एंटी ट्रस्ट, विज्ञापन एकाधिकार को लेकर गूगल पर अमेरिका में दर्ज हो सकते हैं नए मुकदमे, सरकार ने की तैयारी

  • अमेरिका का न्याय विभाग और अटॉर्नी जनरल का एक ग्रुप पिछले साल से कर रहा है जांच
  • गूगल के कारोबार समेत विज्ञापन, सर्च और एंड्रॉयड मॉडल की भूमिका भी जांची जा रही है

दैनिक भास्कर

May 16, 2020, 11:52 AM IST

वॉशिंगटन. दुनिया की दिग्गज टेक कंपनी गूगल को जल्द ही अमेरिका में दो मुकदमों का सामना करना पड़ सकता है। अमेरिका के न्याय विभाग और स्टेट अटॉर्नी जनरल के एक ग्रुप ने गूगल पर मुकदमा दर्ज करने की तैयारी शुरू कर दी है। यह मुकदमे एंटी ट्रस्ट (अविश्वास), विज्ञापन स्कैम और विज्ञापन एकाधिकार को लेकर दर्ज कराए जा सकते हैं। इस मामले से वाकिफ सूत्रों के हवाले से वॉल स्ट्रीट जनरल की रिपोर्ट में गूगल के खिलाफ जल्द से जल्द मुकदमे दर्ज कराए जाने का दावा किया गया है।

गूगल के ऑनलाइन एडवरटाइजिंग नेटवर्क की जांच
वॉल स्ट्रीट जनरल की रिपोर्ट के मुताबिक, टैक्सास के अटॉर्नी जनरल केन पैक्सटन भी गूगल पर मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी में हैं। मीडिया से बातचीत में पैक्सटन ने कहा कि हमारी जांच का प्राथमिक बिन्दु ऑनलाइन एडवरटाइजिंग नेटवर्क पर गूगल की असीमित पहुंच था। हमें लगता है कि गूगल के पास प्रत्येक मानव के जीवित रहने के बारे में 7,000 डेटा बिंदु हैं। वे ऑनलाइन एडवरटाइजिंग के जरिए खरीदने वालों, बेचने वालों और बाजार सभी पर कंट्रोल करते हैं, जिसको लेकर हम चिंतित हैं। इससे उन्हें बहुत अधिक शक्ति मिलती है।

गूगल के कारोबार समेत विज्ञापन और सर्च मॉडल की हो रही जांच

अमेरिका का न्याय विभाग और अटॉर्नी जनरल का ग्रुप गूगल के कारोबार और इसके विज्ञापन, सर्च और एंड्रॉयड मॉडल की जांच कर रहा है। इसके अलावा न्याय विभाग इस बात की भी जांच कर रहा है कि गूगल दूसरों को दबाने के लिए अपने सर्च कारोबार का किस तरह से इस्तेमाल करता है। वॉल स्ट्रीट जनरल की रिपोर्ट में कहा गया है, “हालांकि अभी तक न्याय विभाग के केस में अभी तक गूगल के खिलाफ कोई लीगल थ्योरी सामने नहीं आई है।” रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि दोनों जांच एजेंसियां संयुक्त रूप से भी केस फाइल कर सकती हैं।

जांच में कर रहे पूरा सहयोग

उधर गूगल ने एक बयान जारी कर कहा है कि न्याय विभाग और अटॉर्नी जनरल पैक्सटन की ओर से की जा रही जांच में पूरा सहयोग कर रहे हैं। इसके अलावा हम इस बारे में कोई प्रतिक्रिया नहीं दे सकते हैं। ना ही अनुमानों पर कुछ कहना चाहते हैं। गूगल इस जांच में अभी तक एजेंसियों को 1 लाख से ज्यादा कागजात सौंप चुकी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि यदि केस दायर होता है तो अमेरिका में 1990 के बाद किसी बड़ी टेक कंपनी के खिलाफ ऐसी कार्यवाही होगी। 1990 में बिल क्लिंटन प्रशासन ने माइक्रोसॉफ्ट के खिलाफ कार्यवाही की थी।