एसबीआई म्यूचुअल फंड के अश्विनी भाटिया जल्द ही बनेंगे एसबीआई में चौथे एमडी, फिलहाल बैंक में तीन एमडी हैं

  • 31 मार्च को पी.के. गुप्ता के रिटायर होने से खाली है एक एमडी का पद
  • 20 लोगों के इंटरव्यू में बीबीबी ने तीन लोगों की नियुक्ति की सिफारिश की

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 12:59 PM IST

मुंबई. देश की सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड कंपनी एसबीआई म्यूचुअल फंड के प्रबंध निदेशक अश्विनी भाटिया भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में एमडी बनेंगे। एसबीआई में फिलहाल तीन एमडी हैं और चौथे एमडी का पद खाली है। यह पद 31 मार्च को रिटायर हुए पी.के. गुप्ता के बाद खाली हुआ है। फिलहाल एसबीआई में अरिजीत बसू, दिनेश खारा और सी एस शेट्‌टी एमडी हैं।

अश्विनी भाटिया के नाम को मंजूरी 

बता दें कि बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) ने हाल में हुए इंटरव्यू में अश्विनी भाटिया के नाम को मंजूरी दे दी है। अब कैबिनेट की अपॉइंटमेंट कमिटी के फैसले के बाद उनकी नियुक्ति हो जाएगी। अश्विनी भाटिया एसबीआई के डीएमडी स्तर के अधिकारी हैं और वे डेप्यूटेशन पर म्यूचुअल फंड में आए थे। एसबीआई में चेयरमैन, एमडी के बाद काफी डीएमडी का भी पद है। इससे पहले एसबीआई म्यूचुअल फंड में एमडी रहे दिनेश खारा भी एसबीआई के एमडी बने थे।

जुलाई 2018 से भाटिया एसबीआई म्यूचुअल फंड में एमडी हैं

अश्विनी भाटिया जुलाई 2018 से एसबीआई म्यूचुअल फंड के एमडी हैं। बता दें कि हाल में एसबीआई म्यूचुअल फंड ने अच्छी प्रगति की है। असेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) के मामले में वह 3.80 लाख करोड़ रुपए के साथ सबसे बड़ी कंपनी है। हाल के समय में एसबीआई म्यूचुअल फंड ने काफी तेजी से बढ़त हासिल की है और साल 2020 उसके लिए काफी अच्छा रहा है। बैंक बोर्ड ब्यूरों में 7 सदस्य हैं और इसके प्रमुख पर्सनल एवं ट्रेनिंग के पूर्व प्रमुख बीपी शर्मा हैं।

सेंट्रल बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक के भी एमडी की नियुक्ति को मंजूरी

बीबीबी ने इसके साथ ही एमवी राव को सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के एमडी एवं सीईओ पद पर और पीपी सेनगुप्ता को इंडियन ओवरसीज बैंक के एमडी एवं सीईओ पद पर नियुक्त करने की सिफारिश की है। राव इस समय कैनरा बैंक में ईडी हैं और सेनगुप्ता एसबीआई में डीएमडी हैं। सेंट्रल बैंक में एस समय एमडी पालव मोहपात्रा हैं। वे फरवरी में रिटायर होंगे। जबकि इंडियन ओवरसीज के एमडी कर्णम सेकर इसी महीने में रिटायर होंगे। बीबीबी ने 20 लोगों का इंटरव्यू किया था जिसमें यह नाम तय हुए हैं। बीबीबी की स्थापना 2016 में की गई थी। तब से सरकारी बैंकों की नियुक्तियों में इंटरव्यू उसी के जरिए होता है।