क्रिकेट में मैच के दौरान कोरोना संक्रमण का खतरा बहुत कम, इंडोर प्रैक्टिस से जोखिम हो सकता है

  • यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर कॉलेज ऑफ मेडिसिन एंड हेल्स के डॉक्टर ने यह रिपोर्ट तैयार की
  • रिपोर्ट के मुताबिक, गेंद को चमकाने के लिए लार के इस्तेमाल से संक्रमण का खतरा बना रहेगा

दैनिक भास्कर

May 21, 2020, 10:14 AM IST

इंग्लैंड में जल्द क्रिकेट खिलाड़ी प्रैक्टिस शुरू करेंगे। इस बीच यूनिवर्सिटी ऑफ एक्सेटर ऑफ मेडिसिन एंड हेल्स के लेक्चरर डॉक्टर भरत पंखनिया ने कहा कि खेल के दौरान क्रिकेट में संक्रमण का खतरा कम होता है। ओपन एरिया के कारण संक्रमण का फैलाव और उसका प्रभाव कम हो जाता है। हालांकि गेंद पर लार का उपयोग करने से संक्रमण हो सकता है।

संक्रामक रोग नियंत्रण डिपार्टमेंट के वरिष्ठ क्लिनिकल लेक्चरर पंखनिया ने कहा है कि एक खेल के दौरान साथी खिलाड़ियों को कोरोनोवायरस फैलाने का जोखिम कम होता है।

अंपायर पर भी खतरा कम
विजडन से बात करते हुए डॉक्टर ने कहा कि गेंद पर लार से संक्रमण हो सकता है। गेंद के संक्रामक होने की उम्मीद कम है। ओपन एरिया और शुष्क वातावरण एक सही जगह है। बल्लेबाजी के दौरान पास खड़ा फील्डर को थोड़ा खतरा है। अंपायर पर भी खतरा कम होगा।

लंकाशायर ने कहा- फैंस के साथ मैच करा सकते हैं
इंग्लैंड में जुलाई से इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी होनी है। इस बीच काउंटी क्लब लंकाशायर ने इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) को पत्र लिखकर फैंस के साथ टेस्ट मैच कराने की बात की है। लंकाशायर के मैदान ओल्ड ट्रेफर्ड पर टेस्ट खेला जाना है। लंकाशायर के सीईओ डेनियल गिडने ने कहा कि लोग कहते हैं कि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मैच नहीं कराए जा सकते। लेकिन मेरे हिसाब से दो से तीन हजार लोगों की जगह खाली करके 25 हजार दर्शक क्षमता वाले स्टेडियम में आसानी से डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *