इंडसइंड बैंक में वीडियो कॉल के जरिए खोल सकेंगे अकाउंट और बनवा सकेंगे क्रेडिट कार्ड, KYC के लिए नहीं जाना होगा बैंक

  • इससे पहले कोटक महिंद्रा बैंक ग्राहकों को वीडियो के जरिए KYC की परमिशन दे चुका है
  • इस साल जनवरी में ही आरबीआई ने वीडियो बेस्ड KYC प्रक्रिया को पूरा करने के लिए गाइडलाइंस जारी की थी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 01:20 PM IST

नई दिल्ली. कोरोनावायरस के कारण देश में जारी लॉकडाउन को देखते हुए इंडसइंड बैंक (Indusind Bank) ने अपने ग्राहकों के लिए वीडियो के जरिए KYC की परमिशन दी है। इससे बैंक में बचत खाता खुलवाने और क्रेडिट कार्ड बनवाना आसान होगा। वीडियो KYC सर्विस के जरिए नए ग्राहक इंडसइंड बैंक में बचत खाता खुलवाने की रिक्वेस्ट भेज सकते हैं और सभी औपचारिकताएं अपने घर से ही पूरी कर सकते हैं।

कैसे काम करेगा वीडियो KYC प्लेटफॉर्म
वीडियो केवाईसी के लिए ग्राहकों को बैंक द्वारा SMS या ईमेल के जरिए एक लिंक भेजा जाएगा। इस लिंक पर क्लिक करने के बाद ग्राहक वीडियो केवाईसी वेबपेज पर पहुंच जाएगा। इसके बाद ग्राहक को अपना मोबाइल नंबर डालना होगा और फिर इस पर आए ओटीपी के जरिए उसे ऑथेन्टिकेट किया जाएगा। इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद ग्राहक को वीडियो केवाईसी एजेंट से कनेक्ट कर दिया जाएगा। यह एजेंट ग्राहक से पैन, फोटो, सिग्नेचर, लोकशन ​आदि डिटेल्स लाइव वीडियो के जरिए हासिल करेगा। सभी डिटेल्स वीडियो बैंकिंग रिप्रेजेंटेटिव द्वारा प्रमाणित किए जाने के बाद आपका अकाउंट या क्रेडिट कार्ड बन जाएगा।

कोटक महिंद्रा बैंक भी दे रहा वीडियो KYC की सुविधा

कोटक महिंद्रा बैंक ग्राहकों को वीडियो के जरिए KYC की परमिशन दे रहा है। इससे किसी भी जगह से अकाउंट खोलने में आसानी होगी। बैंक ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि यह सुविधा केवल सेविंग्स अकाउंट के लिए है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग KYC सिस्टम के तहत कोटक महिंद्रा बैंका में ‘Kotak 811 savings account’ खोलने के​ लिए ग्राहकों को आधार और पैन कार्ड देना होगा। इसके लिए सबसे पहले ग्राहकों को बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर नया अकाउंट खोलने के लिए रिक्वेस्ट डालनी होगी। इसके बाद बैंक का एक अधिकारी ग्राहक के साथ वीडियो कॉल पर KYC प्रक्रिया को पूरा करेगा। बैंक ने बताया कि इस पूरे वीडियो को सेव किया जाएगा।

इसी साल आरबीआई ने दी थी इसकी परमिशन

इस साल जनवरी में ही आरबीआई ने वीडियो बेस्ड KYC प्रक्रिया को पूरा करने के लिए गाइडलाइंस जारी की थी। इसके पहले बैंकों को रिमोट एरिया में अकाउंट खोलने के लिए आधार डेटा पर निर्भर रहना पड़ता था।

क्या है KYC?

केवाईसी भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा संचालित एक पहचान प्रक्रिया है जिसकी मदद से बैंक और अन्य वित्तीय संस्थाएं अपने ग्राहक के बारे में अच्छे से जान पाती हैं। KYC यानि “नो योर कस्‍टमर” यानि अपने ग्राहक को जानिये। बैंक तथा वित्तीय कम्पनियां इसके लिए फॉर्म को भरवा कर इसके साथ कुछ पहचान के प्रमाण भी लेती हैं।