कोटक महिंद्रा बैंक के शुद्ध लाभ में 10 प्रतिशत की गिरावट, मार्च तिमाही में 1,266 करोड़ रुपए का हुआ मुनाफा

  • प्रोविजन ज्यादा करने से बैंक का लाभ कम हुआ
  • कुल आय 8.1 प्रतिशत बढ़कर 8,294 करोड़ हुई

दैनिक भास्कर

May 13, 2020, 02:45 PM IST

मुंबई. प्राइवेट सेक्टर के बैंक कोटक महिंद्रा बैंक को मार्च तिमाही में 1,266.6 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ हुआ है। एक साल पहले समान अवधि में हुए 1,407.8 करोड़ रुपए की तुलना में यह 10 प्रतिशत कम है। लाभ में गिरावट इसलिए आई है क्योंकि बैंक ने इस दौरान ज्यादा प्रोविजन किया है। बुधवार को बैंक ने अपना फाइनेंशियल रिजल्ट जारी किया।

सालाना आधार पर लाभ 5,947 करोड़ रुपए रहा

रिजल्ट के मुताबिक 2019-20 में बैंक का शुद्ध लाभ 22.2 प्रतिशत बढ़कर 5,947.18 करोड़ रुपए हो गया है। जबकि इसके एक साल पहले यानी 2018-19 में यह लाभ 4,865.22 करोड़ रुपए था। बैंक की कुल आय इस दौरान 8.1 प्रतिशत बढ़कर 8,294 करोड़ रुपए रही है जो इसके पहले के साल की समान तिमाही में 7,672 करोड़ रुपए थी। बैंक की शुद्ध ब्याज आय 17.2 प्रतिशत बढ़कर 3,560 करोड़ रुपए रही है जो कि एक साल पहले समान तिमाही में 3,036 करोड़ रुपए थी।

बैंक की नेट इंट्रेस्ट मार्जिन जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान 4.73 प्रतिशत पर रही है। अन्य आय में 16.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और यह 1,489 करोड़ रुपए रही है। बैंक ने अपने बयान में कहा है कि उसने इस दौरान कोविड-19 से संबंधित जनरल प्रोविजन के लिए 650 करोड़ रुपए का प्रोविजन किया है। यह आरबीआई के आवश्यक नियम से ज्यादा है। बैंक ने तिमाही के दौरान कुल 1,047 करोड़ रुपए का प्रावधान किया जो इसके पहले के साल की समान तिमाही में 171 करोड़ रुपए ही था।

ग्रॉस एनपीए बढ़ा, पर शुद्ध एनपीए घटा

जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान बैंक का ग्रॉस एनपीए 5,026 करोड़ रुपए या 2.5 प्रतिशत रहा है। एक साल पहले समान अवधि में यह 2.14 प्रतिशत था। नेट एनपीए इसी दौरान 1,557 करोड़ रुपए या 0.71 प्रतिशत रहा है। यह 0.75 प्रतिशत से थोड़ा कम हुआ है। 31 मार्च तक बैंक का कुल एडवांस 7 प्रतिशत बढ़कर 2.19 लाख करोड़ रुपए रहा है जो एक साल पहले 2.05 लाख करोड़ रुपए था। बैंक ने बताया कि 2019-20 में इसने 44 लाख 811 टाइप का खाता खोला। यह अकाउंट अप्रैल और मई में लॉकडाउन के दौरान भी खोला जा रहा है।