कोरोना संकट में SBI गोल्ड लोन और ईपीएफ अकाउंट सहित ये 5 उपाय आपकी पैसों की समस्या को करेंगे दूर

  • SBI महज 7.75 फीसदी ब्याज पर पर्सनल गोल्ड लोन दे रहा है
  • कई बैंकों ने कोविड-19 पर्सनल लोन की भी शुरुआत की है

दैनिक भास्कर

Jun 14, 2020, 02:44 PM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस के कारण बाजार में मंदी बनी हुई है ऐसे में कई लोगों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। अगर आपको भी पैसों की जरूरत है तो आप कई तरह से अपने लिए धन जुटा सकते हैं। कई बैंक कोरोना को देखते हुए कम ब्याज पर कर्ज दे रहे हैं, इसके अलावा एसबीआई भी कम ब्याज पर गोल्ड लोन दे रहा है। हम आपको ऐसे कुछ विकल्पों के बारे में बता रहे हैं जहां से आप कर्ज ले सकते हैं।

SBI पर्सनल गोल्ड लोन
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने पर्सनल गोल्ड लोन की सुविधा शुरू की है। इसके तहत ग्राहक सोना रखकर 20 लाख रुपए तक का कर्ज ले सकता है। एसबीआई के अनुसार न्यूनतम कागजी कार्रवाई और कम ब्याज दरों के साथ बैंकों द्वारा बेचे गए सोने के सिक्कों सहित सोने के गहने गिरवी रखकर बैंक से गोल्ड लोन का लाभ उठाया जा सकता है। इस पर आपको सिर्फ 7.75 फीसदी सालाना ब्याज देना होगा जो पर्सनल लोन के मुकाबले काफी कम है। एसबीआई के अलावा कई अन्य वित्तीय संस्थाओं से भी गोल्ड लोन ले सकते हैं।

कोविड-19 पर्सनल लोन
कुछ बैंकों ने कोविड-19 पर्सनल लोन की शुरुआत की है। इन बैंकों में पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, इंडियन बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, महाराष्ट्र बैंक और बैंक ऑफ इंडिया भी शामिल है। कोविड-19 पर्सनल लोन में जीरो प्रोसेसिंग फीस और कम ब्याज दर सहित कई सारी खूबिया हैं। अगर आपका बैंक कोविड-19 पर्सनल लोन की पेशकश कर रहा है, तो आप इसके लिए जा सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के पर लोन
क्रेडिट कार्ड जारी करने वाली वित्तीय संस्थाएं कार्डधारकों को उनके कार्ड के प्रकार, खर्च और रीपेमेंट के आधार पर कर्ज देते हैं। एक बार एक कार्डधारक इस कर्ज का लाभ उठा लेता है, तो उसकी क्रेडिट सीमा उस राशि से कम हो जाएगी। हालांकि, कुछ कर्जदाता स्वीकृत क्रेडिट सीमा से ज्यादा और क्रेडिट कार्ड के बदले लोन देते हैं। अगर आप भी क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो इस पर लोन ले सकते हैं। 

ईपीएफ अकाउंट से भी निकाल सकते हैं रुपए
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने कोरोना संकट को देखते हुए करीब 8 करोड़ ईपीएफ खाताधारकों को राहत देते हुए उनके जमा की एडवांस निकासी की सुविधा दी है। ईपीएफओ ने कहा कि कर्मचारी अपने खाते में जमा रकम का 75 फीसदी या तीन महीने के वेतन के बराबर रकम निकाल सकते हैं। इस रकम का इस्तेमाल कर्मचारी अपनी जरूरतों के लिए कर सकते हैं और इसे फिर से जमा करने की जरूरत नहीं होगी। केवाईसी वाले अकाउंट्स होल्डर्स के आवेदन को 72 घंटों के अंदर ही प्रोसेस किया जा रहा है।

संपत्ति के बदले लोन
आप अपने घर या अन्य संपत्ति पर लोन ले सकते हैं। इसमें ब्याज दर लगभग 8.95% से शुरू होती है और यह कर्जदाता, कर्ज राशि और आवेदक की क्रेडिट प्रोफाइल पर निर्भर करता है। लोन का कार्यकाल 20 साल तक जा सकता है। लोन कितना मिलेगा ये कर्ज लेने वाले के क्रेडिट स्कोर और संपत्ति की कीमत पर निर्भर करता है।