खेल मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार प्रैक्टिस कर सकेंगे खिलाड़ी; सबसे पहले एथलेटिक्स और वेटलिफ्टिंग की ट्रेनिंग शुरू होगी

  • भारतीय ओलिंपिक संघ के कोषाध्यक्ष ने कहा- अभी कॉम्पिटीशन ज्यादा नहीं है, इसलिए स्टेडियम सिर्फ प्रैक्टिस के लिए ही खुलेंगे
  • शुरुआत में इंटरनेशनल इवेंट की तैयारी कर रहे खिलाड़ियों को प्राथमिकता दी जाएगी, छोटे बच्चों के स्टेडियम में आने पर पाबंदी रहेगी

दैनिक भास्कर

May 18, 2020, 07:26 AM IST

शशांक सिंह/संजीव गर्ग| पटियाला/जयपुर.  लॉकडाउन-4 से खेल जगत के लिए अच्छी खबर आई है। गृह मंत्रालय ने स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स और स्टेडियम खोलने की अनुमति दे दी है। हालांकि, दर्शकों की एंट्री पहले की तरह बैन रहेगी। इसका सीधा फायदा खिलाड़ियों को मिलेगा, जो लॉकडाउन के कारण प्रैक्टिस नहीं कर पा रहे थे। 
सरकार ने घरेलू और इंटरनेशनल उड़ानें शुरू करने की अनुमति नहीं दी है। विदेशी खिलाड़ी नहीं आ सकेंगे। यानी फिलहाल आईपीएल के आयोजन की उम्मीदें नहीं दिख रही हैं।

खेल मंत्रालय की गाइडलाइन पर अमल होगा

देश के सबसे बड़े खेल सेंटर एनआईएस पटियाला के ईडी कर्नल राज बिश्नोई ने बताया, ‘अभी खेल मंत्रालय की ओर से कोई गाइडलाइन नहीं आई है, जैसे ही गाइडलाइन आ जाएगी उस पर अमल किया जाएगा। इसी के अनुसार, खिलाड़ियों की प्रैक्टिस शुरू की जाएगी। हमारी तरफ से तैयारी पूरी है।’ 

सबसे पहले एथलेटिक्स, बॉक्सिंग के खिलाड़ियों की ट्रेनिंग शुरू होगी

सूत्रों के अनुसार, सबसे पहले एथलेटिक्स, बॉक्सिंग और वेटलिफ्टिंग की प्रैक्टिस शुरू हो सकती है। वहीं, हॉकी टीमें बेंगलुरू के साई सेंटर में हैं। वहां भी प्रैक्टिस शुरू हो सकती है।

ओलिंपिक में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी ट्रेनिंग करेंगे

पिछले हफ्ते ही खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा था कि ओलिंपिक क्वालिफाई कर चुके खिलाड़ी और जो क्वालिफाई करने की रेस में हैं, उनकी ट्रेनिंग मई के अंत में एनआईएस और बेंगलुरू में शुरू हो सकती है।

भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) के कोषाध्यक्ष डॉ आनंदेश्वर पांडे ने कहा, ‘अभी कॉम्पिटीशन ज्यादा नहीं है। इसलिए स्टेडियम सिर्फ प्रैक्टिस के लिए ही खुलेंगे। हमने सभी फेडरेशन और कोच को जानकारी दे दी है कि किस तरह से सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखते हुए प्रैक्टिस करनी है।

इंटरनेशनल इवेंट में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों को प्राथमिकता

शुरुआत में इंटरनेशनल इवेंट की तैयारी कर रहे खिलाड़ियों को प्राथमिकता दी जाएगी। छोटे बच्चों के स्टेडियम में आने पर पाबंदी रहेगी। खेल मंत्रालय से जो भी गाइडलाइन मिलेगी, उसके अनुसार तैयारी करेंगे।’ 

खिलाड़ियों की छूट पर राय
मैं पिछले दो महीने से घर पर थी और ट्रेनिंग नहीं कर पा रही थी। स्टेडियम खुलने से अब सुबह-शाम शेड्यूल बनाकर ट्रेनिंग कर सकूंगी। ओलिंपिक में अभी समय है। उसको ध्यान में रखते हुए तैयारी शुरू करूंगी। 
-दूती चंद, स्प्रिंटर

यह खिलाड़ियों के लिए बहुत सकारात्मक खबर है। इससे ऐसे खिलाड़ियों को तैयारी में मदद मिलेगी, जो ओलिंपिक के लिए क्वालिफाई कर चुके हैं या क्वालिफायर खेलने वाले हैं। उम्मीद है कि साई सेंटर बेंगलुरू में भी चीजें जल्द शुरू हो जाएंगी। 
-विवेक सागर प्रसाद, हॉकी खिलाड़ी

विदेश में सभी तरह के स्टेडियम को ओपन किया जा रहा है। कहीं-कहीं टूर्नामेंट भी शुरू हो गए हैं। सरकार की ओर से अच्छा फैसला लिया गया है। अब हम सभी गाइडलाइन का पालन कर प्रैक्टिस कर सकते हैं। 
-यशस्वी जायसवाल, क्रिकेटर

खिलाड़ी घर में रहकर और फिटनेस प्रैक्टिस करते-करते थक गए। अब खिलाड़ी फोकस होकर स्किल ट्रेनिंग कर सकेंगे। हालांकि, अब हमें कोरोना के साथ ही जीना सीखना होगा। इसलिए जो भी गाइडलाइन जारी की जाए, सभी खिलाड़ी उसे फॉलो करें। 
-अपूर्वी चंदेला, एयर राइफल शूटर

मैं मार्च से ही साई सेंटर सोनीपत में हूं। लॉकडाउन के कारण आउटडोर ट्रेनिंग नहीं कर पा रहा था। अगर हमें ट्रेनिंग करने की अनुमति मिलती है तो हम पैरालिंपिक समेत अन्य इवेंट्स की तैयारी कर सकेंगे। हम सरकार के सभी दिशा निर्देशों के साथ और सुरक्षा मानकों के साथ ही ट्रेनिंग करना चाहेंगे। 
-अमित सरोहा, पैरालिंपियन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *