ईसीबी वेस्टडंडीज के बाद पाकिस्तान टीम को लाने के लिए भी चार्टर्ड फ्लाइट भेजेगी, इस पर करीब 5 करोड़ रु. खर्च होंगे

  • ईसीबी पाकिस्तान क्रिकेट टीम के होटल में रहने के अलावा खाने-पीने और ट्रैवल का सारा खर्चा उठाएगी
  • ईसीबी को पाकिस्तान और वेस्टइंडीज सीरीज के मीडिया राइट्स से 750 करोड़ रु. की कमाई का अनुमान, इसे सुरक्षित रखने के लिए वह सारा खर्चा उठा रही
  • पाकिस्तान टीम को इंग्लैंड दौरे पर अगस्त-सितंबर में 3 टेस्ट और इतने ही मैचों की टी-20 सीरीज खेलनी है

दैनिक भास्कर

Jun 14, 2020, 03:25 PM IST

इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) वेस्टइंडीज के बाद पाकिस्तान टीम को लाने के लिए चार्टर्ड फ्लाइट भेजेगी। इस पर करीब 5 करोड़ रुपए खर्च होंगे। दोनों देशों के क्रिकेट बोर्ड के बीच इस पर सहमति हो चुकी है। 

इसके बाद पाकिस्तान टीम इस महीने के अंत में ही इंग्लैंड चली जाएगी। पहले उसे जुलाई में जाना था। पाकिस्तान में कोरोना की वजह से हालात बिगड़ रहे हैं। इसी वजह से पीसीबी को टीम का ट्रेनिंग कैम्प भी रद्द करना पड़ा। अब पाकिस्तान टीम इंग्लैंड में ट्रेनिंग करेगी और इसका सारा खर्चा ईसीबी उठाएगी। इसमें खिलाड़ियों के होटल में ठहरने, खाने-पीने और ट्रैवल तक का खर्च शामिल है। वेस्टइंडीज के मामले में भी ईसीबी ही सारा खर्चा उठा रही है। 

ईसीबी को पाकिस्तान और वेस्टइंडीज सीरीज से मीडिया राइट्स के नाम पर ब्रॉडकास्टर्स (स्काय और बीबीसी) और स्पॉन्सर्स से करीब 100 मिलियन डॉलर (750 करोड़ रुपए) की कमाई का अनुमान है। ऐसे में इस कमाई को सुरक्षित रखने के लिए वह पाकिस्तान टीम का सारा खर्चा उठा रही है। फिर चाहें टीम को सुरक्षित माहौल में लाने के लिए चार्टर्ड फ्लाइट ही क्यों न भेजनी पड़े। 

दौरे के लिए हामी भरने से पीसीबी को कुछ मिल रहा?
ईसीबी पर यह आरोप लग रहे हैं कि उसने इंग्लैंड दौरे के लिए तैयार होने की एवज में वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड को तीन मिलियन डॉलर यानी 22.50 करोड़ रुपए का ब्याज मुक्त लोन दिया है। हालांकि, क्रिकेट वेस्टइंडीज ने इन आरोपों को खारिज किया है।

सीडब्ल्यूआई के अध्यक्ष रिकी स्केरिट कह चुके हैं कि यह आरोप गलत हैं। इसमें सिर्फ राजनीति है। अब पाकिस्तान के मामले में भी यही सवाल खड़ा हो रहा है कि उसे भी इंग्लैंड दौरा करने के एवज में ईसीबी से कुछ मिल रहा है?

इंग्लैंड से किसी तरह की सौदेबाजी नहीं हुई: मिस्बाह 

पाकिस्तान के हेड कोच और चीफ सिलेक्टर मिस्बाह-उल-हक ने इंग्लैंड दौरे के पीछे किसी भी तरह की सौदेबाजी से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि हमारे दिमाग में यह बात नहीं है कि हम इंग्लैंड दौरे पर जा रहे हैं तो बदले में ईसीबी में हमें कुछ दे या वो हमारे यहां खेलने आए। हमारे लिए ज्यादा जरूरी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की वापसी है। फिर वह कहीं भी हो। खिलाड़ियों का मैदान पर आना ही जरूरी है। 

2009 में श्रीलंका टीम की बस पर लाहौर में हुए आतंकी हमले के बाद से ही ज्यादातर टीमें पाकिस्तान दौरे पर नहीं जा रही हैं। हालांकि, इसी साल जनवरी में बांग्लादेश टीम पाकिस्तान दौरे पर गई थी। इंग्लैंड टीम 15 साल पहले पाकिस्तान गई थी। 

पाकिस्तान को इंग्लैंड के खिलाफ 3 टेस्ट की सीरीज खेलनी है

पाकिस्तान टीम को इंग्लैंड दौरे पर अगस्त-सितंबर में 3 टेस्ट और 3 टी-20 की सीरीज खेलनी है। पहला टेस्ट 30 जुलाई को लॉर्ड्स में खेला जाएगा। वहीं, टी-20 सीरीज की शुरुआत 29 अगस्त से होगी। इस दौरे के लिए पीसीबी ने बीते शुक्रवार को 29 सदस्यीय टीम का ऐलान किया था। इसके अलावा 4 खिलाड़ियों को रिजर्व में रखा गया है। पूर्व कप्तान सरफराज अहमद की 8 महीने बाद टीम में वापसी हुई है।

दौरे से पहले खिलाड़ियों का कोरोना टेस्ट होगा
टीम में रिजर्व खिलाड़ी के तौर पर बिलाल आसिफ, इमरान बट्ट, मूसा खान और मोहम्मद नवाज को शामिल किया गया है। इंग्लैंड जाने से पहले सभी 29 खिलाड़ियों का 20 और 25 जून को कोरोना टेस्ट होगा। इनमें से कोई पॉजिटिव पाया जाता है, जो रिजर्व खिलाड़ी उनकी जगह लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *