एग्जिट द ड्रैगन पर अमूल का ट्विटर अकाउंट हुआ डीएक्टिवेट, ट्विटर ने कहा पासवर्ड की सुरक्षा और पॉलिसी से ऐसा हुआ

  • ट्विटर ने बाद में अकाउंट को एक्टिवेट कर दिया था
  • अमूल का टॉपिकल कई दशकों से लोकप्रिय है

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 07:09 PM IST

मुंबई. अमूल के ट्विटर अकाउंट(@amul_coop) को 4 जून की देर रात अस्थायी रूप डीएक्टिवेट कर दिया गया। बाद में इसे एक्टिवेट भी कर दिया गया। हालांकि यह डीएक्विेट बिना किसी पूर्व सूचना के हुआ। अमूल ने “Exit the Dragon” को ट्विट किया था। इसी वजह से 3 जून को “Boycott of Chinese Products” कॉपी के साथ इसे डीएक्टिवेट किया गया। ट्विटर ने इस मामले में कहा है कि उसकी पॉलिसी और मजबूत पासवर्ड की वजह से ऐसा हुआ है।

डीएक्टिवेशन के कारण फॉलोवर्स टापिकल नहीं देख पा रहे थे

इस मामले में अमूल ने कहा कि 5 जून की सुबह, हमने अपने खाते को फिर से एक्टिव करने की प्रक्रिया का पालन किया और हम लाइव थे। डीएक्टिवेशन के कारण हमारे फॉलोवर्स टॉपिकल नहीं देख पा रहे थे। वे अमूल के समर्थन में बाहर आ गए। वे लोग ट्विटर के इस व्यवहार से नाखुश थे। हमने ट्विटर से संपर्क कर यह जानने की कोशिश की है कि उन्होंने ऐसा क्यों किया।

टॉपिकल की शुरुआत 1966 में की गई

अमूल ने कहा कि अमूल टॉपिकल 1966 में शुरू किया गया था। तब से पहला टॉपिकल स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय घटनाओं का गवाह रहा है। हमारे अमूल टॉपिकल में मौजूद हमारे अमूल मोपेट ने इन विभिन्न घटनाओं की जानकारी दी है जिनका लोगों के लाइव पर प्रभाव पड़ता है। अमूल टॉपिकल कई घटनाओं का गवाह रहा है। इसमें प्रमुख रूप से 1976 में आपातकाल, 1987 और 1989 में रामायण और महाभारत के प्रसारण तथा कोविड-19 के लॉकडाउन जैसी घटनाएं शामिल हैं।

ट्विटर ने दी सफाई, कहा अकाउंट स्पैम में चला गया

अमूल ने कहा कि अमूल टॉपिकल किसी भी समाचार तरह कार्य करता है। किसी भी घटना की रिपोर्टिंग निष्पक्ष की जाती है। इस मामले में ट्विटर ने कहा कि अकाउंट हमारे स्पैम फिल्टर में चला गया था। अकाउंट की सुरक्षा हमारी प्रमुख प्राथमिकता होती है। कभी-कभी कुछ सुनिश्चित करने के लिए हमें अकाउंट ओनर को एक साधारण री-कैप्चा प्रक्रिया को पूरा करने की आवश्यकता होती है। इसे ‘एंटी-स्पैम’ चैलेंज भी कहा जाता है।

अकाउंट की सुरक्षा के लिए की जाती है कार्रवाई

ये चैलेंजेज अकाउंट होल्डर को सॉल्व करने के लिए सरल हैं, लेकिन स्पैम या दुर्भावनापूर्ण अकाउंट होल्डर्स को पूरा करने के लिए मुश्किल होता है। एक बार जब अकाउंट होल्डर इस सिक्योरिटी स्टेप्स को पार करता है, जैसा कि @Amul_Coop के मामले में था, तो अकाउंट पूरी तरह से एक्सेस हो जाता है। यह कार्रवाई सिर्फ अकाउंट की सुरक्षा के लिए होती है।

केवल अकाउंट होल्डर ही एक्सेस कर रहा है, यह भी सुनिश्चित किया जाता है

ट्विटर के अनुसार लॉग इन करने के लिए केवल पासवर्ड डालने की बजाय, आपको एक कोड भी दर्ज करना होगा जो आपके मोबाइल फोन पर भेजा जाता है। यह सुनिश्चित करने में मदद करता है कि केवल अकाउंट होल्डर ही अकाउंट को एक्सेस कर रहा है। नियमित अंतराल पर थर्ड पार्टी एप्लीकेशन की समीक्षा करते रहना चाहिए। अकाउंट होल्डर अपने पासवर्ड को बार-बार किसी दूसरे वेबसाइट पर इस्तेमाल में ना लाएं।