ग्रोफर्स, बिग बॉस्केट और अमेजन को टक्कर देने आ गई रिलायंस जियो मार्ट, एमआरपी पर 15 प्रतिशत तक दे रही है डिस्काउंट

  • जियो मार्ट का यह डिस्काउंट अन्य कंपनियों के लिए दिक्कत पैदा कर सकता है
  • कंपनी ने अभी महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में ही इसे शुरू किया है

दैनिक भास्कर

Jun 27, 2020, 08:57 PM IST

नई दिल्ली. रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा लांच ऑन लाइन ग्रोसरी सेवा देनेवाली जियो मार्ट ने अपने प्रतिद्वंदी ग्रोफर्स, बिग बॉस्केट और अमेजन को टक्कर देना शुरू कर दिया है। जियो मार्ट ग्रोसरी पर भारी डिस्काउंट की शुरुआत की है। यह डिस्काउंट अन्य कंपनियों के लिए दिक्कत पैदा कर सकता है। जियो को आवश्यक वस्तुओं के लिए भारत के बढ़ते ऑनलाइन बाजार में एक बड़ा अवसर दिखाई दे रहा है।

जियो मार्ट महाराष्ट्र के बाद इसे पूरे देश में विस्तार करेगी

हालांकि कंपनी ने अभी मुंबई सहित महाराष्ट्र के कुछ इलाकों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में ही इसे शुरू किया है। जियो मार्ट ने चावल, तेल, आटा, चीनी और इस तरह की अन्य जरूरी चीजों को कम भाव पर सप्लाई करना शुरू किया है। रिलायंस जियो मार्ट महाराष्ट्र के बाद इसे पूरे देश में विस्तार करेगी। इसके तहत यह 200 इलाकों में इन चीजों की आपूर्ति करेगी। इससे इसकी मौजूदगी अमेजन पैंट्री, डीमार्ट रेडी आदि से ज्यादा शहरों तक होगी।

डीमार्ट के 16 प्रतिशत से मामूली कम है जियो मार्ट का डिस्काउंट

इसकी वेबसाइट के मुताबिक जियोमार्ट ने अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) पर कम से कम 5 प्रतिशत डिस्काउंट का ऑफर किया है। जेफरीज की रिपोर्ट के मुताबिक, जियोमार्ट एमआरपी पर 15 प्रतिशत से ज्यादा का डिस्काउंट दे रही है। हालांकि यह डीमार्ट के 16 प्रतिशत से मामूली कम है। लेकिन अमेजन और बिग बॉस्केट के 9 प्रतिशत डिस्काउंट से काफी ज्यादा है।

रिटेल और ग्रोसरी में भी टेलीकॉम जैसा हिसाब किताब करेगी

दरअसल, जियो की यह योजना उसी तरह है जैसी उसने टेलीकॉम में शुरू की थी। टेलीकॉम में पहले मुफ्त और फिर डेटा में डिस्काउंट रेट पेश कर जियो आज टेलीकॉम में सबसे बड़ी कंपनी देश में है। उसके पास 40 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। इसने टेलीकॉम बिजनेस में करीबन 25 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचकर 1.15 लाख करोड़ रुपए जुटाए हैं। माना जा रहा है कि यह रिटेल और ग्रोसरी में भी इसी तरह का हिसाब किताब करेगी।
 
वैसे ट्रेडर्स ने पहले से ही इसके खतरे को भांप लिया है। बड़ी ई-ग्रोसरी कंपनियां जैसे अमेजन और बिग बॉस्केट आदि ने पहले से ही ज्यादा डिस्काउंट देना शुरू किया था। लेकिन ज्यादा डिस्काउंट देना अब उनके लिए सही नहीं है क्योंकि ज्यादा डिस्काउंट से उनकी पॉकेट से पैसा निकल सकता है।