इस साल 3.1 फीसदी घट सकती है देश की जीडीपी, अगले साल विकास दर 6.9 फीसदी रहने की उम्मीद : मूडीज

  • अप्रैल-जून तिमाही दूसरे विश्व युद्ध के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए सबसे खराब तिमाही
  • चीन की विकास दर इस साल 1 फीसदी और अगले साल 7.1 फीसदी रहने का अनुमान

दैनिक भास्कर

Jun 22, 2020, 10:21 PM IST

नई दिल्ली. महामारी और लॉकडाउन के कारण देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 2020 में 3.1 फीसदी घट सकता है। यह बात वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज ने सोमवार को कही। एजेंसी के मुताबिक अगले साल 2021 में देश की जीडीपी में 6.9 फीसदी की बढ़ोतरी होने की उम्मीद है।

जुलाई के बाद से वैश्विक इकॉनमी में धीरे-धीरे तेजी वापस आएगी

एजेंसी ने यह भी कहा कि इस साल की दूसरी तिमाही (अप्रैल-जून) दूसरे विश्व यूद्ध के बाद वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए अब तक की सबसे खराब तिमाही होगी। मूडीज ने ग्लोबल मैक्रो आउटलुक रिपोर्ट में कहा कि दूसरी तिमाही में लॉकडाउन का वैश्विक गतिविधियों पर जो असर होगा वह पहले जताए गए अनुमान से ज्यादा बड़ा होगा। हालांकि इस साल की दूसरी छमाही (जुलाई-दिसंबर) की शुरुआत से वैश्विक अर्थव्यवस्था में धीरे-धीरे तेजी वापस आएगी।

जी20 समूह में चीन इस साल विकास दर्ज करने वाला एकमात्र देश होगा

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि जी20 देशों में चीन एकमात्र देश होगा, जो इस साल विकास दर्ज करेगा। चीन की विकास दर इस साल 1 फीसदी रहेगी। अगले साल चीन की विकास दर 7.1 फीसदी रह सकती है। जी-20 अर्थव्यवस्था में इस साल 4.6 फीसदी गिरावट आ सकती है। हालांकि 2021 में यह 5.2 फीसदी विकास दर्ज कर सकती है।

चीन के कारण दक्षिण पूर्व एशिया जोखिम का सामना कर रहा है

मूडीज की रिपोर्ट में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्र्रोल पर चीन और भारतीय सेना के बीच हुई झड़प की भी चर्चा की गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण चीन सागर से लगे देशों और भारत के साथ चीन का तनाव बढ़ा है। इसके कारण यह पूरा क्षेत्र जोखिम का सामना कर रहा है।

कोरोनावायरस के कारण अमीर देशों का कर्ज 20 फीसदी अंक बढ़ेगा

रेटिंग एजेंसी ने कहा कि कोरोनावायरस के कारण दुनिया के सबसे अमीर देशों का कर्ज इस साल करीब 20 फीसदी बढ़ जाएगा। यह 2008 के वित्तीय संकट में देखे गए कर्ज के स्तर के मुकाबले करीब दोगुना है।