अमेरिका की बेरोजगारी दर मई में 14.7% से गिरकर 13.3% पर आई, रोजगार खुलने से फिर से मिल रहीं नौकरियां

  • रोजगार खुलने की संख्या बढ़ने से लोगों को भी तेजी से काम पर बुलाया जा रहा है
  • मई महीने के दौरान बेरोजगारी की दर श्वेत अमेरिकियों के लिए 12.4 प्रतिशत रही

दैनिक भास्कर

Jun 06, 2020, 03:00 PM IST

वाशिंगटन. कोविड-19 महामारी के बीच अमेरिका में बेरोजगारी की दर मई में अप्रत्याशित रूप से गिरकर 13.3 प्रतिशत पर आ गई। हालांकि, यह अभी भी महामंदी के दौरान की बेरोजगारी दर के आस-पास बनी हुई है। अमेरिकी सरकार ने शुक्रवार को कहा कि मई में 25 लाख लोगों को रोजगार मिला है। इससे बेरोजगारी दर अप्रैल के 14.7 प्रतिशत से गिरकर 13.3 प्रतिशत पर आ गई है।

देश के अंदर हजारों स्टोर, रेस्तरां, जिम और अन्य कंपनियां फिर से खुलने लगी हैं। जैसे-जैसे इनके खुलने की संख्या बढ़ रही, लोगों को रोजगार मिल रहा है, और कंपनियां लोगों को तेजी से काम पर बुला रही हैं। अमेरिका में बेरोजगारी दर घटने का फायदा भारत को भी मिलेगा।

बाजार से वायरस का असर खत्म
विश्लेषकों का मानना था कि मई में बेरोजगारी दर में बढ़ोतरी होगी, लेकिन इसके कम होने से विश्लेषक भी हैरान हैं। अर्थशास्त्रियों ने कई देश को चेतावनी दी थी कि विश्व-युद्ध के बाद बेरोजगारी दर 20% के उच्च स्तर तक जा सकती है। हालांकि, अब ऐसा माना जा रहा है कि कोरोनोवायरस महामारी के असर बाजार से खत्म हो रहा है।

मई महीने के दौरान बेरोजगारी की दर श्वेत अमेरिकियों के लिए 12.4 प्रतिशत रही। हालांकि, यह दर हिस्पैनिक लोगों के लिए 17.6 प्रतिशत और अफ्रीकी-अमेरिकियों के लिए 16.8 प्रतिशत रही। मई में आश्चर्यजनक तरीके से रोजगार सृजन के बाद भी अप्रैल और मार्च में छांटे गए लोगों को वापस काम मिलने में कई महीने लग सकते हैं।

अगले कुछ महीनों में तेजी आएगी
कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि बेरोजगारी की दर नवंबर में प्रस्तावित राष्ट्रपति चुनाव के बाद अगले साल भी 10 प्रतिशत से ऊपर रह सकती है। कार्नेल यूनिवर्सिटी में लेबर इकोनॉमिस्ट तथा लेबर डिपार्टमेंट्स ब्यूरो ऑफ लेबर स्टैटिस्टिक्स की पूर्व कमिश्नर एरिका ग्रोसेन ने कहा कि आने वाले महीनों में लोगों को नौकरियों पर रखे जाने में तेजी आ सकती है। इससे बेरोजगारी की दर साल के अंत तक कम होकर 10 प्रतिशत से कुछ अधिक रह सकती है।

नौकरी मिलने से रास्ता खुला
मार्च और अप्रैल में अमेरिकी नियोक्ता द्वारा 21 मिलियन (2.10 करोड़) से अधिक लोगों को नौकरियों से निकाला गया है, ऐसे में अभी छोटा सा रास्ता खुला है। लॉकडाउन के दौरान अमेरिका में कई व्यवसायों बंद हो गए थे। अप्रैल में बेरोजगारी दर 14.7% थी, जो 1930 के दशक की महामंदी के बाद का उच्चतम स्तर था।

इस बारे में लेबर सेक्रेटरी यूजीन स्कैलिया ने कहा कि रिपोर्ट से पता चला है कि आर्थिक पुन: उद्घाटन विचार से अधिक मजबूत है। उन्होंने कहा, “ऐसा लगता है कि देश के अंदर बाजारों से कोरोनोवायरस का बुरा प्रभाव पीछे छूट गया है।” इस खबर से देश के शेयर बाजार में भी सकारात्मक असर देखने को मिला है।

फिर से नौकरी मिलने के मामले में सिर्फ अमेरिका ही आगे नहीं बढ़ा है, बल्कि कनाडा में 290,000 लोगों को नौकरी मिली है। हालांकि, यहां बेरोजगार दर 3.7% है, जो 1976 की तुलना में उच्चतम स्तर पर है।

सरकार से आपातकालीन मदद मिली
शुक्रवार को अर्थशास्त्रियों ने चेतावनी दी कि आर्थिक सुधार का मार्ग अभी भी अनिश्चित है। उन्होंने बताया कि मई में लोगों को काम पर इसलिए रखा गया, क्योंकि सरकार ने व्यवसायों को आपातकालीन मदद के लिए अरबों डॉलर जारी किए थे।

पिछले महीने रेस्तरां और बार को किराए पर लेने से कई नौकरियां मिली। वहीं, डेंटिस्ट ऑफिस का इसमें 10% योगदान रहा। उन लोगों को भी इसका फायदा मिला जिन्होंने सर्वे के दौरान बताया था कि उनकी छंटनी अस्थाई थी।