अमेरिका के वर्ल्ड चैम्पियन क्रिस्टियन कोलमैन एक साल में 3 बार डोप टेस्ट के लिए सैंपल नहीं दे पाए, अस्थायी प्रतिबंध लगा

  • कोलमैन का दावा- जब टीम उनके घर पर सैंपल लेने गई थी, तब वे क्रिसमस की खरीदारी के लिए गए थे
  • 2019 की दोहा वर्ल्ड एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में कोलमैन ने 9.76 सेकेंड में 100 मीटर रेस में गोल्ड जीता था

दैनिक भास्कर

Jun 17, 2020, 04:24 PM IST

100 मीटर के वर्ल्ड चैम्पियन क्रिस्चियन कोलमैन को तीसरी बार भी डोपिंग के लिए सैंपल नहीं देने के कारण सस्पेंड कर दिया है। एथलेटिक्स इंटीग्रिटी यूनिट (एआईयू) ने बताया कि कोलमैन ने 16 जनवरी और 26 अप्रैल को भी सैंपल नहीं दे पाए थे। तीसरी बार  9 दिसंबर को सैंपल के लिए टीम उनके घर गई थी, लेकिन वे तब भी नहीं मिले।

कोलमैन ने दावा है कि तीसरी बार जब टीम उनके घर पर पहुंची, तब वे सिर्फ 5 मिनट की दूरी पर ही क्रिसमस की खरीदारी के लिए गए थे। यदि टीम कोशिश करती तो कोलमैन मिल जाते। हालांकि एआईयू ने अभी तक कोलमैन के दावों का जवाब नहीं दिया है।

कोलमैन ने कहा- बेगुनाही साबित करने की टेंशन लगी है
कोलमैन ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर कहा, ‘‘मैंने कभी भी अपने परफॉर्मेँस को बढ़ाने के लिए सप्लीमेंट्स या ड्रग्स नहीं लिए हैं। मुझे अपनी बेगुनाही साबित करने की टेंशन है। मैं अपने बचे हुए करियर के लिए कहीं भी किसी भी दिन सैंपल देने के लिए तैयार हूं। मेरे पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है। मुझे मौका नहीं दिया गया।’’

पिछले साल वर्ल्ड एथलेटिक्स में स्वर्ण जीता था
कोलमैन ने पिछले साल सितंबर में हुई दोहा वर्ल्ड एथलेटिक्स चैम्पियनशिप में गोल्ड जीता था। उन्होंने 100 मीटर रेस 9.76 सेकेंड में पूरी की थी। उन्होंने 2018 के विजेता जस्टिन गैटलिन को पीछे छोड़ दिया था।

लग सकता है दो साल का प्रतिबंध
कोलमैन पर वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी (वाडा) के नियमों के तहत एक साल में 3 बार सैंपल देने पर दो साल का प्रतिबंध लग सकता है। कोलमैन से पहले इस महीने के शुरुआत में एशिया की पहली वर्ल्ड चैम्पियन धावक सलवा ईद नसेर पर सैंपल नहीं देने के कारण अस्थायी तौर पर प्रतिबंध लगाया जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *