एमसीसी के 233 साल के इतिहास में इंग्लैंड की कोनोर पहली महिला अध्यक्ष होंगी, अगले साल 1 अक्टूबर से संगकारा की जगह जिम्मेदारी संभालेंगी

  • क्लेयर कोनोर ने कहा- क्रिकेट ने मुझे बहुत कुछ दिया और अब यह सम्मान पाकर काफी खुश हूं
  • श्रीलंका के कुमार संगकारा 2019 में मेरिलबोन क्रिकेट क्लब के पहले गैर ब्रिटिश अध्यक्ष बने थे
  • मेरिलबोन क्रिकेट क्लब की स्थापना 1787 में हुई थी, लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान का ओनर भी यही क्लब है

दैनिक भास्कर

Jun 25, 2020, 09:17 AM IST

इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान क्लेयर कोनोर मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) के 233 साल के इतिहास में पहली महिला अध्यक्ष होंगी। कोनोर श्रीलंका के कुमार संगकारा की जगह लेंगी। इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड में वीमेंस क्रिकेट की मैनेजिंग डायरेक्टर कोनोर के नॉमिनेशन की घोषणा खुद संगकारा ने बुधवार को एजीएम में की।

कोनोर अगले साल एक अक्टूबर को पद संभालेंगी, लेकिन एमसीसी के सदस्यों की मंजूरी पहले जरूरी है। कोरोनावायरस के कारण संगकारा का कार्यकाल 1 साल के लिए और बढ़ा दिया गया था। उन्हें 2009 में क्लब का ऑनरेरी मेंबर बनाया गया था। 

मेरे लिए यह बड़ा सम्मान: कोनोर

यह जिम्मेदारी मिलने पर कोनोर ने कहा, ‘‘मैं एमसीसी के अगले अध्यक्ष पद के लिए नॉमिनेट किए जाने पर बहुत खुश हूं। क्रिकेट ने मुझे बहुत कुछ दिया है और अब यह सम्मान।’’

क्रिकेट के सबसे ताकतवर क्लब को आगे बढ़ाना लक्ष्य’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘इस मौके पर मैं पीछे मुड़कर देखती हूं, तो लगता है कि कितना आगे आ गई। मैं लॉर्ड्स में 9 साल की उम्र में पहली बार आई, तब महिलाओं का लॉन्ग रूम में स्वागत नहीं होता था। लेकिन वक्त बदल गया। अब मुझे क्रिकेट के सबसे ताकतवर क्लब एमसीसी को आगे बढ़ाने का मौका मिला है।’’

मुझे यकीन है कि क्लेयर एमसीसी को काफी योगदान देंगी: संगकारा

इस मौके पर संगकारा ने कहा, ‘‘मैं रोमांचित हूं कि क्लेयर ने एमसीसी का अगला अध्यक्ष बनने के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। क्रिकेट की ग्लोबल अपील में क्लब की अहम भूमिका है और मुझे यकीन है कि क्लेयर एमसीसी में काफी योगदान देंगी।’’

संगकारा एमसीसी के पहले गैर ब्रिटिश प्रेसिडेंट हैं। उन्होंने अक्टूबर 2019 में जिम्मेदारी संभाली थी और अगले साल सितंबर में उनका कार्यकाल खत्म होगा।  

क्लेयर ने 19 साल की उम्र में इंग्लैंड के लिए डेब्यू किया

कोनोर ने सिर्फ 19 साल की उम्र में 1995 में इंग्लैंड के लिए डेब्यू किया था। इसके पांच साल बाद ही वे टीम की कप्तान बन गईं। इस ऑलराउंडर की कप्तानी में इंग्लैंड की महिला टीम ने 2005 में ऑस्ट्रेलिया को एशेज सीरीज में 1-0 से हराया था। तब इंग्लैंड टीम 42 साल बाद एशेज जीती थी। इसके कुछ समय बाद ही उन्होंने क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। 

उन्हें 2007 में ईसीबी ने हेड ऑफ वीमेंस क्रिकेट बनाया। वे 2011 से आईसीसी की वीमेंस क्रिकेट कमेटी की चेयरमैन भी हैं। 

एमसीसी की स्थापना 1787 में हुई

मेरिलबोन क्रिकेट क्लब दुनिया का सबसे एक्टिव क्रिकेट क्लब है और लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान का ओनर है। इसकी स्थापना 1787 में हुई थी। एमसीसी पूरी दुनिया में क्रिकेट से जुड़े नियमों की संरक्षक है। रूल में बदलाव भी यही संस्था करती है। क्लब के 18 हजार फुलटाइम और 5 हजार एसोसिएट मेंबर हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *