कैंसर से जूझ रहे पूर्व मुक्केबाज डिंको सिंह कोरोना से संक्रमित, 20 मई को दिल्ली से इलाज कराकर मणिपुर लौटे थे

  • पूर्व मुक्केबाज डिंको सिंह का मणिपुर लौटने से पहले कोरोना टेस्ट कराया गया था, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी
  • मणिपुर सरकार ने उन्हें इलाज के लिए कोविड अस्पताल में भर्ती कराया, फिलहाल उनकी हालत स्थिर है
  • इस मुक्केबाज ने 1998 के बैंकॉक एशियन गेम्स में बैंटमवेट कैटेगरी में गोल्ड जीता था

दैनिक भास्कर

Jun 01, 2020, 08:02 AM IST

कैंसर से जूझ रहे पूर्व मुक्केबाज डिंको सिंह कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। फिलहाल उन्हें इम्फाल के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वे 20 मई को दिल्ली से अपने गृह राज्य मणिपुर लौटे थे। 

मणिपुर सरकार ने रविवार को अपने कोरोना बुलेटिन में पांच लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने की जानकारी दी थी। इसमें एक मरीज पूर्वी इम्फाल का था। जानकारी के मुताबिक, दिल्ली से लौटने के बाद डिंको यहीं के एक होटल में रह रहे थे।

दो दिन पहले बुखार होने पर डिंको का कोरोना टेस्ट कराया गया, रविवार को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हालांकि, नियमों के तहत सरकार किसी भी कोरोना मरीज का नाम सार्वजनिक नहीं करती है। 

मणिपुर लौटने से पहले डिंको की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव थी
बॉक्सर से जुड़े सूत्र ने न्यूज एजेंसी को बताया कि दिल्ली में इलाज के दौरान उनकी देखभाल कर रही नर्स की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटव आई थी। इसके बाद उनका भी टेस्ट कराया गया था। हालांकि, उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई। इसके बाद ही उन्हें मणिपुर लौटने की इजाजत दी गई थी। वे सड़क मार्ग से एंबुलेंस के जरिए 2400 किमी का सफर पूरा करके 20 मई को मणिपुर लौटे थे। 

डिंको के एंबुलेंस में संक्रमित होने की आशंका

मुक्केबाज से जुड़े सूत्र ने न्यूज एजेंसी को बताया कि उनके एंबुलेंस में संक्रमित होने की आशंका है। क्योंकि इसमें उनके साथ डॉक्टर, मेडिकल स्टाफ और ड्राइवर थे। हालांकि, अभी साफ तौर पर यह नहीं कहा जा सकता है। एहतियातन मेडिकल स्टाफ को भी क्वारैंटाइन किया गया है। इनका भी टेस्ट कराया जाएगा। 

अप्रैल में रेडिएशन थेरेपी के लिए दिल्ली गए थे

डिंको को लिवर कैंसर है। वे इसके इलाज के लिए लगातार दिल्ली जाते हैं। मार्च में भी उनकी रेडिएशन थेरेपी होनी थी। लेकिन लॉकडाउन की वजह से वह टल गई थी। जब बॉक्सिंग फेडरेशन को इसकी जानकारी लगी तो एयर एंबुलेंस के जरिए उन्हें अप्रैल के आखिरी हफ्ते में दिल्ली लाया गया। हालांकि, पीलिया हो जाने की वजह से उनकी थेरेपी पूरी नहीं हो पाई थी। 

2013 में डिंको सिंह को पद्मश्री मिला था

41 साल के डिंको ने 1998 के बैंकॉक एशियन गेम्स में बैंटमवेट कैटेगरी में गोल्ड जीता था। उन्हें 2013 में पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था। वे इंडियन नेवी में मुक्केबाजी कोच के तौर पर काम कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *