आसिफ ने पीसीबी से दूसरा मौका मांगा, कहा- मैं फिक्सिंग में शामिल होने वाला न तो पहला, न आखिरी पाकिस्तानी

  • मोहम्मद आसिफ ने कहा कि फिक्सिंग में शामिल कई गेंदबाज आज भी खेल रहे हैं, लेकिन मैं दोबारा मैदान पर लौट नहीं पाया
  • 2010 के इंग्लैंड दौरे पर आसिफ स्पॉट फिक्सिंग में शामिल पाए गए थे, दोषी पाए जाने पर उनपर 7 साल का बैन लगा 

दैनिक भास्कर

May 04, 2020, 03:56 PM IST

स्पॉट फिक्सिंग के दोषी पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज मोहम्मद आसिफ ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पर दूसरा मौका नहीं देने का आरोप लगाया है। आसिफ ने कहा कि फिक्सिंग में शामिल मैं कोई पहला या आखिरी गेंदबाज नहीं हूं। मेरे से पहले और बाद में भी कई पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने ऐसा किया। उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइंफो से यह बात कही। 

आसिफ ने कहा कि पीसीबी को मेरे साथ अच्छा बर्ताव करना चाहिए था, क्योंकि उसने फिक्सिंग में शामिल कई खिलाड़ियों को दूसरा मौका दिया था। 

‘पीसीबी ने मुझे कभी बचाने की कोशिश नहीं की’

इस पूर्व तेज गेंदबाज ने कहा कि हर कोई गलती करता है, मैंने भी की। मुझसे पहले और बाद में ऐसा करने वाले कई खिलाड़ी आज क्रिकेट खेल रहे हैं या पीसीबी के साथ काम कर रहे हैं। हालांकि, उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया। पीसीबी ने यह जानते हुए भी कि मैं ऐसा गेंदबाज हूं, जिसे दुनिया मानती है, कभी मुझे बचाने की कोशिश नहीं की। लेकिन, मैं ऐसा नहीं हूं कि जो अतीत के बारे में भी सोचकर परेशान होता रहे। 

मैं जितना भी खेला, उस पर मुझे फक्र: आसिफ 

आसिफ ने कहा कि मैं जितना भी खेला, उस पर मुझे फक्र है। मैंने दुनिया हिलाकर रख दी थी। मेरे लिए यह अहम है। इतने साल बीत जाने के बाद आज भी दुनिया के बड़े बल्लेबाज मेरे बारे में बात करते हैं। केविन पीटरसन, एबी डीविलियर्स, हाशिम अमला जैसे बल्लेबाज मुझे अच्छा गेंदबाज मानते हैं। इससे पता चल जाता है कि मैंने क्रिकेट की दुनिया पर अपनी कैसी छाप छोड़ी थी। 

2010 में इंग्लैंड दौरे पर स्पॉट फिक्सिंग की थी

2010 में पाकिस्तान के इंग्लैंड दौरे पर आसिफ स्पॉट फिक्सिंग में शामिल पाए गए थे। तब उन्होंने पैसों के लिए नो बॉल फेंकी थी। दोषी पाए जाने पर उन पर 7 साल का बैन लगा। इसी मामले में बल्लेबाज सलमान बट्ट भी दोषी पाए गए थे। दोनों को इस अपराध की वजह से जेल भी जाना पड़ा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *