एफपीआई ने जून में पांच सत्रों में इक्विटी बाजार में 20,814 करोड़ रुपए का निवेश किया, 2020 में एक महीने से सबसे ज्यादा इनफ्लो

  • अब तक मई महीने में एफपीआई ने सबसे ज्यादा 14,569 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे थे
  • रिलायंस के राइट्स इश्यू और कोटक महिंद्रा बैंक की हिस्सेदारी बिक्री से बढ़ा निवेश
  • एक्सपर्ट बोले- लॉकडाउन खुलने के बाद भारतीय बाजारों में बढ़ने लगा निवेशकों का भरोसा

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 11:27 AM IST

नई दिल्ली. जून के पहले सप्ताह में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने इक्विटी बाजार निवेश का एक रिकॉर्ड बना दिया है। जून 2020 के पहले पांच सत्रों में एफपीआई ने 20,814 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे हैं। यह कैलेंडर वर्ष 2020 के किसी महीने में एफपीआई की ओर से की गई अब तक की सबसे ज्यादा इक्विटी खरीदारी है। मई महीने में एफपीआई ने 14,569 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे थे।

दो ट्रांजेक्शन से बढ़ा एफपीआई का निवेश

रिलायंस सिक्योरिटीज के इंस्टीट्यूशनल बिजनेस हेड अर्जुन यश महाजन के मुताबिक, जून के पहले सप्ताह में दो प्रमुख ट्रांजेक्शन रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के राइट्स इश्य की खरीदारी में तेज बढ़ोतरी, कोटक महिंद्रा बैंक में हिस्सेदारी बिक्री से एफपीआई का निवेश बढ़ गया है। इसके अलावा कोरोना महामारी के लंबा रहने के बावजूद निवेशकों की धारणा में बदलाव आया है। इस कारण जून के पहले सप्ताह में एफपीआई ने ज्यादा खरीदारी की है। कोटक महिंद्रा बैंक के प्रमोटर उदय कोटक ने बैंक में अपनी 2.83 फीसदी हिस्सेदारी बेची है।

29 मई से 5 जून तक निफ्टी में 4.5 फीसदी का उछाल

महाजन का कहना है कि इन दोनों ट्रांजेक्शंस की बदौलत बेंचमार्क निफ्टी में 29 मई से 5 जून तक 4.5 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया है। 29 मई को निफ्टी 9580.30 अंकों पर बंद हुआ था। पांच जून तक यह 562 अंक बढ़कर 10142.15 पॉइंट पर बंद हुआ था। महाजन के मुताबिक, जून के पहले पांच सत्रों में सबसे ज्यादा जिन सेक्टर्स में एफपीआई ने खरीदारी की है, उसमें ऑटोमोबाइल, प्राइवेट बैंक और फार्मास्यूटिकल्स शामिल हैं।

आरआईएल के राइट्स इश्यू को 1.59 गुना सब्सक्रिप्शन मिला

आरआईएल के भारत के सबसे बड़े 53,124 करोड़ रुपए के राइट्स इश्यू को 1.59 गुना सब्सक्रिप्शन मिला है। राइट्स इश्यू में निवेशकों ने अच्छी दिलचस्पी दिखाई है। इसमें देशी और विदेशी दोनों निवेशकों का समावेश है। वहीं उदय कोटक ने हिस्सेदारी बेचकर 6800 करोड़ रुपए जुटाए हैं। इसमें सिंगापुर इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन, कनाडा पेंशन प्लान इन्वेस्टमेंट बोर्ड समेत कई विदेशी संस्थागत निवेशकों ने निवेश किया है।

लॉकडाउन खत्म होने के बाद लौट रहा निवेशकों का भरोसा

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन को अब सरकार ने धीरे-धीरे हटाना शुरू कर दिया है। इससे व्यावसायिक गतिविधियां शुरू हो गई हैं। बाजार के जानकारों का कहना है कि लॉकडाउन हटने और व्यावसायिक गतिविधियां शुरू होने के कारण निवेशकों का अब भारतीय बाजारों में भरोसा लौटने लगा है। यही कारण है कि जून के पहले सप्ताह में एफपीआई इक्विटी बाजार में इस साल का अब तक का सबसे ज्यादा निवेश किया है। रिलायंस के राइट्स इश्यू को जून के पहले तीन दिनों में जबरदस्त सब्सक्रिप्शन मिला है। वहीं, कोटक महिंद्रा बैंक के शेयरों की एफपीआई ने हाथोंहाथ खरीदारी की है।

2020 में एफपीआई का निवेश और निकासी

महीना इक्विटी  डेट
जनवरी     12,123     -11,648
फरवरी     1,820     2,097
मार्च     -61,973     -60,376
अप्रैल     -6,884     -12,552
मई     14,569     -22,935
जून*   20,814     -1,188
कुल   -19,531     -1,06,602

नोट: राशि करोड़ रुपए में है।

स्रोत: एनएसडीएल डाटा
* 6 जून तक अपडेटेड।