्ल्ड नंबर-1 महिला खिलाड़ी एश्ले बार्टी ने भी यूएस ओपन को लेकर चिंता जाहिर की थी। नडाल ने कहा था कि अमेरिका समेत पूरी दुनिया में कोरोना की स्थिति पूरी तरह ठीक होने पर ही टेनिस शुरू होना चाहिए। उन्होंने कहा था- अगर आप आज की स्थिति में मुझसे यूएस ओपन खेलने के लिए कहेंगे, तो मैं कहूंगा नहीं।

वहीं, बार्टी ने कहा था कि मुझे यूएस ओपन पर कोई फैसला आने से पहले डब्ल्यूटीए (वर्ल्ड टेनिस एसोसिएशन) और यूएसटीए (अमेरिकी टेनिस एसोसिएशन) से अमेरिका में कोरोना की स्थिति को लेकर सही और पूरी जानकारी लेनी होगी। क्योंकि, यह सिर्फ मेरे लिए नहीं, बल्कि मेरी टीम के लिए भी जरूरी है। न्यूयॉर्क में इस साल यूएस ओपन 24 अगस्त से 13 सितंबर तक होना है।

20 सितंबर से होगा फ्रेंच ओपन
इस साल जनवरी-फरवरी में पहला ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन हो चुका है, जबकि जुलाई में होने वाले विंबलडन को रद्द कर दिया गया। दूसरे विश्व युद्ध के बाद यह टूर्नामेंट पहली बार रद्द हुआ। वहीं, 24 मई से होने वाले फ्रेंच ओपन की तारीख बढ़ाकर 20 सितंबर कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *