एसबीआई चेयरमैन ने शेयर की कीमतों में गिरावट पर जताई नाराजगी, कहा मेरे पास बाजार से निपटने का तरीका नहीं है

  • एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने बैंक के शेयर की कीमतों में लगातार गिरावट पर नाराजगी जताई है
  • चुनौतियां आती जाती रहेंगी, पर एसबीआई में काम करेंगे तो सबसे पार पा लेंगे

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 10:05 PM IST

मुंबई. देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार ने बैंक के शेयर की कीमतों में लगातार गिरावट पर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि बाजार से निपटने का मेरे पास कोई तरीका नहीं है। मेरा ईमानदारी से मानना है कि बाजार किसी भी कारण से स्टेट बैंक के लिए फ़ेयर नहीं रहा है। फिर भी यह निवेशकों की पसंद है।

बिजनेस को बहाल होने में थोड़ा वक्त लगेगा

एक चैनल से बात करते हुए रजनीश कुमार ने कहा कि बाजार एक ऐसी चीज है जिससे आप लड़कर जीत नहीं सकते। उन्हें नीचे जाने का कारण मिल जाता है। अगर आप हमारे प्रदर्शन को देखें तो हमने कोई भी गलती नहीं की है। मैंने एक विश्लेषक के सवाल के जवाब में एक टिप्पणी की है कि यदि कोई छींकता है, तो हमें लगता है कि स्टेट बैंक को फ्लू मिलेगा, लेकिन ऐसा नहीं है। इसलिए मैं इसकी मदद नहीं कर सकता। इस मामले की सच्चाई यह है कि अगर आप आज हमारी बैलेंसशीट और इसके आकार और कमाई को देखें तो ऐसा कोई कारण नहीं है कि हमारे स्टॉक की कीमत में इतनी गिरावट होनी चाहिए। 

बाजार से निपटने की कोई क्षमता नहीं है

उन्होंने कहा कि मैं जानता हूं कि मेरे पास बाजार से निपटने की कोई क्षमता नहीं है, बाजार तो बाजार है। रजनीश कुमार ने कहा कि फिलहाल हमारी पूंजी जुटाने की कोई योजना नहीं है। हालांकि हमारे पास 20,000 करोड़ रुपए जुटाने का एक सक्षम तरीका है लेकिन मुझे नहीं लगता है कि निकट भविष्य में इसका इस्तेमाल हो सकता है। कोरोना में बैंकिंग के बारे में उन्होंने कहा कि हमने अपनी क्षमता का पूरा दोहन किया है। हमारी लगभग सभी शाखाएं या कह लीजिए कि 98 प्रतिशत शाखाएं ऑपरेशनल है। सिर्फ वहीं बंद हैं जहां पर कुछ स्थानीय समस्याएं हैं।

मोबाइल बैंकिंग एटीएम सभी ठीक से काम कर रहे हैं

उन्होंने कहा कि हमारी सभी तरह की सेवाएं जैसे कि इंटरनेट बैंकिंग मोबाइल बैंकिंग एटीएम सभी ठीक से काम कर रहे हैं। इससे पता चलता है कि हमारे बैंक की क्वालिटी हमारा दृढ़ संकल्प और साहस कैसा है। अगर आपके पास फोर्स का ऐसा कमिटमेंट हो तो आप सोच सकते हैं कि हम कैसी-कैसी मुश्किलों का सामना कर सकते हैं। बैंक की कार्यप्रणाली की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि अगर हम अपने ऑपरेशंस में ऐसी मुश्किलों का सामना कर सकते हैं तो अपने असेट्स क्वालिटी को बचाने और बिज़नेस ग्रोथ को मेन्टेन करने में क्यों नहीं।

पहले से प्रभावित सेक्टर आगे भी प्रभावित रहेंगे

रजनीश कुमार ने कहा कि हमारे पास टॉप क्लास की आइटीआर एनालिटिकल योग्यताएं हैं। एक से बढ़कर एक समर्पित मैन पावर है। चुनौतियां तो आती जाती रहती हैं, पर अगर आप स्टेट बैंक जैसे सक्षम संस्थान में काम करते हैं तो फिर उस से पार पा ही लेते हैं। उन्होंने कहा कि जो सेक्टर पहले से ही बुरी तरह से प्रभावित थे वे आगे भी प्रभावित रहेंगे। इसमें प्रमुख रूप से होटल, टूरिज्म और एविएशन आने वाले समय में भी प्रभावित रहेंगे। इनके बिजनेस को बहाल होने में थोड़ा वक्त लगेगा।

ऑटोमोबाइल सेक्टर में थोड़ा टाइम लग सकता है

एसबीआई चेयरमैन ने कहा कि अगर हम पावर सेक्टर की बात करें तो इसमें कोविड से पहले वाली मांग फिर से आ गई है। यहां तक कि स्टील के प्रोडक्शन में भी जिसमें गिरावट हो गई थी, उसमें 75 से 80 प्रतिशत तक वापस आ गई है। ऑटोमोबाइल भी एक ऐसा सेक्टर है जिसमें थोड़ा टाइम लग सकता है। यह सेक्टर दर सेक्टर निर्भर करता है। एक बार जब लोगों के मन में वायरस के प्रति बैठा डर कम हो जाएगा और चीजें हैं धीरे-धीरे सामान्य होगी तब हम यह कह सकेंगे कि डिमांड किस तरफ जा रही है। आज की तारीख में तो डिमांड और सप्लाई दोनों के बीच में काफी हद तक सुधार देखने को मिल रहा है।